सुशील मोदी ने किया ये बड़ा खुलासा बतायी ये बात…

पटना। बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी के खिलाफ फिर नया अारोप लगाते हुए खुलासा किया है कि तेजस्वी केवल 750 करोड़ का मॉल ही नहीं बनवा रहे थे बल्कि करोड़ों के लोहे का व्यापार भी करते हैं। वे लारा एंड संस नाम के आयरन और स्टील बेचने वाले प्रतिष्ठान के भी मालिक हैं। सुशील मोदी ने किया ये बड़ा खुलासा बतायी ये बात...

सुशील मोदी ने पटना में संवाददाता सम्मेलन आयोजित कर पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया कि तेजस्वी यादव जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड, जिंदल सेंटर, 12 भिखाजी कामा प्लेस, नई दिल्ली के हैंडलिंग एंड स्टोरेज एजेंट के रूप में साल 2012 से काम कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि जिंदल स्टील ने तेजस्वी यादव को 28 सितम्बर, 2012 को रामगढ़/पतरातू के आरगुल के स्टील प्लांट से निर्मित माल हेतु हैंडलिंग एंड स्टोरेज एजेंट नियुक्त किया। 

तेजस्वी यादव ने लारा एंड संस, रानीपुर खिड़की, मिर्चाइ रोड, पटना सिटी के नाम से आयरन एंड स्टील का व्यापार करने के लिए वैट का रजिस्ट्रेशन नंबर TIN – 10062264062 वाणिज्य कर विभाग के पूर्वी अंचल से प्राप्त किया। इसके अतिरिक्त Central Sales Tax, CST तथा Entry Tax का रजिस्ट्रेशन भी प्राप्त किया ।

इस व्यापार को करने के लिए स्टेट बैंक अॉफ इंडिया का A/c. No.-30295914683, PAN-ACSPY9993J,और Mobile No.-9473240226 का इस्तेमाल किया गया।

हैंडलिंग एजेंट हेतु निम्न शर्ते लगायी गई….

-रेलवे वैगन से आने वाले लोहा को प्राप्त करना।

-रेलवे से माल छुड़ाकर उपयुक्त Crane द्वारा Stock Yard में weigh bridge पर तौल कर व्यवस्थित तरीके से लोहे को रखना

-Stock yard पूरी तरह से चाहरदीवारी से घिरा हो, Security guard तथा Asbestos एवं तारपोलिन से सुरक्षित होना चाहिए।

-इस पूरे काम के लिए सड़क मार्ग से लोहा आने पर 500 रुपए प्रति टन तथा रेल मार्ग से आने पर 700/-रु0 टन Handling charge दिया जाएगा।

-इस JSPL Stockyard Agreement पर Jindal Steel के अधिकृत प्रतिनिधि के तौर से Ms. Roopali Mehra D/o  Shri N. K. Sharma तथा Lara & Sons के मालिक के रूप में तेजस्वी प्रसाद यादव ने हस्ताक्षर किए।

-सहमति पत्र पर हस्ताक्षर करते समय यह भी कहा गया कि  तेजस्वी यादव के पास Iron & Steel के Handling का पर्याप्त अनुभव एवं आवश्यक संरचना है।

-इस सहमति पत्र पर राजद नेता भोला यादव ने गवाह के रूप में हस्ताक्षर किया।

-इस व्यापार को करने के लिए 255 डिसमिल जमीन पर 12 फीट से ज्यादा ऊंची चाहरदीवारी का निर्माण किया गया जिस पर करोड़ों रुपए खर्च हुए।

-अभी भी इस परिसर में क्रेन, Iron & Steel तथा अन्य उपयोगी सामान रखे हुए है।

-कुछ माह पूर्व तक इस चाहरदीवारी युक्त जमीन पर Lara & Sons का बोर्ड लगा हुआ था।

-अभी भी चाहरदीवारी पर Jindal Co. का Wall Painting किया हुआ हैं।

प्रश्न यह है कि

-Iron & Steel के Jindal Co. के Handling Agent के तथ्यों को आज तक छुपाया क्यों गया?

-चुनाव आयोग को दिए गए सम्पत्ति के ब्यौरे में इस जमीन तथा व्यापार का उल्लेख क्यों नहीं किया गया?-तेजस्वी यादव Jindal Co. के agent के रूप में करोड़ों का व्यापार करते रहे परन्तु VAT के Return मे Turnover शून्य दिखाते रहे।

-आखिर तेजस्वी यादव 22 वर्ष की उम्र में Delite Marketing, A B Export, Lara  Sons, Fairgrow जैसी कम्पनियों के मालिक केसे बन गए?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

जवानों की हत्या को लेकर केजरीवाल ने PM मोदी से मांगा जवाब

बीएसएफ जवान नरेंद्र सिंह की शहादत के बाद