सबसे बड़ा सर्वे: ये है महिलाओं को दोबारा वर्जिन बनने का सबसे आसान तरीका…

- in जीवनशैली
वर्जिन शब्द से तात्पर्य योनी के टाइट होने से है। शिशु के जन्म के बाद, उम्र बढ़ने या एक्सरसाइज न करने आदि कुछ कारणों से योनी में ढीलापन आ जाता है। हालांकि इसे दूर किया जा सकता है और योनी को फिर से टाइट बनाया जा सकता है। चलिए जानें कैसे –

1.फिर से वर्जिन बनने के तरीके
वर्जिन शब्द का अर्थ है, “अनछुआ”। अगर आपने कभी संभोग किया है तो इसका मतलब है कि आप अनछुए नहीं हैं, और इस लिहाज से आप वर्जिन नहीं रहती हैं। वर्जिन होना सही है या गलत, ये चर्चा की विषय ही नहीं है। यहां वर्जिन शब्द से तात्पर्य है योनी के टाइट होने से। शिशु के जन्म के बाद, उम्र बढ़ने या एक्सरसाइज न करने आदि कुछ कारणों से योनी में ढीलापन आ जाता है। हालांकि इसे दूर किया जा सकता है और योनी को फिर से टाइट बनाया जा सकता है। यहां फिर से वर्जिन होने का यही अर्थ है। तो चलिए जानें कि फिर से वर्जिन बनने के लिए क्या करें। –  

2.इसकी कोई दवा नहीं होती
ध्यान रहे कि फिर वर्जिन बनने के लिए कोई गोलियां या दवाएं नहीं होती है। तो अगर कोई प्रोडक्ट या दवा कंपनी ऐसा दवा करे तो उस पर भूले से भी यकीन न करें। दरअसल ढीलापन योनी में नहीं, बल्कि पेल्विक प्लोर की मांसपेशियां में आता है। और इसे प्राकृतिक तरीकों, जैसे एक्सरसाइज आदि से दूर कर दोबारा से योनी को टाइट बनाया जा सकता है। श्रोणी या पेल्विक क्षेत्र की मांसपेशियां (pelvic floor muscles), जो कि गर्भाशय, मूत्राशय, और छोटी आंत, को सहारा देती है, उन्हें “किगल मसल्स” भी कहा जाता है। 

3.ऑर्गाज़्म प्राप्त करें
अपने पेल्विक फ्लोर मांसपेशियों को टोन करने का फायदा ये है कि ज ब आप ऑर्गाज़्म प्राप्त करते हैं तो यह वास्तव में आपकी पेल्विक फ्लोर मांसपेशियों का संकुचन होता है। तो जितना ज्यादा आप ऑर्गाज़्म प्राप्त करती हैं, उतनी ही ज्यादा आपकी पेल्विक फ्लोर मांसपेशियां टोन होती हैं। और जैसे जैसे पेल्विक फ्लोर मांसपेशियां मजबूत बनती हैं, उतना ही ज्यादा ऑर्गाज़्म प्राप्त होता है। 

4.कीगल एक्सरसाइज लौटाएगी वर्जिनिटी

क्या आप जानते हैं इस बीमारी के लिए बहुत फायदेमंद होता है लौंग का सेवन

 एक शोध के अनुसार, शिशु के जन्म के बाद योनी की मांसपेशियों को दोबारा सामान्य आकार में आने में कम से कम 6 महीने का समय लगता है। दूसरी बार योनी का आकार उम्र बढ़ने के साथ बदलता है। दरअसल, बढ़ती उम्र में महिलाओं के हार्मोंस में बदलाव आता है। अर्थात बढ़ती उम्र में वैजाइनल वॉल (योनी का दीवार) मोटी हो जाती है और कम लचीली हो जाती है। ऐसे में योनी की मसल्स ढीली हो जाती है। लेकिन अच्छी खबर ये है कि कीगल एक्सरसाइज से मांसपेशियों को मजबूत किया जाता है। ‌कीगल एक्सरसाइज में कोई फर्क नहीं पड़ता की आपकी उम्र क्या है। शोध के नतीजों में पाया गया कि यदि सेक्‍स के दौरान योनी ना टाइट होती है तो इसका ये मतलब है कि वैजाइना ड्राई है और आप ठीक से उत्तेजित नहीं हुई है। ऐसे में आपको अधिक फॉरप्ले करने की जरूरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

खाली पेट भूलकर भी न खाएं यह 8 चीजें, वरना खुद पढ़ ले…

हमारा दिन कैसा रहेगा रहता है? हमारी शारीरिक