आरोपी ने कहा, मुन्ना बजरंगी ने मुझे मोटा बोला, इसलिए मैेंने उसको गोलियों से भून डाला

बागपत : यूपी के कुख्यात गैंगस्टर मुन्ना बजरंगीकी बागपत जेल में हुई हत्या में सुनील राठी का नाम सामने आ रहा है। पुलिस पूछताछ में सुनील राठी ने बताया कि मुन्ना ने उसके लुक पर कमेंट किए थे, जिससे वह नाराज था। सुनील ने पुलिस को बताया कि जेल में मॉर्निंग वॉक के दौरान दोनों की मुलाकात हुई। सुनील राठी पहले से ही बागपत जेल में बंद है इसलिए इस मामले में उसकी गिरफ्तारी पुलिस ने दिखा दी है। जेल प्रशासन की तरफ से कुख्यात सुनील राठी के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। आरोपी ने कहा, मुन्ना बजरंगी ने मुझे मोटा बोला, इसलिए मैेंने उसको गोलियों से भून डाला

सुनील राठी ने पुलिस से बताया, ‘उसने मुझसे कहा कि मैं बहुत मोटा हूं। मुझे यह पसंद नहीं आया और बजरंगी से बोला कि पहले अपनी स्थिति सुधारो। इससे हम दोनों के बीच बहस शुरू हो गई और उसने माउजर बंदूक मेरे ऊपर तान दी। मैंने बंदूक खींच ली और उसे लात मारकर गिरा दिया। जैसे ही वह गिरा, मैंने पूरी बंदूक उस पर खाली कर दी।’ 

हालांकि, मुन्ना बजरंगी की हत्या के पीछे यह मामूली सी वजह पुलिस अधिकारियों को हजम नहीं हो रही है। घटना की जांच कर रहे एक अधिकारी ने बताया, ‘बागपत जेल में मुन्ना से ज्यादा सुनील राठी के लिए परेशानी थी। दूसरे गवाहों ने बताया कि सुनील ने तनहाई सेल (आइसोलेशन सेल) के बाहर बने गार्डन में टहलते हुए बिना किसी वजह के खुलेआम फायरिंग शुरू की थी।’ 

एक अधिकारी ने बताया कि बजरंगी की हत्या पूर्व नियोजित थी। उन्होंने बताया, ‘वह पहले से ही हत्या का दोषी था। राठी ने उसकी खोपड़ी पर सारी गोलियां चला दीं। यह पक्का करने के लिए कि वह किसी भी तरह जिंदा न बचे। ऐसा लग रहा है कि मुन्ना बजरंगी के बागपत जेल आने का इंतजार किया जा रहा था।’ 

सारी गोलियां शरीर को छेदते हुए बाहर निकल गईं 
उधर, स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों के मुताबिक, पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में यह सामने आया है कि मुन्ना के शरीर में कोई भी गोली नहीं मिली। सारी गोलियां उसके शरीर को छेदते हुए बाहर निकल गई हैं, इससे यह भी अंदाजा नहीं लगाया जा सका कि कुल कितनी गोलियां लगी हैं। एडीजी लॉ ऐंड ऑर्डर आनंद कुमार ने बताया कि मुन्ना की हत्या में इस्तेमाल की गई पिस्टल जेल की गटर से बरामद कर ली गई है। इसके साथ ही 10 इस्तेमाल हो चुके खोखे, 2 मैगजीन और 22 जिंदा कारतूस भी बरामद हुए हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बटुक भैरव देवालय में भादों का मेला 23 सितम्बर को

 अभिषेक के बाद होगा दर्शन का सिलसिला, नए