रेहम से निकाह करना जिंदगी की सबसे बड़ी गलती: इमरान खान

पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर और तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) प्रमुख इमरान खान ने रेहम खान के साथ अपने निकाह को जिंदगी की सबसे बड़ी गलती करार दिया है. इमरान ने कहा, ‘मैंने जिंदगी में कुछ गलतियां की हैं. आम तौर पर मैं रेहम खान के बारे में कुछ नहीं कहता हूं. लेकिन अब कहूंगा. रेहम से दूसरा निकाह करना मेरी जिंदगी की सबसे बड़ी गलती है.’रेहम से निकाह करना जिंदगी की सबसे बड़ी गलती: इमरान खान

दिए एक इंटरव्यू में इमरान खान ने ये बातें कही हैं. बता दें कि पेशे से जर्नलिस्ट और राइटर रेहम खान ने अपनी आत्मकथा लिखी है. ‘रेहम खान’ नाम की इस आत्मकथा में उन्होंने इमरान खान की निजी और राजनीतिक जिंदगी को लेकर अहम खुलासे किए हैं. बता दें कि रेहम खान ने अपनी आत्मकथा में ये दावा किया है कि इमरान के पीटीआई नेता और एक एक्टर के साथ समलैंगिक संबंध हैं. वह काला जादू जानते हैं और ड्रग्स लेने के आदी हैं. यही नहीं, रेहम ने अपनी किताब में इमरान की भारतीय महिलाओं से 5 बच्चे होने का दावा भी किया है. ऐसे में पाकिस्तान चुनाव में उतरे इमरान खान अपनी पूर्व पत्नी की आत्मकथा के कारण खुद को विवादों में घिरता हुआ पा रहे हैं.

दिए गए इंटरव्यू में पीटीआई प्रमुख इमरान खान ने सूफी विद्वान और नेता बुशरा मेनका से अपनी तीसरी शादी को लेकर भी खुलासे किए. इमरान ने बताया, ‘वो मेरी जिंदगी में बहुत खास हैं. तीन साल पहले हमारी मुलाकात हुई थी. इस साल फरवरी में शादी हुई.’ इमरान ने बताया, ‘शादी तक मैंने बुशरा बीबी का चेहरा नहीं देखा था. इसकी वजह यह थी कि बुशरा अपने पति के अलावा किसी और पुरुष को अपना चेहरा नहीं दिखाना चाहती थीं.’

बता दें कि पाक के पूर्व क्रिकेटर इमरान खान ने ब्रिटिश मूल की जेमाइमा से पहली शादी की थी. उनकी यह शादी 9 साल तक चली. फिर 2004 में उनका तलाक हो गया. इसके कुछ महीने बाद इमरान खान ने रेहम खान से दूसरी शादी की, जो टीवी प्रेजेंटर भी हैं. लेकिन, 10 महीने बाद दोनों के रास्ते अलग हो गए और अब उन्होंने तीसरी शादी कर ली है.

पाकिस्तान में 25 जुलाई को संघ और प्रांतों के चुनाव होने हैं. इस बार चुनाव में पूर्व क्रिकेटर और पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) चीफ इमरान खान का नाम सबसे ज्यादा चर्चा में हैं. पाकिस्तान की विश्व विजेता क्रिकेट टीम के कप्तान रह चुके इमरान खान की स्थिति इस बार के आम चुनाव में सबसे मजबूत मानी जा रही है. हालांकि, इस स्थिति तक पहुंचने में उन्हें 22 साल का समय लग गया. चुनाव से पहले हुए ज्यादातर सर्वे में इमरान की पार्टी को सबसे अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है. लेकिन, सर्वे में यह भी कहा जा रहा है कि पीटीआई अकेले दम पर सरकार बनाने में कामयाब नहीं हो पाएगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

अमेरिका के मध्यावधि संसदीय चुनाव में 12 भारतवंशी मैदान में

अमेरिका में छह नवंबर को होने वाले मध्यावधि