US चुनाव में रूसी दखल: डेमोक्रेटिक पार्टी के दस्तावेज चुराकर चुनाव जीतने में ट्रंप की मदद…

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने फिनलैंड की राजधानी हेलसिंकी में अपने रूसी समकक्ष व्लादिमीर पुतिन से मुलाकात की. इस मुलाकात के बाद ट्रंप ने कहा कि उन्हें कोई वजह नजर नहीं आती जिसके लिए रूस ने 2016 में राष्ट्रपति चुनाव को प्रभावित करने की कोशिश की होगी. उन्होंने कहा कि पुतिन ने बेहद मजबूत तरीके से कहा कि अमेरिकी चुनाव में रूस की कोई भूमिका नहीं थी.US चुनाव में रूसी दखल: डेमोक्रेटिक पार्टी के दस्तावेज चुराकर चुनाव जीतने में ट्रंप की मदद...

हाल ही में अमेरिका के स्पेशल प्रोसीक्यूटर ने रूस के 12 एजेंट्स को डेमोक्रेटिक पार्टी के दस्तावेज चुराकर चुनाव जीतने में डोनाल्ड ट्रंप की मदद करने का दोषी पाया है. वन टू वन टॉक के बाद ट्रंप ने अमेरिका-रूस संबंधों में सुधार होने की घोषणा की. उन्होंने अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में रूस के कथित हस्तक्षेप की जांच को अमेरिका के लिए दुर्भाग्यपूर्ण बताया.

ट्रंप ने कहा, “हमने शानदार प्रचार किया और यही कारण है कि मैं राष्ट्रपति हूं. एक बार फिर इन आरोपों को सिरे से खारिज कर रहा हूं कि 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में हिलेरी क्लिंटन पर जीत में रूसी हैकिंग और दुष्प्रचार ने मदद पहुंचाई थी.” बैठक के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा , ‘मुझे लगता है कि यह सबके लिए एक अच्छी, काफी अच्छी शुरूआत है.’

पुतिन के साथ बैठक करने के ट्रंप के फैसले से अमेरिका में बहुत सारे लोग बेचैन थे, क्योंकि उन्हें चिंता थी कि ट्रंप पुतिन के साथ कोई बुरा सौदा ना कर लें. अमेरिकी आलोचकों ने 2016 के अमेरिकी चुनावों में रूस के कथित हस्तक्षेप की जांच में 12 रूसी सैन्य एजेंटों को अभ्यारोपित किए जाने के बाद ट्रंप से हेलसिंकी शिखर वार्ता रद्द करने की भी मांग की थी.

ट्रंप ने कहा कि वह दोनों देशों के बीच ‘असाधारण संबंधों के निर्माण’ को लेकर आशान्वित हैं. दोनों नेताओं के बीच सीरिया, यूक्रेन से लेकर चीन और व्यापार शुल्क से लेकर अपने परमाणु आयुधों जैसे तमाम मुद्दों पर चर्चा हुई. फुटबॉल विश्व कप की सफल मेजबानी के लिए ट्रंप और दूसरे वैश्विक नेताओं की बधाइयों का आनंद उठा रहे पुतिन ने कहा, ‘हमारे संबंधों एवं दुनिया की समस्याओं को लेकर एक मजबूत तरीके से बात करने का समय आ गया है.’

ट्रंप ने कहा, ‘बेबाकी से कहूं तो पिछले कुछ सालों से दोनों देशों के संबंध अच्छे नहीं रहे हैं. और मुझे सच में लगता है कि दुनिया हमारे बीच अच्छे संबंध देखना चाहती है. हम दो बड़ी परमाणु शक्तियां हैं.’ मुलाकात से पहले ही डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिका और रूस के बीच तनावपूर्ण संबंधों का ठीकरा अपने पूर्ववर्तियों पर फोड़ा था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

China के सबसे ‘शक्तिशाली’ व्‍यक्ति की चेतावनी, ट्रेड वार से होगी सबसे ज्‍यादा बर्बादी

चीन के सबसे अमीर और शक्तिशाली व्‍यक्ति जैक मा ने