Home > राष्ट्रीय > रातो-रात करोड़पति बन गया यह छात्र, अचानक खाते में आए 5,55,55,555 रुपये

रातो-रात करोड़पति बन गया यह छात्र, अचानक खाते में आए 5,55,55,555 रुपये

उत्तरप्रदेश के बाराबंकी में एक छात्र उस वक्त हैरान रह गया जब उसके खाते में अचानक 5 करोड़ 55 लाख 55 हजार 555 रुपये आ गए.

मिली जानकारी के मुताबिक, सेंट्रल एकेडमी में पढ़ने वाले इंटर के छात्र केशव शर्मा का अकाउंट स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की सट्टी बाजार शाखा में है.

केशव के पिता नरेंद्र शर्मा को 16 मार्च के दिन मोबाइल पर अचानक बैंक की तरफ से एक एसएमएस आया. इससे पता चला कि उनके बेटे के बैंक अकाउंट में अचानक 5 करोड़ 55 लाख 55 हजार 555 रुपए आ गए हैं. इतनी बड़ी रकम का मैसेज देखकर छात्र और उसके परिजनों के होश उड़ गए.

फिर नरेंद्र शर्मा ने पैसे आने के कुछ घंटों बाद अकाउंट चैक किया तो देखा कि खाते से सारी रकम वापस हो गई.  साथ ही छात्र के अकाउंट में पहले से जमा 1 लाख 27 हजार रुपए की राशि भी चली गई जो उसे अकाउंट में पहले से पड़ी थी.

इस बारे में छात्र केशव शर्मा ने बताया कि 5,55,55,555 जमा रुपये के एसएमएस को पढ़नें के बाद नेट बैंकिंग लॉग इन कर जब मैंने अपने अकाउंट का स्टेटमेंट देखा तो उसमें मेरे खाते का बैलेंस जीरो दिखा रहा था. जबकि लीन अकाउंट में 5 करोड़ 55 लाख 55 हजार 555 रुपए दिखा रहा था.

परिजन इसे स्टेट बैंक ऑफ इंडिया बैंक की लापरवाही बताते हुए अपने पैसों की मांग कर रहे हैं. उनका कहना है कि उनके बेटे के अकाउंट में जो उनके पैसे पड़े थे वह तो बैंक उन्हें वापस कर दे.

हैरत की बात तो यह कि जब बैंक के कस्टमर केयर पर बात की गई तो पता चला कि खाता फ्रीज कर दिया गया है. साथ ही बताया कि पूरे मामले की जांच के बाद आपका पैसा 1 लाख 27 हजार रुपए वापस हो जाएगा. हालांकि, बैंक बंद होने की वजह से कोई स्पष्टीकरण नहीं आया. बता दें कि छात्र केशव शर्मा के पिता नरेन्द्र शर्मा केरोसिन डिपो में नौकरी करते हैं. बेटे के अकाउंट में इतना भारी भरकम अमाउंट आने से सभी लोग हैरान और परेशान हैं.

Loading...

Check Also

अपनी पार्टी की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में उपेंद्र कुशवाहा होंगे शामिल, छोड़ सकते हैं एनडीए का साथ

अपनी पार्टी की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में उपेंद्र कुशवाहा होंगे शामिल, छोड़ सकते हैं एनडीए का साथ

रालोसपा अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने शुक्रवार को कहा कि बिहार में सत्तारूढ़ राजग के घटक …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com