नई दिल्ली: भारत की अग्रणी महिला बैडिमंटन खिलाड़ी पी.वी. सिंधु ने शनिवार को बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए लगातार दूसरी बार विश्व चैम्पियनशिप के महिला एकल वर्ग के फाइनल में जगह बना ली. सिंधु ने एक कड़े और रोचक सेमीफाइनल मुकाबले में जापान की अकाने यामागुची को 21-16, 24-22 से मात देकर फाइनल में कदम रखा और टूर्नामेंट में अपना रजत पदक पक्का किया. सिंधु ने पिछले साल भी इस टूर्नामेंट में रजत पदक जीता था. पिछले साल जापान की नोजोमी ओकुहारा ने सिंधु को फाइनल में मात दी थी.वर्ल्ड बैडमिंटन चैम्पियनशिप में फाइनल में पहुँची सिंधु

इस बार सिंधु फाइनल में स्पेन की कैरोनिलना मारिन के खिलाफ उतरेंगी. मारिन ने एक अन्य सेमीफाइनल में चीन की ही बिंगजियाओ को 13-21, 21-16, 21-13 से मात देकर फाइनल में प्रवेश किया. सिंधु के पास इस टूर्नामेंट में इतिहास रचने का मौका है. सिंधु अगर फाइनल में मारिन को मात दे देती हैं तो वह इस टूर्नामेंट में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली खिलाड़ी बन जाएंगी.

फाइनल मैच के भी रोमांचक होने की पूरी उम्मीद है. मारिन और सिंधु के बीच अभी तक कुल 11 मुकाबले हुए हैं जिसमें छह में मारिन को जीत मिली है तो पांच बार सिंधु विजेता बनी हैं. इन मुकाबले में रियो ओलम्पिक-2016 का फाइनल भी शामिल है जहां स्पेनिश खिलाड़ी ने जीत हासिल की थी.

55 मिनट तक चले इस मैच के पहले गेम में जापानी खिलाड़ी ने शानदार शुरुआत की और 5-0 की बढ़त ले ली. सिंधु ने कुछ देर संभलने के बाद वापसी करते हुए स्कोर 8-8 से बराबर कर लिया, हालांकि ब्रेक तक यामागुजी 11-10 की बढ़त ले ली थी, लेकिन ब्रेक के बाद वो अपनी लय को कायम नहीं रख पाईं. सिंधु ने 19-13 की बढ़त ली और फिर 21-16 से गेम अपने नाम कर लिया.

दूसरे गेम में सिंधु 1-4 से पीछे थीं. इस गेम में भी यामागुची ब्रेक में 11-7 की बढ़त के साथ गईं. ब्रेक के बाद यामागुजी 19-14 से आगे थीं. लगा की मैच तीसरे गेम में जाएगा तभी सिंधु ने वापसी करते हुए स्कोर 19-19 से बराबर कर लिया. यहां से मुकाबला रोचक हो गया, लेकिन आखिरकार सिंधु ने 24-22 से गेम जीत फाइनल में प्रवेश किया.

वहीं, रविवार को होने वाले फाइनल मुकाबलों में पुरुष एकल वर्ग में चीन के शी युकी और जापान के केंटो मोमोटा की भिड़ंत होगी. युकी ने हमवतन चेन लोंग को 21-11, 21-17 से मात दी. वहीं मोमोटा ने मलेशिया के डारेन लीव को 21-16, 21-5 से शिकस्त दे फाइनल में प्रवेश किया.

मिश्रित युगल में चीन की शीर्ष वरीय जोड़ी झेंग और हुयांग याकिओंग दूसरी वरीय वांग यिलयु और हुयांग डोंगपिंग से भिड़ेंगी. महिला युगल के फाइनल में जापान की ही युकी फुकुशिमा और सायाका हिरोटा का सामना मायु माटसुमोटो और वाकाना नागाहारा से होगा. पुरुष युगल में जापान के ताकेशी कामुरा और किएगो सोनोडा चीन के ली जुनहुई और लियू युचेन से भिड़ंत करेंगे.