कैराना में सीएम योगी ने दिया बयान, कहा- गन्ना हमारा मुद्दा पर जिन्ना की तस्वीर नहीं लगने देंगे

कैराना लोकसभा उपचुनाव के लिए शामली में हुई जनसभा में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विपक्ष पर जमकर हमला किया। उन्होंने मुजफ्फरनगर के गांव कवाल में सचिन और गौरव की हत्या की याद दिलाई, तो वहीं कैराना पलायन को लेकर व्यापारियों का दर्द भी उठाया।कैराना में सीएम योगी ने दिया बयान, कहा- गन्ना हमारा मुद्दा पर जिन्ना की तस्वीर नहीं लगने देंगे

साथ ही स्पष्ट कहा कि गन्ना हमारा मुद्दा है, लेकिन जिन्ना की तस्वीर भी नहीं लगने देंगे। हम ऐसे लोगों को हावी नहीं होने देंगे, जो समाज को दंगों में झोंकते हैं और गुंडे माफियाओं का संरक्षण करते हैं।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यदि पिछली सरकारें कार्य करती, तो पूर्व सांसद दिवंगत हुकुम सिंह को कैराना पलायन के लिए सड़क से संसद तक आंदोलन नहीं करना पड़ता। 15 महीने पूर्व पश्चिमी उत्तर प्रदेश में दहशत का माहौल होता था।

बहन बेटियों की अस्मत सुरक्षित नहीं थी, अराजकता होती थी। व्यापारियों से संगठित अपराधी गुंडा टैक्स वसूलते थे। एक साल के भीतर हमने अपराधियों को जहां पहुंचाना था, वहां पहुंचा दिया, जो भी राष्ट्रीय सुरक्षा में सेंध लगाएगा अथवा व्यापारी, किसान और बहन बेटियों की जान का खतरा बनेगा, तो उसकी जान का खतरा हमारी पुलिस बनेगी। अब गुंडे घुटने टेक रहे हैं और जान बख्शने की भीख मांगते हैं।

उन्होंने कहा कि देश के भीतर भ्रष्ट नेता, जो भारत का विकास नहीं चाहते, एक मंच पर आ गए हैं। क्योंकि वह लोग भारत को दुनिया की महाशक्ति बनने से रोकना चाहते हैं, गरीबों, दलितों, किसानों को उनका हक मिलने रोकना चाहते हैं।

वह लोग विकास और सुशासन के दुश्मन हैं। जबकि पीएम मोदी ने देश के 125 करोड़ लोगों की जीवनशैली में परिवर्तन का कार्य किया है। कैराना का चुनाव स्पष्ट रूप से ध्रुवीकरण हो चुका है। एक तरफ वह लोग हैं, जिन्होंने मुजफ्फरनगर और पश्चिमी यूपी को दंगों में झोंकने का काम किया था, सचिन और गौरव जैसे नौजवानों की हत्या करके निर्दोष लोगों को फंसाने का कार्य किया था।

संजीव बालियान और सुरेश राणा जैसे लोगों को उठाकर बंद किया जा रहा था। अब हमें भविष्य में ऐसी स्थिति पैदा नहीं होने देनी है, जिससे समाज और विकास विरोधी तत्व हावी हो जाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बटुक भैरव देवालय में भादों का मेला 23 सितम्बर को

 अभिषेक के बाद होगा दर्शन का सिलसिला, नए