पंजाब में खत्म हो रहा ‘आप’ का आधार, तो नेता कहीं और तलाश रहे ठिकाना

लुधियाना। आम आदमी पार्टी का पंजाब में लगातार ग्राफ गिरने और पार्टी के खत्‍म होते आधार का असर इसके नेताओं और कार्यकर्ताओं पर दिखना शुरू हो गया है। पार्टी के सीनियर नेताओं में लगातार गुटबाजी बढ़ती जा रही है। हालात यह है कि पार्टी नेतृत्‍व भी इस पर लगाम लगाने का प्रयास नहीं कर रहा। इससे आप नेता अन्‍य पार्टियों में अपना भविष्‍य तलाश रहे हैं। लुधियाना में भी यही हाल है और यहां आप के कई नेता दूसरे दलों में जगह तलाश रहे हैं।पंजाब में खत्म हो रहा 'आप' का आधार, तो नेता कहीं और तलाश रहे ठिकाना

पार्टी नेताओं को लगता है कि आप का पंजाब में आधार खत्म हो रहा है और उनका भविष्य खतरे में है। इसके बाद  आप के कई बड़े नेताओं ने अन्य विकल्‍पों पर विचार करना शुरू कर दिया है। जानकारों के अनुसार, कई पार्टी नेताओं ने कांग्रेस, शिअद व भाजपा के सीनियर नेताओं से संपर्क साधना शुरू कर दिया है। कयास लगाए जा रहे हैं कि जल्द ही कई बड़े नेता इन पार्टियों में शामिल हो सकते हैैं।

विधानसभा चुनाव के बाद ही पंजाब अाप में गुटबाजी तेज हो गई थी। इसका असर नगर निगम चुनाव में भी नजर आया। जालंधर, लुधियाना, अमृतसर व पटियाला नगर निगमों के चुनाव में आप की बुरी हालत रही। इसका मुख्य ठीकरा सीनियर नेता कहीं न कहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री एवं आप के संयोजक अरविंद केजरीवाल पर भी फोड़ रहे हैैं। पंजाब के नेताओं का मानना है कि विस चुनाव के बाद केजरीवाल को पंजाब में आना चाहिए था और प्रदेश के लोगों से मिलना चाहिए था। सीनियर नेताओं का यह भी कहना है कि कांग्रेस सरकार को बने एक साल से ज्यादा समय हो गया है और सरकार की कई नीतियां गलत हैं लेकिन आप की तरफ से सरकार के खिलाफ कोई भी बड़ा प्रदर्शन नहीं हुआ। 

मेहनती व ईमानदार नेताओं पर बड़ी पार्टियों की नजर

कांग्रेस, शिअद और भाजपा के सीनियर नेताओं का भी कहना है कि पंजाब में आप का बिल्कुल ही आधार खत्म हो गया है। उन्होंने माना कि आप में भी कई नेता मेहनती और ईमानदार हैैं लेकिन पार्टी की हालत को देख काफी परेशान हैं। उनका कहना है कि आप के मेहनती और ईमानदार नेताओं को पार्टी में शामिल करने को लेकर बातचीत चल रही है और जल्द ही कई नेताओं दूसरी प‍ार्टियों में शामिल होंगे।

लोकसभा चुनाव से पहले कई बड़े नेता होंगे अन्य पार्टियों में शामिल

अगले वर्ष होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर सभी पार्टियों ने लगभग गतिविधियां शुरू कर दी हैं। इस दौरान इन पार्टियों की नजर आप के उन नेताओं पर भी है, जिनका जमीनी स्तर पर आधार है। लोकसभा चुनाव से पहले पार्टियां ने ऐसे नेताओं को शामिल करने के संकेत भी दिए हैं। इसी कड़ी में लुधियाना के कांग्रेस सांसद रवनीत सिंह बिटटू ने भगंवत मान को कांग्रेस में शामिल कराने का सुझाव दिय था।

लालची नेता ही कर रहे अन्य पार्टियों से संपर्क: भोला

आम आदमी पार्टी के टिकट पर पिछला विधानसभा चुनाव लड़ने वाले दलजीत सिंह ग्रेवाल भोला का कहना है कि लालची और मौकापरस्त नेता ही अन्य पार्टियों से संपर्क करने में जुटे हुए हैं। लोगों की सेवा करने वाले नेता अभी भी आप से जुड़े हुए हैं। जल्द ही कांग्रेस की गलत नीतियों के खिलाफ अाप का प्रदर्शन शुरू होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

उत्तर प्रदेश सरकार चीनी मिलों को दिलवाएगी 4,000 करोड़ रुपये का सस्ता कर्ज

उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य की चीनी मिलों