WhatsApp का नुकसान हमेशा से ही Telegram जैसे मैसेजिंग ऐप्स के लिए फायदे का होता है मौका, इतने करोड़ यूजर्स ने किया ऐप इंस्टॉल

WhatsApp का नुकसान हमेशा से ही Telegram जैसे मैसेजिंग ऐप्स के लिए फायदे का मौका होता है। Facebook के स्वामित्व वाली इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप WhatsApp को हाल ही में ग्लोबल स्तर पर बड़े पैमाने पर आउटेज का सामना करना पड़ा, जो छह घंटे से ज्यादा समय तक बंद रहा, लेकिन वॉट्सऐप के डाउन होने की पूरी अवधि में, Telegram को बड़ा फायदा हुआ है| जी हां, WhatsApp के डाउन होने रे समय तक ऐप ने 70 मिलियन से ज्यादा यूजर्स एड किए| वॉट्सऐप के साथ-साथ Facebook और Instagram भी सोमवार शाम करीब छह घंटे तक बंद रहे।

WhatsApp डाउन होने पर Telegram को मिला फायदा

सोशल मीडिया की दिग्गज कंपनी ने दुनिया भर में 3.5 बिलियन से ज्यादा यूजर्स को प्रभावित करने वाले आउटेज के लिए एक ग्लिच कॉन्फ़िगरेशन चेंज को जिम्मेदार ठहराया है। हालांकि, Facebook के बंद होने से कंपनी को काफी बड़े नुकसान का सामना करना पड़ा है, लेकिन इसके कॉम्पिटीटर Telegram और Signal के लिए निश्चित रूप से ये एक काफी अच्छा अवसर था।

Telegram को मिले 1 बिलियन से ज्यादा डाउनलोड

Telegram ने हाल ही में 1 बिलियन से ज्यादा डाउनलोड रिसीव किए हैं और इसके 500 मिलियन एक्टिव यूजर्स हैं। न केवल टेलीग्राम, बल्कि Siganl ने भी अपने प्लेटफॉर्म पर यूजर्स के बढ़ते डिमांड को एक्सपीरियंस किया जब WhatsApp घंटों के लिए बंद हो गया। जब वॉट्सऐप की नई प्राइवेसी पॉलिसी लगातार जांच के दायरे में थी, तब मैसेजिंग ऐप ने यूजर्स में तेजी देखी। WhatsApp की तुलना में टेलीग्राम और सिग्नल को सिक्योर ऑप्शन माना जाता था।

Facebook ने दी सफाई

आउटेज के बारे में, फेसबुक ने कहा, “हमारी इंजीनियरिंग टीमों ने सीखा है कि हमारे डेटा केंद्रों के बीच नेटवर्क ट्रैफ़िक को समन्वयित करने वाले बैकबोन राउटर पर कॉन्फ़िगरेशन बदलाव के कारण इस संचार में बाधा उत्पन्न हुई है। नेटवर्क ट्रैफ़िक में इस व्यवधान का हमारे डेटा केंद्रों के संचार के तरीके पर व्यापक प्रभाव पड़ा, जिससे हमारी सेवाएं रुक गईं। ” सोशल मीडिया कंपनी ने यह भी नोट किया कि इसका कोई सबूत नहीं है कि इस डाउनटाइम के रिजल्ट्स यूजर्स डेटा से समझौता किया गया था।

Facebook बंद होने से हुई कई तरह की समस्या

जब Facebook बंद हो गया, तो कई एक्सपर्ट्स और मीडिया चैनल्स की ओर से अलग-अलग प्रतिक्रिया आनी शुरू हो गई| जिसमें कुछ का मानना ये भी था के संभावित साइबर हमले की वजह से आउटेज हुआ है। हालांकि, Facebook ने सुनिश्चित किया कि उसके यूजर्स डेटा से अभी तक समझौता नहीं किया गया है। आउटेज की सीमा इतनी गंभीर थी कि Facebook के अधिकारी भी गड़बड़ी का आकलन नहीं कर सके, क्योंकि सुरक्षा व्यवस्था एक बाधा के रूप में काम करती थी। जिसके परिणामस्वरूप, फेसबुक के कर्मचारियों को सांता क्लारा में अपने सर्वर रूम में जबरन घुसना पड़ा। न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, इंजीनियरों के सुरक्षा बैज आउटेज के कारण गैर-कार्यात्मक हो गए थे, जिसके कारण उन्हें घुसपैठियों की तरह घुसना पड़ा था। दिलचस्प बात यह है कि फेसबुक के कर्मचारियों को अपने साथी टीम के सदस्यों के साथ संवाद करने के लिए डिस्कॉर्ड जैसे दूसरे मैसेजिंग ऐप का इस्तेमाल करने के लिए मजबूर किया गया था।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three + seven =

Back to top button