कुछ यूँ हरीश रावत ने फिर करा दिया अपनी मजबूत पकड़ का अहसास

देहरादून: पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने एक बार फिर पार्टी के भीतर अपनी मजबूत पकड़ का अहसास करा दिया। हरदा द्वारा दी गई फलों की दावत में मौजूदा विधायक, पूर्व मंत्री व विधायकों समेत तमाम वरिष्ठ नेता मौजूद रहे। पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय की मौजूदगी ने कांग्रेस के भीतर दोनों के बीच मजबूत हो रहे संबंधों पर भी मुहर लगाई। कुछ यूँ हरीश रावत ने फिर करा दिया अपनी मजबूत पकड़ का अहसास

विधानसभा चुनावों में मिली पराजय के बाद हरीश रावत चुपचाप नहीं बैठे हैं। किसी ने किसी बहाने वे अपने समर्थकों को एक मंच पर ले ही आते हैं। रविवार को भी फलों की पार्टी के बहाने वे पार्टी के भीतर अपनी पकड़ का अहसास कराने में कामयाब रहे।  इस पार्टी में खासी संख्या में उनके समर्थक जुटे। खास यह रहा कि वह अन्य दलों के नेताओं को भी इस दावत तक लाकर सबके बीच स्वीकार्यता का भी अहसास करा गए। पूर्व प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय कुछ देर से दावत में पहुंचे, लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री ने पूरी गर्मजोशी से उनका स्वागत करते हुए उन्हें दावत का सह संयोजक करार दिया और अगली दावत उनकी तरफ से कराने तक का ऐलान कर डाला। 

ये लोग मौजूद रहे दावत में 

कांग्रेसी विधायक मनोज रावत, ममता राकेश, फुरकान अहमद व निर्दलीय विधायक प्रीतम सिंह पंवार के अलावा पूर्व मंत्री दिनेश अग्रवाल, मंत्री प्रसाद नैथानी, पूर्व विधायक राजकुमार, जोत सिंह गुनसोला, टीपीएस रावत, विजयपाल सजवाण, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता अशोक वर्मा, राजीव जैन, सुरेंद्र अग्रवाल व जसबीर रावत समेत बड़ी संख्या में कांग्रेसी कार्यकर्ता व अन्य लोग उपस्थिति थे। 

किशोर आए और धनै गए 

पूर्व कैबिनेट मंत्री दिनेश धनै और किशोर उपाध्याय के बीच दूरियां अभी कम नहीं हुई हैं। यह इस दावत में भी नजर आया। शाम को जब किशोर उपाध्याय दावत में आए, तब धनै मंच पर मौजूद थे। किशोर के मंच पर आते ही धनै वहां से निकल गए। 

चमोली ने कहा, सकारात्मक कदम 

दावत में पूर्व मेयर व धर्मपुर से भाजपा विधायक विनोद चमोली ने भी शिरकत की। उन्होंने इसे एक अच्छी पहल बताया। उन्होंने कहा कि उन्हें बुलाया गया था, इसलिए वह कार्यक्रम में आए। इस तरह के कार्यक्रमों में आने से सौहार्द बढ़ता है। 

पार्टी में परोसे गए ये फल और व्यंजन 

आम, मुंगरी (मकई), ककड़ी (खीरा), जामुन, आड़ू, कीवी, कुमाऊंनी रायता व दूध। 

कोई मजबूरी रही होगी वरना कोई यूं. 

प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह के कार्यक्रम में न आने पर पूछे गए सवाल पर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने चुटकी ली। उन्होंने कहा कि कोई तो मजबूरी रही होगी वरना कोई यूं.। उन्होंने आगे कहा कि उन्होंने सबको निमंत्रण दिया था। इस बार तो लिखित निमंत्रण भी भेजा गया। यह अच्छा रहा कि अधिक से अधिक लोगों ने इस कार्यक्रम में शिरकत की। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

यह मंदिर है एकता का प्रतिक जहां हिंदू-मुसलमान दोनों नवाते हैं सिर, ऐसे होती है यहां पूजा

जयपुर।विश्व प्रसिद्ध बाबा रामदेव का 633वां वार्षिक मेला