Home > धर्म > तो इसलिए भगवान राम ने दिया था लक्ष्मण को मृत्यु दंड, वजह जानकर नही होगा यकीन

तो इसलिए भगवान राम ने दिया था लक्ष्मण को मृत्यु दंड, वजह जानकर नही होगा यकीन

आज हम जानेंगे रामायण से जुड़ी 10 ऐसी बातें जो शायद बहुत कम लोग जानते होंगे और रामायण के रहस्य जिनसे हम पूरी तरह वाकिफ नहीं हैं हर छुपा राज जो हमें नहीं पता है वह आज मैं आपको बताने जा रहा हूं.

१. राम जी की एक बहन भी थी

हम सब यह जानते हैं कि रामायण में राम जी के तीन भाई थे लक्ष्मण भरत और शत्रुघन लेकिन ये बहुत कम लोग यह जानते हैं कि राम जी की एक बड़ी बहन भी थी जिसका नाम शांता था पौराणिक कथा के अनुसार अंग देश के राजा की कोई संतान नहीं थी जब उन्होंने अपना यह दुख राजा दशरथ के सामने बयां किया तब राजा दशरथ ने अपनी पुत्री शांता को अंग देश के राजा को गोद दे दिया था.

२. रावण को 10 सिर कैसे मिले

रावण भगवान शिव का बहुत बड़ा भक्त था शिव की तपस्या करते समय उसने अपने सिर की बलि दी थी और भगवान शिव ने खुश होकर रावण का सिर लौटा दिया था ऐसा रावण ने 10 बार किया था और हर बार भगवान शिव ने उसे उसका सिर लौटा दीया था अंत में भगवान शिव ने खुश होकर रावण को 10 सिर वरदान में दे दिए थे.

३. लंका का असली राजा रावण नहीं कुबेर था

शिवजी ने अपनी पत्नी पार्वती के कहने पर उनके लिए लंका नगरी बनवाई थी लेकिन कुबेर ने भोलेनाथ की तपस्या की थी और वरदान में सोने की लंका मांग ली ,रावण जो कुबेर का सौतेला भाई था उस ने कुबेर से लंका छीन ली थी.

४. हनुमान जी को बजरंग बली क्यों कहते हैं

पौराणिक कथा के अनुसार एक बार माता सीता सिंदूर लगा रही थी तो हनुमानजी ने पूछा कि माता आप रोज अपने माथे पर सिंदूर क्यों लगाती है तो सीता माता ने बताया कि वह श्रीराम की लंबी उम्र के लिए ऐसा करती है यह सुनकर श्री हनुमान जी ने अपने पूरे बदन पर सिंदूर लगा लिया तब से उन्हें बजरंगबली कहा जाने लगा हिंदी में बजरंग को सिंदूर कहा जाता है और इसी कारणवश उनका नाम बजरंगबली पड़ गया.

५. भगवान राम का वध बाली ने किया था

आप लोग यह तो जानते हैं कि भगवान राम ने बाली का वध किया था लेकिन शायद आप लोग यह नहीं जानते हैं कि श्री राम जी का वध भी बाली  ने ही किया था जी हां जरा जो बाली का अगला जन्म था उसने भगवान श्रीकृष्ण जी को अपने तीर से मारा था क्योंकि राम अवतार में राम जी ने बाली को धोखे से मारा था इसीलिए जरा ने श्री कृष्णा को मर दिया था.

६.सूर्पनखा रावण की मृत्यु चाहती थी

जी हां यह सुनकर आपको आश्चर्य जरूर होगा पर यह सत्य है रावण ने सूर्पनखा के पति दुष्टबुद्धि को युद्ध में मार दिया था जिसकी वजह से सुर्पनखा ने मन ही मन रावण को श्राप दिया था की रावण की मृत्यु का कारण एक स्त्री होगी.

७. लक्ष्मण जी १४ सालो तक नहीं सोये थे

यह तो हम सब जानते हैं कि लक्ष्मण जी 14 साल तक वनवास में रहे लेकिन यह बहुत कम लोग जानते हैं की लक्ष्मण जी चौदह साल के वनवास में एक बार भी नहीं सोए थे लक्ष्मण जी ने सोने की देवी इंदिरा जी से वरदान लिया था कि उन्हें चौदह साल तक नींद ना आए ताकि वह अपने बड़े भाई राम और सीता जी की सेवा हर पल कर सके और उनके बदले की नींद उनकी पत्नी उर्मिला को मिली थी वह चौदह सालो तक सोती रही थी.

८. लक्ष्मण जी शेषनाग के अवतार थे

हम सभी यह जानते हैं कि भगवान रामजी भगवान विष्णु के अवतार थे लेकिन बहुत कम लोग यह जानते हैं कि लक्ष्मण जी शेषनाग के अवतार थे जिसकी अनुमति श्री विष्णु ने उन्हें दी थी.

९. गिलहरी पर सफेद धारियां कैसे पड़ी

जब सभी बंदर रामसेतु बना रहे थे तब एक गिलहरी अपनी पीठ पर रेती लेकर सेतु निर्माण में मदद कर रही थी जिससे श्री राम  जी प्रसन्न हो गए और गिलहरी के ऊपर हाथ रखकर सहलाया जिससे कि गिलहरी की पीठ पर सफेद धारिया बन गई.

आज भी जिंदा है भगवान श्री राम के वंशज, इस शहर मे कर रहे राज

१०. श्री राम जी ने लक्ष्मण को मृत्युदंड दिया था

यह बात बहुत कम लोग जानते हैं कि श्री राम जी ने लक्ष्मण को मृत्युदंड दिया था इसका कारण यह था कि एक बार यमराज श्री राम जी से मिलने आए और राम जी से कहा कि मैं आपसे कुछ बात करना चाहता हूं लेकिन उससे पहले आपको वचन  देना होगा कि जब हम बात कर रहे हो तब ना तो हमें कोई देखें और ना ही हमें कोई सुने और अगर कोई ऐसा करता है तो आप उसे मृत्युदंड देंगे तब राम जी ने हां कर दी लेकिन जब राम और यमराज आपस में बात कर रहे थे तो लक्ष्मण वहां आ गए और राम जी के वचन के अनुसार लक्ष्मण को मृत्युदंड देना पड़ा.पूरी जानकारी अलग अलग कथाओ से ली गई है जिसकी हम कोई प्रमाणिकता नहीं देते है. धन्यवाद्  

Loading...

Check Also

कार्तिक के इस महीने में ये पौधा लगाना होता है सबसे शुभ, देता है अपार धन

कार्तिक के इस महीने में ये पौधा लगाना होता है सबसे शुभ, देता है अपार धन

हिंदु धर्म में तुलसी काे सबसे पवित्र पाैधा माना गया है। वास्तव में यही एक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com