पंजाब में आज खैहरा कर सकते हैं ये बड़ा खुलासा…

चंडीगढ़। पंजाब आप में उबाल अा गया है। आम आदमी पार्टी के केंद्रीय नेतृत्‍व ने सुखपाल सिंह खैहरा को पार्टी विधायक दल के नेता पद से हटा दिया है। इसके साथ ही पंजाब विधानसभा में उनका नेता विपक्ष का पद भी उनसे छिन गया है। बताया जाता है कि खैहरा आज बड़ा खुलासा कर सकत हैं और आप नेतृत्‍व के खिलाफ सीधे मोर्चा खोल सकते हैं। उधर वरिष्ठ नेता कंवर संधू ने भी आप विधायक दल का प्रवक्ता पद छोड़ने का ऐलान किया है।पंजाब में आज खैहरा कर सकते हैं ये बड़ा खुलासा...

वरिष्‍ठ आप नेता कंवर संधू ने आप विधायक दल का प्रवक्‍ता पद छोड़ा

वीरवार को पार्टी के प्रदेश प्रभारी मनीष सिसोदिया ने ट्वीट कर कहा था कि खैहरा को नेता विपक्ष के पद से हटा दिया गया है और उनकी जगह हरपाल सिंह चीमा आप विधायक दल व पंजाब विधानसभा में नेता विपक्ष होंगे। दूसरी ओर, आप के वरिष्‍ठ नेता कंवर संधू ने ट्वीट कर चीमा को अाप विधायक दल का नेता बनाए जाने पर बधाई दी है। इसके साथ ही कंवर संधू ने तुरंत प्रभाव से आप विधायक दल के प्रवक्‍ता पद को छोड़ने की इच्‍छा जताई है।

आम आदमी पार्टी में फिर मचेगा घमासान, अब आगे की राह नहीं आसान

बता दें कि आम आदमी पार्टी की पंजाब इकाई में काफी दिनाें से खींचतान और रस्‍साकसी चल रही थी। दो दिन पहले ही खैहरा ने विधायक दल की बैठक बुलाकर अपनी शक्ति का प्रदर्शन किया था। आप विधायक दल के नेता पद से हटाए जाने से पार्टी की पंजाब इकाई में कलह और खींचतान तेज होने की संभावना है।

नेता प्रतिपक्ष बनने के बाद से ही खैहरा थे निशाने पर, कांग्रेस व अकाली दल को हमेशा खड़ा किया कठघरे में

हरपाल सिंह चीमा दिड़बा से विधायक हैं। आप के पंजाब प्रभारी मनीष सिसोदिया ने ट्वीट किया है कि ‘ आप ने पंजाब में अपना नेता विपक्ष बदलने का फैसला किया है। दिड़बा विधानसभा क्षेत्र के विधायक हरपाल सिंह चीमा पंजाब विधानसभा में नेता विपक्ष होंगे।

 खैहरा बोले- सच के लिए सौ एेेसे पद कुर्बान

उधर, सुखपाल सिंह खैहरा ने भी पूरे मामले पर ट्वीट किया है। खैहरा ने ट्वीट में कहा है कि मैंने नेता विपक्ष का पद तुरंत छोड़ दिया है। मैंने नेता विपक्ष के तौर पर पूरी निष्‍ठा, गंभीरता और निर्भीक होकर पंजाब व पंजाबियाें की भलाई के लिए कार्य किया। यदि सच बोलने और पंजाब व प‍ंजाबियों का समर्थन करने से यह पद जाता है तो मुझे यह मंजूर है। सच आैर न्‍याय के लिए एक क्‍या ऐसे 100 पद कुर्बान हैं।

कांग्रेस, शिअद व भाजपा जो चाहती थी, पार्टी ने कर दिया

सुखपाल खैहरा ने नेता प्रतिपक्ष के पद से हटाए जाने के बाद ट्वीट करके कहा कि कांग्रेस, शिरोमणि अकाली दल तथा भारतीय जनता पार्टी जो चाहती थी, पार्टी ने वह कर दिया। मैं इस फैसले से आश्चर्यचकित नहीं हूं। उन्‍होेंने फोन पर बातचीत में बताया कि वह पंजाब के हितों की लड़ाई नहीं छोड़ेंगे।

बता दें के पिछले दिनों एक वीडिया जारी की खैहरा ने कहा था कि बीते दिनों पटियाला में खैहरा के दौरे को लेकर डाॅ. बलबीर सिंह ने आरोप लगाए हैं कि खैहरा अब पैसे लेने लगे हैं।खैहरा ने बलबीर पर सीधा आरोप लगाया था कि उन्होंने कुछ कार्यकर्ताओं के बीच में यह बात कही है कि खैहरा पैसे लेने लगे हैं। खैहरा ने अपनी सफाई में कहा था कि वह पटियाला गए थे और एक कार्यकर्ता के आवास पर कुछ पार्टी के नेताओं से मिले भी थे। वहां पर एक नेता ने अपनी बहन की शादी का कार्ड दिया था। इसके अलावा किसी से भी उन्होंने कुछ नहीं लिया। कुछ लोग उनकी छवि खराब करने की कोशिश कर रहे हैं।

इसके जवाब में डाॅ. बलबीर ने कहा था कि ऐसा कुछ भी नहीं हुआ है। अगर कोई बात थी भी तो खैहरा को पार्टी फोरम पर यह बात करनी चाहिए थी। इस मामले को लेकर खैहरा ने पंजाब के प्रभारी मनीष सिसोदिया से भी लिखित शिकायत की थी। सिसोदिया ने अपने स्तर से मामले की पड़ताल शुरू कर दी।

