गुटबाजी पर भाजपा प्रधान मलिक का कड़ा रुख, कहा- मीडिया के समक्ष न जाए हर कोई

चंडीगढ़। पहले से ही कई धड़ों में बंटी पंजाब भाजपा को एकजुट करना और सभी धड़ों की अलग बज रही डफली को बंद करना श्वेत मलिक के लिए चुनौती है। सबसे पहले मीडिया के सामने पार्टी की एकजुटता बनाए रखना नए पार्टी अध्यक्ष के लिए जरूरी हो गया है और इसे लेकर उन्होंने कड़ा रुख भी अपनाना शुरू कर दिया है।गुटबाजी पर भाजपा प्रधान मलिक का कड़ा रुख, कहा- मीडिया के समक्ष न जाए हर कोई

इस समय पंजाब भाजपा में तीन धड़े बन गए हैं। मीडिया में तीनों ही धड़ों की ओर से अलग-अलग बयान जारी किए जा रहे हैं। परेशानी वाली बात तो यह है कि इससे एक ही मुद्दे पर पार्टी के अलग-अलग स्टैंड सामने आ रहे हैं इससे कहीं न कहीं पार्टी की असहज स्थिति हो रही है।

श्वेत मलिक के प्रधान बनने के बाद आरएस गिल को नया मीडिया इंचार्ज बनाया गया है। पहले यह जिम्मा विनीत जोशी के पास था। फिर भी विनीत जोशी और पार्टी के पूर्व उपप्रधान हरजीत सिंह ग्रेवाल ने मुख्यमंत्री के अब तक के कार्यकाल के बारे में प्रेस कांफ्रेंस कर रिपोर्ट कार्ड भी पेश कर दिया। बाद में इसका प्रेस बयान भी जारी किया गया, लेकिन देर शाम यह प्रेस बयान वापस ले लिया। सूत्रों के अनुसार श्वेत मलिक ने हरजीत सिंह ग्रेवाल और विनीत जोशी की तरफ से बिना अनुमति प्रेस कांफ्रेंस करने व प्रेस बयान जारी करने को गंभीरता से लिया। उनके दबाव के बाद ही इसे वापस लिया गया।

इससे पूर्व कुछ दिन पहले जब केंद्रीय राज्य स्वास्थ्य मंत्री ने चंडीगढ़ में प्रेस कांफ्रेंस की थी, तो पूर्व भाजपा अध्यक्ष कमल शर्मा ने उनसे मुलाकात की और फिरोजुपर में अस्पताल के प्रोजेक्ट के बारे में मीडिया में बयान जारी कर दिया। सूत्रों के अनुसार पंजाब में विजय सांपला, पूर्व राज्यसभा सदस्य अविनाश राय खन्ना, पूर्व अध्यक्ष कमल शर्मा, पूर्व मंत्री मदन मोहन मित्तल जैसे बड़े नेता अलग-अलग धड़ों बंट चुके हैं, हालांकि सभी इससे इंकार भी करते हैैं।

इस बारे में पूछे जाने पर विनीत जोशी का कहना है कि भाजपा में कोई गुटबाजी नहीं है, हालांकि मुख्यमंत्री के कार्यकाल पर प्रेस कांफ्रेंस व बयान पर उन्होंने कुछ भी टिप्पणी नहीं की। वहीं, भाजपा के मीडिया इंचार्ज मेजर आरएस गिल का कहना है कि मुख्यमंत्री के कार्यकाल पर प्रेस कांफ्रेंस करने का मामला अध्यक्ष श्वेत मलिक के ध्यान में नहीं था। भाजपा में गुटबाजी जैसी कोई बात नहीं है। सभी पदाधिकारी और पार्टी कार्यकर्ता श्वेत मलिक के नेतृत्व में एकजुट होकर काम कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बसपा ने भी तोड़ा नाता, राहुल की एक और सियासी चूक, बीजेपी के लिए संजीवनी

बसपा अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस की बजाय अजीत जोगी के