आतंकवाद से निपटने के लिए ‘आतंकवाद निरोधक सम्मेलन’ में ये 6 देश होंगे शामिल, भारत की मौजूदगी महत्वपूर्ण

भारत आतंकवाद के मसले पर पाकिस्तान को उसके घर में ही घेरेगा। शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के बैनर तले बुधवार से इस्लामाबाद में शुरू होने वाले आतंकवाद निरोधक सम्मेलन में भारत अपना प्रतिनिधिमंडल भी भेजेगा। पाकिस्तानी विदेश कार्यालय ने मंगलवार को यह जानकारी दी। पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक, भारत और पाकिस्तान दो परमाणु संपन्न देशों के बीच हालिया तनाव के बावजूद भारतीय प्रतिनिधिमंडल इस सम्मेलन में भाग लेने जा रहा है। आतंकवाद से निपटने के लिए 'आतंकवाद निरोधक सम्मेलन' में ये 6 देश होंगे शामिल, भारत की मौजूदगी महत्वपूर्ण

 

इस्लामाबाद में शुरू हो रहे आतंकवाद निरोधक सम्मेलन में भारत भेजेगा प्रतिनिधिमंडल 

बता दें कि भारत के साथ ही जून 2017 में शंघाई सहयोग संगठन का सदस्य बनने के बाद पाकिस्तान पहली बार इस बैठक की मेजबानी करने जा रहा है। सम्मेलन में शंघाई सहयोग संगठन के आठ सदस्य देशों ‘चीन, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, भारत, रूस, ताजिकिस्तान, उजबेकिस्तान और पाकिस्तान के विशेषज्ञ भाग लेंगे। बयान में कहा गया है कि एससीओ रीजनल एंटी टेररिस्ट स्ट्रक्चर के प्रतिनिधि भी बुधवार से शुरू हो रहे तीन दिवसीय सम्मेलन में हिस्सा लेंगे। बैठक में विधि विशेषज्ञ क्षेत्र में मौजूद आतंकवाद के खतरे और आतंकवाद निरोधक प्रयासों के तौर तरीकों पर चर्चा करेंगे।   

सम्मेलन में भारत की मौजूदगी काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि उसने वर्ष 2016 में यहां होने वाले दक्षेस (सार्क) शिखर सम्मेलन का बहिष्कार किया था। उस वक्त इसकी वजह पाकिस्तान द्वारा लगातार आतंकवाद को समर्थन देना बताया गया था। 

भारत और पाकिस्तान के बीच दूरियों की वजह आतंकवाद

पाकिस्तान द्वारा आतंकवाद को संरक्षण दिए जाने के कारण ही भारत उसके साथ द्विपक्षीय बैठक नहीं कर रहा है। यही नहीं कश्मीर में पाकिस्तान द्वारा आतंकियों को शह देने को लेकर भी भारत नाराज है। इस लिहाज से भी आतंकवाद निरोधक सम्मेलन में भारत का शामिल होना अहम है। 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

अमेरिका के मध्यावधि संसदीय चुनाव में 12 भारतवंशी मैदान में

अमेरिका में छह नवंबर को होने वाले मध्यावधि