नोएडा में कभी भी हो सकती है 13 मंजिला इमारत जमींदोज

- in उत्तरप्रदेश

बारिश और बाढ़ आधे हिंदुस्तान की जान की दुश्मन बनी हुई है. पांच दिन पहले दिल्ली से सटे ग्रेटर नोएडा के शाहबेरी में दो इमारतें भरभराकर गिर गईं, जिसमें 9 लोगों की मौत हुई. वहीं, ग्रेटर नोएडा के इसी इलाके में शुक्रवार को एक और इमारत की दीवार के ढहने से पांच लोग दब गए. इस हादसे में 2 की मौत हो गई है वहीं घायल 3 घायल हैं.

नोएडा प्रशासन लगातार हो रहे हादसों से भी सबक नहीं ले रहा है. यही कारण है कि लोगों के विरोध के बाद भी बिल्डर ने इमारतों के बीच नए निर्माण के लिए गड्ढा खोद डाला, जिससे उसके साथ वाली 13 मंजिला इमारत की दीवार में दरार आ गई.

कभी भी गिर सकती है ग्रेटर नोएडा की 13 मंजिला इमारत

दरअसल, ग्रेटर नोएडा के पॉश सेक्टर बीटा-2 में नई बिल्डिंग बनाने के लिए की गई गहरी खुदाई की गई और उसमें जमे पानी की वजह से पास की 13 मंजिला बिल्डिंग पर खतरा मंडराने लगा है. बिल्डिंग की दीवार में दरार आ गई हैं. 13 मंजिला बिल्डिंग कभी भी गिर सकती है.

बारिश के पानी और बिल्डर की मनमानी से 180 परिवारों की जिंदगी को खतरे में डाल दिया है. ग्रेटर नोएडा के सेक्टर बीटा-2 की स्पार्क डिवाइन में रहनेवाले लोगों की नींद सोसाइटी के ठीक बगल में खोदे गए 25 फीट गहरे गड्ढे के कारण गायब हो गई है. ऐसे में यहां के 20 परिवार अपना फ्लैट खाली कर सुरक्षित जगहों पर चले गए हैं. बता दें कि गड्ढे से  ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी का दफ्तर महज 500 मीटर की दूरी पर है. थाना और भी पास है, लेकिन किसी ने भी इस बड़े खतरे और खुदाई की ओर ध्यान नहीं दिया.

हालांकि, लोगों के विरोध के बाद ग्रेटर नोएडा प्रशासन एक्शन में आया है. पानी को निकालने के लिए पंप लाया गया. गड्ढे को भरने का काम भी शुरू हो गया. लेकिन, सवाल उठता है कि ग्रेटर नोएडा प्रशासन को ये गड्ढा और इससे पैदा होनेवाला खतरा पहले क्यों नहीं दिखा.

बिल्डिंग झुकी, डर से लोगों ने खाली किया मकान

शाहबेरी इलाके में ही में एक और बिल्डिंग कभी भी गिर सकती है. बारिश के पानी की वजह से 7 मंजिला इमारत एक ओर झुक गयी है. इसके पिलर को लोहे के सहारे टिकाया गया है. प्रशासन ने खतरे को देखते हुए आसपास की इमारतों को खाली करवा दिया है.

खतरे को देखते हुए बिल्डिंग के फ्लैट में मौजूद लोगों ने अपना-अपना कमरा खाली कर दिया है. बता दें कि झुकी हुई इस बिल्डिंग में सिर्फ एक परिवार रहता था. उस बिल्डिंग को सबसे पहले खाली करवाया गया और उसे सील कर दिया गया. हादसे की स्थिति में तुरंत राहत और बचाव के लिए फायर ब्रिगेड के कर्मचारियों को भी तैनात कर दिया गया है. आसपास की इमारतों को भी खाली करवा दिया गया है.

17 जुलाई को ही शाहबेरी में दो इमारतें ताश के पत्तों की तरह भरभराकर गिर गईं थीं. इनमें दबकर 9 लोगों की जान चली गयी. शाहबेरी में अवैध तरीके से बनाई गई इमारतें कभी भी लोगों की कब्र में तब्दील हो सकती हैं. पिछले कुछ सालों में शाहबेरी, खेड़ा और बिसरख जैसे इलाकों में अवैध तरीके से बिल्डिंग बनाने का काम तेजी से चल रहा है.

छोटे-छोटे बिल्डरों ने अथॉरिटी में बाबुओं के साथ मिलीभगत करके गलत तरीके से खतरनाक इमारतें खड़ी कर ली हैं. बिल्डरों ने इमारतों में भूकंपरोधी और प्राकृतिक आपदा से बचने की जरूरत को भी नजरअंदाज कर दिया. ऐसे में सवाल उठता है कि नियम-कायदों को ठेंगा दिखा कर बनी सैकड़ों छोटी-बडी इमारतें सरकारी अफसरों को पहले क्यों नहीं दिखीं? हादसे के बाद ही प्रशासन हरकत में क्यों आता है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

ताजमहल के आसपास के उद्यानों को दिया जाएगा मुगलकालीन लुक, राष्ट्रपति और पीएम लगाएंगे मुहर

अगले हफ्ते दुनिया के दो प्राचीन और ऐतिहासिक