बच के रहना होलिका दहन की रात, अगर किया ये काम, तो हो जाओगे काले जादू के शिकार

- in धर्म

23 फरवरी से होलाष्‍टक शुरु हो चुका हैं, 1 मार्च तक होलाष्‍टक रहेगा। इस दिन तक कोई शुभ कार्य नहीं होंगे। होलाष्‍टक होलिका दहन के साथ ही उतर जाता हैं।

बच के रहना होलिका दहन की रात, अगर किया ये काम, तो हो जाओगे काले जादू के शिकार

लेकिन होलिका दहन के दिन भी लोगों के सम्‍भलकर कुछ बातों का ध्‍यान रखना चाहिए। होलिका दहन की रात को तंत्र साधना के लिए बढि़या माना जाता है। इस दिन लोग कई समस्‍याओं से निजात पाने के लिए तंत्र मंत्र का सहारा लेते हैं। इस दिन आप पर इन टोटको का बुरा असर न हो इसलिए आपको इस दिन भूलकर भी ये काम नहीं करना चाहिए। लेकिन कुछ चीजे ऐसी हैं जो होलिका दहन के समय आपको ध्‍यान रखना चाहिए।

 

होलिका दहन वाले दिन में बाहर निकलते समय अपने सिर को ढककर रहना चाहिए क्योंकि टोने-टोटके के लिए सिर का इस्तेमाल किया जाता है। इंसान के कपड़े का प्रयोग तंत्र-मंत्र और टोटके के लिए किया जाता है इसलिए इस दिन अपने कपड़े का कोई भी हिस्सा इधर-उधर न फेंकें। अपने कपड़ों को समय रहते हुए ही सहजकर अंदर रख दें।

25 फरवरी दिन रविवार का राशिफल: जानिए क्या कहते है आज आपके सितारे, कहीं आपकी भी तो नही बदल रही है चाल

 

होलिका दहन वाले दिन भूलकर भी किसी अनजानी चीज को नहीं छुना चाहिए नहीं तो आपके ऊपर टोटके का असर होने लगता है। होलिका दहन वाले दिन अनजानी जगह या किसी के द्वारा दिया गया सफेद रंग की चीजें को नहीं खाना चाहिए। क्योंकि इस दिन लोग टोने- टोटके के लिए सफेद वस्‍तुओं का उपयोग करते हैं।

 

इस दिन गर्भवती महिलाएं विशेष सावधानी बरतें क्योंकि इन पर तंत्र-मंत्र का असर जल्दी होता है। इसलिए बाहर किसी बड़े बुजुर्ग के साथ ही जाएं और पूजा करके सीधे घर आ जाएं। शाम में 7 बजकर 37 मिनट पर भद्रा समाप्त हो जाएगा इसके बाद से होलिका दहन किया जाना शुभ रहेगा। वैसे शास्त्रों में बताए गए नियमों के अनुसार इस साल होलिका दहन के लिए बहुत ही शुभ स्थिति बनी हुई है। पूर्णिमा तिथि हो, प्रदोष काल हो और भद्रा ना लगा हो। इस साल होलिका दहन पर ये तीनों संयोग बन रहे हैं।

 

इस दौरान करना चाहिए दान पुण्‍य धार्मिक ग्रंथ और शास्त्रों के अनुसार होलाष्टक के दिनों में किए गए व्रत और किए गए दान से जीवन के कष्टों से मुक्ति मिलती है और ईश्वर का आशीर्वाद मिलता है। इस दिन वस्त्र, अनाज और अपने इच्छानुसार धन का दान करना चाहिए।

 

You may also like

गणेश चतुर्थी: इन चीजों के बिना अधूरी है भगवान गणेश जी की पूजा, नहीं किया तो अभी समय है

13 सितंबर से पूरे हिंदुस्तान में गणेश चतुर्थी