दिल्ली में एक बार फिर आप-कांग्रेस के गठबंधन पर नही बनी बात 

- in दिल्ली, राजनीति

दिल्ली में चुनावी गठबंधन को लेकर आम आदमी पार्टी (आप) की तरफ से किए जा रहे दावे को दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन ने एक बार फिर से खारिज कर दिया है। उनका कहना है, जिसे जनता नीचे गिरा रही है, उसके साथ कांग्रेस क्यों गठबंधन करेगी। कांग्रेस का ग्राफ तेजी से सुधर रहा है और वह अपने दम पर लोकसभा चुनाव लड़ेगी। माकन प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उधर, पंजाब में आप के प्रदेश अध्यक्ष और नेता विपक्ष सुखपाल सिंह खैहरा ने कहा कि भाजपा को रोकने के लिए कांग्रेस से भी समझौता हो सकता है। दिल्ली में एक बार फिर आप-कांग्रेस के गठबंधन पर नही बनी बात 

उन्होंने कहा कि दिल्ली में कांग्रेस का कोई भी नेता या कार्यकर्ता नहीं चाहता है कि आप के साथ कोई समझौता हो। इसके दो कारण हैं। पहला, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनकी पार्टी की लोकप्रियता तेजी से गिर रही है। दूसरा, अन्ना आंदोलन के माध्यम से केजरीवाल ने कांग्रेस को बदनाम करके नरेंद्र मोदी के लिए सियासी जमीन तैयार की थी। माकन ने कहा कि काम नहीं करने की वजह से आप सरकार के प्रति लोगों में भारी नाराजगी है। उन्होंने दिल्ली विधानसभा और नगर निगम के साथ ही विस उप चुनाव में आप और कांग्रेस को मिले मत का जिक्र करते हुए दावा किया कि आप का ग्राफ गिर रहा है।

अन्ना आंदोलन में किया कांग्रेस को बदनाम
अन्ना आंदोलन में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, बाबा रामदेव, किरण बेदी, जनरल वीके सिंह के साथ मिलकर अरविंद केजरीवाल ने कांग्रेस को बदनाम किया था, जबकि भाजपा या उसके सहयोगी दलों के खिलाफ कुछ नहीं बोला।

दिल्ली में आप ने पांच लोकसभा सीटों के लिए घोषित किए प्रभारी
कांग्रेस से गठबंधन के प्रयासों के हुए भंडाफोड़ के बाद आनन-फानन में आप ने आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर पांच लोकसभा सीटों के लिए प्रभारी नियुक्त कर दिए हैं। इसमें पंकज गुप्ता को चांदनी चौक, दिलीप पांडे को उत्तर पूर्वी जिला, राघव चड्ढा को दक्षिणी दिल्ली, आतिशी मर्लेना को पूर्वी दिल्ली तथा गुगन सिंह को उत्तरी-पश्चिमी दिल्ली लोकसभा सीट का प्रभारी बनाया गया है। ऐसा कहा जा रहा है कि जो लोग प्रभारी बनाए गए हैं ये लोग ही पार्टी की ओर से प्रत्याशी भी हो सकते हैं। विशेष परस्थितियों में इस मामले में आप बदलाव भी कर सकती है।

भाजपा को रोकने के लिए कांग्रेस से भी हो सकता है समझौता : खैहरा
आगामी लोकसभा चुनाव में भाजपा को रोकने के लिए देशहित में पंजाब में कांग्रेस के साथ भी समझौता हो सकता है, लेकिन यह फैसला पार्टी विधायकों की बैठक में उनकी सहमति के बाद ही लिया जाएगा। यह बात पंजाब के नेता विपक्ष एवं आप के प्रदेशाध्यक्ष सुखपाल सिंह खैहरा ने फिरोजपुर में कही। खैहरा यहां डीसी दफ्तर के बाहर उनसे धक्कामुक्की करने वाले कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर कार्रवाई न किए जाने के विरोध में धरना देने पहुंचे थे।

गठजोड़ का फैसला हाईकमान करेगा: कैप्टन
कांग्रेस और आप में चुनावी गठजोड़ की संभावनाओं को लेकर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि यह फैसला कांग्रेस हाईकमान पर निर्भर करता है। वह इस संबंध में जरूरत पड़ने पर विचार करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

राफेल डील: कांग्रेस के आरोपों पर रक्षा मंत्री ने किया पलटवार

राफेल विमानों की खरीद को लेकर भाजपा सरकार