शिवसेना नहीं शामिल होगी वोटिंग में, 282 से 274 सीटों पर पहुंची BJP क्या झेल पाएगी पहला अविश्वास प्रस्ताव

टीडीपी और  वाईएसआर कांग्रेस ने भाजपा की अगुवाई में चल रहे एनडीए सरकार के खिलाफ खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस दिया है. वहीं बीजेपी की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने कहा है कि वो वोटिंग में हिस्सा नहीं लेगी. लोकसभा में शिवसेना की 18 सीटें हैं. गौरतलब है कि टीडीपी और वाईएसआर कांग्रेस ने यह कदम आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने से केंद्र के इनकार करने पर उठाया गया है.  

आपको बता दें कि प्रस्ताव को तभी स्वीकार किया जा सकता है जब सदन में उसे कम से कम 50 सदस्यों का समर्थन हासिल हो. वाईएसआर कांग्रेस के लोकसभा में 9 सदस्य हैं. अगर इसे स्वीकार कर लिया जाता है तो यह मोदी सरकार के खिलाफ लाया जाने वाला पहला अविश्वास प्रस्ताव होगा. वाईएसआर कांग्रेस प्रमुख जगन मोहन रेड्डी और टीडीपी  ने विभिन्न दलों के नेताओं को पत्र लिखकर प्रस्ताव के लिये समर्थन मांगा है.  टीएमसी, सीपीआईएम और आरजेडी और कांग्रेस ने सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव के समर्थन करने का फैसला किया है.  वहीं एनडीटीवी से बातचीत में एक टीडीपी सांसद राम मोहन नायडू ने कहा कि आज नोटिस दिया गया है. वाईएसआर के आने से कोई समस्या नहीं है. हमारा मकसद सरकार गिराना नहीं बल्कि हमारे मुद्दे पर सदन में चर्चा करना है. जबकि एक दूसरे सांसद टीडीपी सांसद टी. नरसिम्हन ने मीडिया से बातचीत में  कहा है कि उनकी पार्टी आज अविश्वास प्रस्ताव लाएगी और इस पर टीएमसी, कांग्रेस और समाजवादी पार्टी से भी बात की है. उन्होंने कहा कि वाईएसआर कांग्रेस सिर्फ राजनीति कर रही है उनको राज्य की भलाई की कोई चिंता नहीं है. 

सुप्रीम कोर्ट में दोबारा खुलेगा आरुषी-हेमराज मर्डर केस, हेमराज की पत्नी की याचिका मंजूर की

You may also like

भोपाल में भाजपा कार्यकर्ताओं का ‘महाकुंभ’ आज, चुनावी अभियान का आगाज करेंगे मोदी-शाह

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को यहां भाजपा के