खैहरा को भी यह बात अच्छी तरह से पता थी कि दिल्ली हाईकमान में उनकी पैठ कमजोर है। यही वजह है कि कि ताजा मामले को लेकर खैहरा ने पार्टी के विधायकों की बैठक विधानसभा परिसर में स्थित पार्टी दफ्तर में बुलाई।

16 महीने में नेता प्रतिपक्ष पद पर तीसरा बदलाव, आप के लिए नकारात्‍मक संकेत की आशंका

कैबिनेट मंत्री के रैंक वाले इस पद पर पार्टी ने 16 महीनों में तीसरा फेरबदल कर पंजाब में अपनी राह में कांटे बिछा लिए हैं। लोकसभा चुनाव में आप की राह और मुश्किल हो गई है। गुटबाजी का शिकार होने के बाद प्रदेश से खत्म हो चुके आप के जनाधार में अब खैहरा व उनकी टीम सबसे बड़ी बाधा के रूप में सामने आ सकती है।

कांग्रेस में रहते हुए कैप्टन अमरिंदर सिंह का विरोध करने वाले खैहरा को आप ने  एडवोकेट एचएस फूलका की जगह नेता प्रतिपक्ष बनाया था। उसके बाद खैहरा ने सबसे पहले अपने सियासी दुश्मन व कांग्रेस नेता राणा गुरजीत सिंह को रेत खनन के ठेकों पर कब्जे को लेकर घेरा और राणा को कैबिनेट मंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा। करीब एक साल तक नेता प्रतिपक्ष रहने के दौरान खैहरा कांग्रेस व अकाली दल के लिए हमेशा मुश्किलें खड़ी करते रहे। अरविंद केजरीवाल और पार्टी की पंजाब विरोधी नीतियों की भी उन्होंने खुलकर आलोचना की। यही वजह थी कि हमेशा ही वह सभी के निशाने पर रहे।

इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता है कि तेज तर्रार नेता की छवि रखने वाले खैहरा ने इस पद पर रहते हुए अपने सियासी हित भी साधे। हाल ही में पटियाला के कुछ कार्यकर्ताओं से पैसे लेने के मामले को लेकर खैहरा और प्रदेश सह प्रधान डा. बलबीर सिंह आमने-सामने हो गए थे। सिसोदिया ने मामले की जांच के बाद खैहरा को हटाने का फरमान जारी कर दिया। 

पार्टी में घमासान होना तय

खैहरा को हटाने के बाद पार्टी में घमासान होना तय है। खैहरा के साथ कम से कम 10 विधायक हैं। तीन दिन पहले खैहरा द्वारा शक्ति प्रदर्शन के लिए बुलाई बैठक में 20 में से 16 विधायक शामिल हुए थे। इसके बाद वह पार्टी हाईकमान के सीधे निशाने पर आ गए थे। एक तरफ खैहरा पार्टी विधायकों के साथ बैठक कर रहे थे तो दूसरी तरफ डा. बलबीर सिंह ने संदेश दिया कि वह पूरे दिन मीडिया के लिए मोहाली में उपलब्ध हैं। उम्मीद है कि खैहरा पार्टी हाईकमान से दो-दो हाथ जरूर करेंगे। अगर वे चुप हो गए तो सियासी तौर पर उनका करियर डगमगा सकता है।

खैहरा आज करेंगे बड़ा खुलासा

सुखपाल खैहरा शुक्रवार को चंडीगढ़ में कोई बड़ा खुलासा कर सकते हैं। अभी उन्होंने अपने पत्ते नहीं खोले हैं, लेकिन अपनी नाराजगी जता दी है। उनके करीबियों की मानें तो वे अपने साथी विधायकों के साथ आप के खिलाफ सीधा मोर्चा भी खोल सकते हैैं।
चीमा के सहारे अनुसूचित जाति वोट बैंक पर आप की नजरें

चीमा अनुसूचित जाति से संबंध रखते हैं। इसलिए आप ने लोकसभा चुनाव में अनुसूचित जाति वोट बैंक के मद्देनजर चर्चित चेहरों को दरकिनार कर चीमा पर दांव खेला है। हालांकि चीमा का कद पहले पार्टी को बड़ा करना चाहिए था, क्योंकि खैहरा को हटाने को लेकर पार्टी के अंदर चार माह से विचार हो रहा है। खास तौर पर मनीष सिसोदिया के हाथ में कमान आने के बाद से खैहरा उनके भी निशाने पर थे।

मेरे लिए खैहरा सीनियर नेता: चीमा

नेता प्रतिपक्ष बनने के बाद हरपाल चीमा ने कहा है कि सुखपाल खैहरा सीनियर नेता हैैं। वह सभी को साथ लेकर चलेंगे और पार्टी द्वारा सौंपी जिम्मेदारी को तनदेही से निभाएंगे। खैहरा को हटाने के बाद बढऩे वाली गुटबाजी को लेकर कहा कि पार्टी में कोई गुटबाजी कभी थी ही नहीं, आगे भी नहीं होगी। सभी विधायक पार्टी के साथ हैं।

Loading...

Check Also

अनंत कुमार के निधन पर नीतीश कुमार ने जताया शोक, कहा- 'अच्छे कामों के लिए याद किए जाएंगे'

अनंत कुमार के निधन पर नीतीश कुमार ने जताया शोक, कहा- ‘अच्छे कामों के लिए याद किए जाएंगे’

पटना : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार के निधन पर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com