सुनीता विलियम्स को दोबारा मिली अंतरिक्ष मिशन की जिम्मेदारी…

भारतीय मूल की अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री सुनीता विलियम्स अब एक और इतिहास रचने जा रही हैं। वह नासा की ओर से पहले प्राइवेट स्पेसशिप से होने वाले मानव मिशन के लिए चुने गए नौ अंतरिक्ष यात्रियों में शामिल रहेंगी। 

बोइंग और स्पेसएक्स कंपनी के व्यावसायिक रॉकेट और कैप्सूल से उड़ान भरने वाले क्रू सदस्यों की घोषणा कर दी गई है। यह मिशन अगले साल शुरू होगा। 2011 में स्पेस शटल कार्यक्रम बंद होने के बाद अमेरिका का यह पहला स्पेस मिशन होगा। नासा ने कई साल पहले प्राइवेट यान के निर्माण और विकास का विचार किया था। अब वह इसे अंतरिक्ष भेजने जा रहा है।

 इस अभियान में सुनीता विलियम्स और जोस कसाडा एक साथ उड़ान भरेंगी। कसाडा की यह पहली अंतरिक्ष उड़ान होगी, जबकि सुनीता पहले भी अंतरिक्ष स्टेशन में 321 दिन बिता चुकी हैं।

नासा के प्रशासक जिम ब्राइडंस्टाइन ने ‘लांच अमेरिका’ घोषणा के दौरान कहा, ‘नासा के आठ सक्रिय अंतरिक्षयात्री और एक पूर्व अंतरिक्षयात्री व वाणिज्यिक चालक दल के सदस्य को 2019 की शुरुआत में बोइंग सीएसटी-100 स्टारलाइनर एवं स्पेस एक्स ड्रैगन कैप्सूल्स से अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन भेजा जाएगा। ब्राइडंस्टाइन ने कहा, ‘आज अंतरिक्ष के क्षेत्र में महान उपलब्धि हासिल करने का हमारे देश का सपना हमारी मुट्ठी में है।’

अहमदाबाद से रहे हैं सुनीता के पूर्वजों के रिश्ते

अमेरिका की नौसेना में कैप्टन रह चुकीं सुनीता विलियम्स के पूर्वज अहमदाबाद से संबंध रखते थे। सुनीता का जन्म अमेरिका के यूक्लिड (ओहियो) में हुआ। मई, 1987 में सुनीता का चयन अमेरिकी नौसेना के लिए हुआ। 1998 में नासा के लिए चुने जाने से पहले उन्होंने 30 से ज्यादा अलग-अलग हेलीकाप्टर में 3,000 घंटों से ज्यादा की उड़ान भरी थी। उन्होंने अंतरिक्ष में कुल 321 दिन बिताए। महिला अंतरिक्ष यात्री के तौर पर 5 घंटे 40 मिनट के सर्वाधिक स्पेसवॉक का रिकॉर्ड भी उनके नाम है।

अंतरिक्ष में जाने वाले नौ सदस्य

नासा मिशन में सुनीता विलियम्स (52) और जोस कसाडा (45) एक साथ उड़ान भरेंगी। रॉबर्ट बेहंकेन (48) और डगलस हर्ले (51) स्पेसएक्स के पहले ड्रैगन क्रू के तौर पर साथ उड़ान भरेंगे। अंतरिक्षयात्री एरिक बोए (53) और निकोल मैन (41) इसी यान के शटल अभियान के कमांडर के रूप में जाएंगे। पूर्व अंतरिक्षयात्री व बोइंग कार्यकारी क्रिस्टोफर फर्ग्युसन (56) स्टारलाइनर प्रायोगिक यान के सदस्य होंगे। इसे फ्लोरिडा में केप केनवेरल वायुसेना अड्डे में कॉम्प्लेक्स-41 से यूनाइटेड लांच अलायंस एटलस वी रॉकेट के जरिये भेजा जाएगा। विक्टर ग्लोवर (42) और माइकल होपकिंस (49) स्पेसएक्स के ड्रैगन के पहले संचालन अभियान पर उड़ान भरेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

इस वजह से मालदीव में ब्रिटिश कालीन मूर्तियों को तोड़ा गया कुल्हाड़ी से..

मालदीव के निवर्तमान राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन द्वारा ब्रिटिश