दो राज्‍यों में बना है यह घर, आंगन राजस्‍थान में है तो कमरे हरियाणा में

- in राजस्थान

नई दिल्‍ली: कभी ऐसा मकान देखा है जिसका आगे का हिस्‍सा एक राज्‍य तो पीछे की बाउंड्री दूसरे राज्‍य में आती हो. राजस्थान-हरियाणा की सीमा पर ऐसा एक मकान मौजूद है. इसके बारे में मशहूर है कि आप मकान में राजस्‍थान से प्रवेश करेंगे तो निकलेंगे हरियाणा में. यह मकान पुराने स्‍टाईल का बना हुआ है. इसमें आंगन और कई बड़े कमरे हैं. यह मकान राजस्‍थान के भिवाड़ी और हरियाणा के रेवाड़ी जिले में आता है. पानी की सप्‍लाई राजस्‍थान से होती है. यह मकान इसलिए भी चर्चा में रहता है क्‍योंकि यहां रहने वाला राजनीति से ताल्‍लुक रखता है. परिवार के दो सदस्‍य चाचा और भतीजा नगर पार्षद हैं. लेकिन एक हरियाणा के सदन में पार्षद है तो दूसरा राजस्‍थान के वार्ड का. चाचा कृष्ण दायमा धारूहेड़ा नगर पालिका (हरियाणा) जबकि भतीजा हवा सिंह दायमा भिवाड़ी (राजस्थान) में पार्षद हैं. 

दो राज्‍यों में बना है यह घर, आंगन राजस्‍थान में है तो कमरे हरियाणा मेंदो राज्‍यों में बना है यह घर, आंगन राजस्‍थान में है तो कमरे हरियाणा में

चाचा हरियाणा के वोटर तो भतीजा राजस्‍थान का
कृष्ण 2008 व 2014 में पार्षद रहे हैं वहीं हवा सिंह 2009 व 2014 में चुनाव जीते थे. परिवार के सदस्‍य भी अलग-अलग जगह वोटर हैं. कृष्‍ण दायमा राजस्‍थान के वोटर थे लेकिन 2008 में उन्‍होंने पता बदलकर हरियाणा का कर लिया और यहां के वोटर बन गए. वहीं हवा सिंह का परिवार राजस्‍थान का ही वोटर है. परिवार को यहां रहते आधी सदी से ज्‍यादा समय हो गया. 

मोबाइल पर लगता है रोमिंग चार्ज
दैनिक भास्‍कर में छपी खबर के मुताबिक चाचा-भतीजे ने अलग-अलग नाम से बिजली कनेक्‍शन ले रखा है. यानी एक ने राजस्‍थान तो दूसरे ने हरियाणा से. ऐसा इसलिए क्‍योंकि मकान में उन्‍होंने कुछ दुकानें निकाल रखी हैं. इसलिए दोनों को बिजली अलग-अलग मिलती है. वहीं मोबाइल नेटवर्क परिवार के सभी सदस्‍यों को परेशान करता है. कारण घर में एक कमरे से दूसरे में जाने में ही रोमिंग चार्ज लग जाता है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

…तो इस वजह से सीएम राजे की 52 हजार करोड़ की योजनाओं से खफा हुई कांग्रेस

नई दिल्‍ली: राजस्‍थान के चुनावी मौसम में इन दिनों वादों