गांगुली को लेकर अस्पताल से आई ये बड़ी खबर, नहीं होगी…

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और मौजूदा बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली के लिए बीती रात काफी बेहतर रही. वुडलैंड्स अस्पताल ने बयान जारी कर गांगुली की हेल्थ पर अपडेट दिया है. वुडलैंड्स अस्पताल ने अपने बयान में कहा कि गांगुली के दिल की नसों में बाकी ब्लॉकेज के लिए और एंजियोप्लास्टी नहीं की जाएगी, क्योंकि वह पहले से काफी बेहतर हैं. 

वुडलैंड्स अस्पताल के 8 सदस्यों की चिकित्सा बोर्ड की मीटिंग आज सुबह 11:30 बजे हुई, जिसमें सौरव गांगुली के परिवार के सदस्यों के साथ आगे की उपचार योजनाओं पर चर्चा हुई. बोर्ड के सदस्यों ने सौरव गांगुली के मेडिकल रिकॉर्ड और उनके मौजूदा हाल की समीक्षा की. 

सौरव गांगुली के हार्ट में दो कोरोनरी ब्लॉकेज यानी LAD और OM2 को एंजियोप्लास्टी द्वारा क्लियर किया गया. बोर्ड की मीटिंग में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि फिलहाल गांगुली की आगे और कोई एंजियोप्लास्टी नहीं होगी, क्योंकि गांगुली स्थिर हैं और उनमें अच्छा सुधार देखने को मिल रहा है. 

बोर्ड की बैठक के दौरान गांगुली के परिवार के सदस्य भी मौजूद थे और उन्हें आगे की उपचार योजनाओं के बारे में बताया गया. इलाज करने वाले डॉक्टर्स गांगुली के स्वास्थ्य की स्थिति पर निरंतर निगरानी रखेंगे और अस्पताल से छुट्टी होने पर घर पर भी उनके लिए स्वास्थ्य संबंधी प्लान तैयार किए जाएंगे.  

इससे पहले अस्पताल की ओर से बयान में कहा गया था कि सौरव गांगुली ने रविवार रात 10 बजे खाना खाया. उन्होंने डिनर में दाल, सब्जी, चावल और कस्टर्ड लिया. बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली डॉ सरोज मंडल, डॉ सौतिक पांडा, डॉ सप्तर्षि बासु की निगरानी में हैं. बता दें कि सौरव गांगुली की तबीयत शनिवार (2 जनवरी) सुबह अचानक खराब हो गई थी.

गांगुली को अपने घर के जिम में वर्कआउट करने के दौरान सीने में दर्द हुआ. इसके बाद परिजनों ने उन्हें तुरंत कोलकाता के वुडलैंड्स अस्पताल में एडमिट कराया. 48 वर्षीय सौरव गांगुली की एंजियोप्लास्टी की गई. कोलकाता के वुडलैंड्स अस्पताल में उनका इलाज करने वाले डॉ. आफताब खान ने बताया था कि सौरव गांगुली की एंजियोप्लास्टी हुई है. 

वुडलैंड्स अस्पताल की सीईओ डॉ. रूपाली बसु और डॉ. सरोज मंडल ने बताया था कि उनके हार्ट में कई ब्लॉकेज थे, जो ‘क्रिटिकल थे’. उन्हें स्टेंट लगाया गया. अस्पताल के डॉक्टरों ने कहा कि गांगुली के परिवार में ‘इसकैमिक हार्ट डिजीज’ को इतिहास रहा है. इस बीमारी में सीने में दर्द या असहजता पैदा होती है जो हृदय के किसी हिस्से में पर्याप्त रक्त नहीं मिलने के कारण होता है. 

ऐसा अधिकतर उत्साह या उत्तेजना के दौरान होता है, जब हृदय के रक्त के अधिक प्रवाह की जरूरत होती है. रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी गांगुली का हालचाल जाना. उन्होंने उनकी पत्नी डोना गांगुली से बातचीत की. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी उनसे मिलने अस्पताल पहुंची थीं.

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button