अंबानी के इस एक फैसले ने इस शख्स को किया तबाह, लगा 45 हजार करोड़ का चूना

भारत के सबसे अमीर शख्स मुकेश अंबानी की वजह से एक शख्स की 12 साल की मेहनत मिट्टी में मिलने की कगार पर पहुंच चुकी है। इस शख्स ने पिछले 12 साल में काफी मेहनत के बाद कंपनी खड़ी की थी, जो अब दीवालिया होने की कगार पर पहुंच चुकी है। अंबानी के जियो की मार्केट में एंट्री का सबसे बड़ा नुकसान इस कंपनी को उठाना पड़ा और अब तक इस शख्स को 45 हजार करोड़ रुपए का नुकसान हो चुका है।

अंबानी के इस एक फैसले ने इस शख्स को किया तबाह, लगा 45 हजार करोड़ का चूना

 

यहां हम बात कर रहे हैं टेलीकॉम कंपनी एयरसेल के स्वामित्व वाली कंपनी मैक्सिस के संस्थापक टी. आनंदा कृष्णन की। भारतीय टेलिकॉम इंडस्‍ट्री की जानी-मानी कंपनी अब Aircel दिवालिया होने की कगार पर है। Aircel पर रिलायंस जियो का ऐसा असर पड़ा है कि टी आनंदा कृष्णन की 12 साल की मेहनत पर पानी फिर गया है और उसे 45 हजार करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। दरअसल, टी आनंदा कृष्णन मलेशिया के बिजनेस टायकून हैं और उनकी होल्डिंग कंपनी मैक्सिस कम्‍युनिकेशन का एयरसेल में 45 हजार करोड़ रुपए से ज्‍यादा का निवेश है। यह निवेश पिछले 12 सालों में किया गया है। लेकिन ब्‍लूमबर्ग की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक एयरसेल के दिवालिया होने की स्थिति में कृष्‍णन के सारे पैसे डूब जाएंगे।  कृष्णन एयरसेल की बुरी हालत को बुरे सपने से कम नहीं मानते।

 

ब्‍लूमबर्ग के मुताबिक कृष्‍णन ने 2006 से निवेश का सिलसिला शुरू किया। दरअसल,  हावर्ड बिजनेस स्कूल से ग्रेजुएट कृष्‍णन की पहचान मलेशिया के टॉप अमीरों में होती है। उनके तब के देश के पूर्व प्रधान मंत्री महाशीर मोहम्मद से अच्‍छे रिश्‍ते थे। यही वजह थी कि मलयेशिश की टेलिकॉम इंडस्‍ट्री में भी कृष्‍णन के फर्म मैक्सिस कम्‍युनिकेशन का प्रभाव था और उन्‍होंने कई टेलिकॉम कंपनियों में निवेश किया। 

अभी-अभी: मेघालय में UDP भी आई NPP-BJP गठबंधन के साथ, शाम 5 बजे पेश करेंगे सरकार का दावा

 

हालांकि मलेशिया के टेलिकॉम इंडस्‍ट्री में सुस्‍त ग्रोथ था। यही वजह थी कि कृष्‍णन ने अपने कारोबार का विस्‍तार करना शुरू किया। इसी कड़ी में उन्‍होंने भारतीय टेलिकॉम मार्केट में एंट्री की। कृष्‍णन की फर्म ने 2006 में ऐसे समय में भारतीय मार्केट में एंट्री ली जब यहां टेलिकॉम इंडस्‍ट्री का विस्‍तार हो रहा था और मोबाइल यूजर्स की संख्‍या बढ़ रही थी। ब्‍लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक कृष्‍णन को इस बात का अंदाजा था कि भारतीय मार्केट में उनकी मैक्सिस कम्‍युनिकेशन का ग्रोथ है। यहां उन्‍होंने Aircel को सफल बनाने के लिए 45 हजार करोड़ का बड़ा निवेश किया। 79 साल के कृष्‍णन मलेशिया के तीसरे सबसे अमीर शख्‍स हैं। ब्‍लूमबर्ग बिलिनियर इंडेक्‍स के मुताबिक उनकी कुल संपत्ति 6.1 बिलियन डॉलर है। फोर्ब्‍स मैगजीन ने उन्‍हें दुनिया के सबसे अमीर लोगों की सूची में 219वें स्‍थान पर रखा है।

 

You may also like

मां का दूध बच्चे के लिए सर्वोत्तम आहार : डॉ. सुहासिनी

हिमालया ड्रग कंपनी की आयुर्वेद एक्सपर्ट ने दिये