उत्तर कोरियाई समाचार सेवा केसीएनए के अनुसार असद ने प्योंगयांग आकर किम जोंग उन से मिलने की इच्छा जताई है। सीरियाई नेता ने यह इच्छा 12 जून को ट्रंप और किम जोंग के बीच सिंगापुर में होने वाली वार्ता से पहले जताई है। केसीएनए के अनुसार दमिश्क में उत्तर कोरिया के राजदूत मून जोंग नाम से मुलाकात में राष्ट्रपति असद ने कोरियाई प्रायद्वीप के गतिरोध को दूर करने में किम जोंग उन के बुद्धिमत्तापूर्ण नेतृत्व की प्रशंसा की। हालांकि सीरियाई राष्ट्रपति के कार्यालय ने केसीएनए के इस दावे पर कोई टिप्पणी करने से इन्कार कर दिया है।

वैसे प्योंगयांग और दमिश्क के बीच दशकों पुराने गर्मजोशी वाले रिश्ते हैं। सूत्रों के अनुसार सीरिया में गृहयुद्ध के हाल के वर्षों में दोनों देशों के बीच सैन्य रिश्ते भी बने हैं। शक यह भी है कि रासायनिक हथियारों के उत्पादन और आपूर्ति के मामले में भी दोनों देशों ने हाथ मिला लिए हैं। कहा यह भी जाता है कि उत्तर कोरिया ने सीरिया को परमाणु संयंत्र बनाने में भी मदद की थी जिसे 2007 में इजरायल ने बमबारी से बर्बाद कर दिया था।