इस दिन रात को जरूर करें ये उपाय, हो जाएंगे मालामाल

अपने जीवन को बेहतर से बेहतर बनाने के लिए काफी मेहनत करता है और मेहनत करके धन कमाता है किंतु देखा गया है कि धन कितना भी आ जाए लेकिन कहीं ना कहीं निकल ही जाता है बचता कुछ भी नहीं है। आज हम आपके सामने इसी समस्या का समाधान लेकर आए हैं जिसको अपनाने के बाद आपके धन की बचत होने लगेगी एवं आपके हाथ में पैसा टिकने लगेगा। जैसा कि आप जानते हैं कि रविवार का दिन भगवान सूर्य को समर्पित है और ज्योतिष शास्त्र में सूर्य भगवान को वैभव का देवता बताया गया है। आप भगवान सूर्य की पूजा से धन-धान्य, सुख समृद्धि एवं सम्मान मान प्रतिष्ठा आदि को आसानी से प्राप्त कर सकते हैं। अपने जीवन में आ रही आर्थिक तंगी को समाप्त कर सकते हैं आइए पढ़ते हैं आखिर क्या उपाय है जो आपको रविवार के दिन करने हैं।

इस दिन रात को जरूर करें ये उपाय, हो जाएंगे मालामाल

यह उपाय रविवार के दिन अपनाएं…..

रविवार की रात्रि को जब आप सोने जाते हैं तब अपने सिरहाने पर एक गिलास भरकर दूध रखें और सो जाएं। जब आप दूध को अपने सिर आने पर रखते हैं तब इस बात का अवश्य ध्यान रखें कि रात्रि के वक्त सोते समय आपका हाथ दूध के गिलास पर लग कर दूध नीचे ना गिर जाए इसीलिए अपने सिर आने पर ऐसी जगह रखें कि रात को यदि आपका हाथ हिलता भी है तो दूध ना गिरा .सके

रविवार के अगले दिन सुबह उठ कर नहा धो लें एवं नित्य कार्य पूरा कर ले। फिर उसके बाद उस दूध को जो आपने रात्रि के समय अपने सिरहाने पर रखा था वह जाकर किसी भी बबूल के पेड़ की जड़ पर डाल दें।

भगवान करे किसी के हाँथ में न हो ये रेखा …. मौत से बदतर दिखाती है जिन्दगी

यदि आप इस उपाय को नियमित रूप से रविवार के दिन करते हैं तो आप अपने जीवन से आर्थिक तंगी को दूर कर देंगे साथ ही अपनी मान प्रतिष्ठा को समाज में हासिल करेंगे पारिवारिक सुख शांति भी प्राप्त होगी। इस उपाय के साथ-साथ प्रत्येक रविवार के दिन सुबह उठकर हमेशा सूर्य भगवान को जल के साथ थोड़े फूल अर्पित अवश्य करें।नीचे दी गई वीडियो के माध्यम से आप और भी अधिक जानकारी विस्तार रूप में प्राप्त कर सकते हैं वीडियो अवश्य देखें !

Loading...

Check Also

Chhath puja: कब, क्यों आैर कैसे मनाया जाता है छठ पर्व, चार दिन चलता है उत्सव

Chhath puja: कब, क्यों आैर कैसे मनाया जाता है छठ पर्व, चार दिन चलता है उत्सव

कब होती है छठ पूजा छठ पूजा का पर्व सूर्य देव की आराधना के लिए …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com