सियासत का अखाड़ा बना अलीगढ़ यूनिवर्सिटी में छात्रों का धरनास्थल

अलीगढ़। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) में जिन्ना की तस्वीर को लेकर छात्रों पर हुए लाठीचार्ज के विरोध में धरना चौथे दिन भी जारी रहा। शनिवार को धरनास्थल पर छात्र नेताओं के अलावा बसपा, कांग्रेस, सपा के नेता भी पहुंचे। सभी का निशाना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रहे। इंटरनेट सेवा ठप रहने से सोशल मीडिया पर अफवाहों का दौर थमा रहा। एएमयू में बड़ी संख्या में पुलिस व आरएएफ तैनात रही। भाजपा सांसद सतीश गौतम ने फिर दोहराया कि जिन्ना की तस्वीर उतरवाकर ही रहेंगे। हिंदूवादी छात्र नेताओं ने जिन्ना की तस्वीरों को शौचालय में लगाया, पुतला भी फूंका। सियासत का अखाड़ा बना अलीगढ़ यूनिवर्सिटी में छात्रों का धरनास्थल

बात-बात पर पाकिस्तान भेजने की बात

धरनास्थल पर पहुंचीं जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष गीता कुमारी ने कहा कि प्रधानमंत्री को इतिहास की जानकारी नहीं है, बात-बात पर पाकिस्तान भेजने की बात करते हैं। उनके बेतुके बोल यहीं नहीं रुके, कहा कि ये देश आरएसएस के बाप का नहीं है, हमारा है। कहा कि भाजपा बताए कि संसद में सावरकर की तस्वीर क्यों लगी है? बोलीं, पढ़े-लिखे नेता नहीं, आज तो बाबा मुख्यमंत्री बन जाते हैं। प्रदेश में आज इतनी गोशालाएं हैं, जितने स्कूल नहीं हैं। तीन दिन पहले पीएम मोदी कर्नाटक की सभा में पर्चा देखकर बोल रहे थे। हमने कुर्सी पर इनको बिठाया था, हम ही उतारेंगे। एएमयू में क्या होगा, यह छात्र तय करेंगे। जन अधिकार मोर्चा के मधेपुरा (बिहार) से सांसद पप्पू यादव ने कहा कि छात्रों पर लाठीचार्ज नहीं, पुलिस का हमला है। इसे संसद में उठाया जाएगा। 

सवाल तस्वीर का नहीं, संस्था पर हमले का 

अलीगढ़ से बसपा के मेयर मोहम्मद फुरकान ने मांग की कि हिंदूवादी छात्र नेताओं को रोकने में नाकाम रहे थाने के पूरे स्टाफ को निलंबित किया जाए। कांग्रेस के पूर्व सांसद चौ. बिजेंद्र सिंह ने कहा कि सवाल जिन्ना की तस्वीर का नहीं, एक संस्था पर हमले का सवाल है। देश के बंटवारे के लिए जिन्ना नहीं, सावरकर जिम्मेदार हैं। देर शाम सपा के पूर्व विधायक जफर आलम, जिलाध्यक्ष अशोक यादव भी समर्थकों के साथ पहुंचे।

वहीं सांसद सतीश गौतम स्थानीय पार्टी नेताओं के साथ डीएम चंद्रभूषण सिंह से मिले। एएमयू में पैदा हुए हालात पर चर्चा की। दूसरी ओर हिंदूवादी छात्र नेता अमित गोस्वामी, सौरभ चौधरी आदि ने डीएस कॉलेज में जिन्ना की तस्वीरों को शौचालय में लगाया। पुतला भी फूंका। कहा कि एएमयू में जिन्ना की तस्वीर उतरवाकर दम लेंगे। छात्रों की पुलिस से नोकझोंक भी हुई। डीएम चंद्रभूषण सिंह ने बताया कि स्थिति सामान्य हो रही है। घटना की न्यायिक जांच कराई जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

पेट्रोल की बढ़ी कीमतों को लेकर पैदल मार्च कर रहे कांग्रेसी आपस में भिड़े

कानपुर : डीजल, पेट्रोल और रसोई गैस की