शीला दीक्षित ने केजरीवाल को दी ये बड़ी सीख और कहा…

नई दिल्ली। राजनिवास में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनके मंत्रियों के चल रहे धरने के बीच दिल्ली में सियासी संकट बढ़ता जा रहा है। भाजपा गैरशासित चार राज्यों के मुख्यमंत्री भी केजरीवाल के समर्थन में आ गए हैं। नीति आयोग गवर्निंग काउंसिल की बैठक के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्वीट कर कहा ‘मैंने आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और केरल के माननीय मुख्यमंत्रियों के साथ माननीय प्रधानमंत्री से दिल्ली सरकार की समस्याओं का तत्काल समाधान करने का अनुरोध किया है।’ इस सियासी संकट के बीच केजरीवाल पहले ही आरोप लगा चुके हैं कि उपराज्यपाल पीएमओ के आदेश पर चल रहे हैं। मनीष सिसोदिया ने भी कहा है कि यह दिल्ली में अघोषित राष्ट्रपति शासन लगाने जैसा है।शीला दीक्षित ने केजरीवाल को दी ये बड़ी सीख और कहा...

केजरीवाल को बताया नक्सली 

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू, केरल के सीएम पिनरई विजयन और कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने अरविंद केजरीवाल का समर्थन किया है। इस बीच भाजपा से राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने केजरीवाल पर नक्सली होने का आरोप लगाया है। राजनिवास पर उनके धरने को चार राज्यों के मुख्यमंत्रियों का समर्थन मिलने के बाद उनका यह बयान सामने आया है।

शीला ने केजरीवाल पर साधा निशाना 

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित​ ने भी सीएम अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा है। शीला ने कहा कि सरकार को नियमों और प्रावधान के अंदर अपना काम करना चाहिए। जो चाहें वो नहीं कर सकते।

केजरीवाल ने एलजी पर उठाए सवाल

इससे पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एलजी अनिल बैजल पर निशाना साधते हुए पूछा कि आखिर किस संवैधानिक प्रावधान के तहत दिल्ली के उपराज्यपाल को मुख्यमंत्री के बदले नीति आयोग की बैठक में जाने का अधिकार है। मैंने तो उन्हें यह अधिकार नहीं दिया है।

बैठक में शामिल होने की खबर गलत 

नीति आयोग की बैठक में एलजी के जाने को लेकर सीएम केजरीवाल के ट्वीट के बाद नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने ट्वीट कर कहा कि बैठक में एलजी के शामिल होने की खबर पूरी तरह गलत है। दिल्ली के उपराज्यपाल नीति आयोग की बैठक में शामिल नहीं हुए।

केजरीवाल का एक ओर झूठ पकड़ा गया

नीति आयोग की बैठक में एलजी के जाने को लेकर सीएम केजरीवाल के ट्वीट पर कपिल मिश्रा ने भी चुटकी ली।कपिल ने ट्वीट कर कहा कि ‘केजरीवाल का एक ओर झूठ पकड़ा गया, एलजी के बारे में सुबह सुबह झूठ बोला, नीति आयोग में एलजी के जाने के बारे में बोला केजरीवाल ने झूठ’

केजरीवाल से नहीं मिल पाए चार राज्यों के सीएम 

गौरतलब है कि राजनिवास में धरने के बीच चार राज्यों के मुख्यमंत्री केजरीवाल से नहीं मिल पाए। दरअसल, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू, केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन और कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमार स्वामी ने पत्र लिखकर राजनिवास कार्यालय से धरना दे रहे अरविंद केजरीवाल और उनके मंत्रियों से मिलने की अनुमति मांगी थी, लेकिन उपराज्यपाल कार्यालय ने उन्हें मिलने की अनुमति प्रदान नहीं की।

सरकारों को सही तरीके से काम करने दिया जाए

अनुमति न मिलने के बाद बाद चारों मुख्यमंत्री फ्लैग स्टाफ रोड स्थित मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास पहुंचे। यहा केजरीवाल की पत्नी सुनीता केजरीवाल और दिल्ली विधानसभा के अध्यक्ष रामनिवास गोयल ने चारों मुख्यमंत्रियों का स्वागत किया। सभी मुख्यमंत्रियों ने केजरीवाल की बेटी और बेटे से भी मुलाकात की। मुलाकात के बाद चारों मुख्यमंत्रियों ने केजरीवाल के आवास पर ही प्रेसवार्ता की। इस दौरान चंद्रबाबू नायडू ने केजरीवाल की मागे माने जाने की बात कही। उन्होंने कहा कि सभी विपक्षी सरकारों को सही तरीके से काम करने दिया जाए।

अधिकारियों से हुई मारपीट के सवाल पर चुप रहीं ममता 

ममता बनर्जी ने कहा कि चार माह से एक मामला चल रहा है, लेकिन यह मामला शात नहीं हो रहा है। दिल्ली में इस समय संवैधानिक संकट है, जो कि नहीं होना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि नीति आयोग की बैठक में वह प्रधानमंत्री से भी इस बारे में बात करेंगी। हालाकि अधिकारियों से हुई मारपीट के सवाल पर ममता बनर्जी ने कुछ भी कहने से इन्कार कर दिया। उन्होंने बताया कि उपराज्यपाल कार्यालय ने उन्हें मिलने का समय नहीं दिया।

कपिल मिश्रा ने फिर ली चुटकी

‘आप’ के बागी विधायक कपिल मिश्रा ने चार राज्यों के मुख्यमंत्रियों के केजरीवाल के आवास पर पहुंचने पर चुटकी ली। उन्होंने कहा कि किसी भी राज्य के मुख्यमंत्री ने अरविंद केजरीवाल से धरना खत्म करने की अपील नहीं की, इससे केजरीवाल फंस गए। केजरीवाल को राजनिवास से बाहर निकलने का रास्ता नहीं मिल रहा। चारों को हाथ पैर जोड़कर बुलाया था, लेकिन चारों आए तो सही पर किसी ने धरना खत्म करने की अपील नहीं की। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बसपा तैयार कर रही लोकसभा सीटों पर प्रत्याशियों की सूची

भाजपा के खिलाफ विपक्षियों के महागठबंधन से अलग