अमेरिका में स्थित सहारा समूह होटल 4 हजार करोड़ रुपये में बिकेगा

सहारा समूह की अमेरिका में स्थित ऐतिहासिक होटल ‘ प्लाजा होटल ’ को 60 करोड़ डॉलर ( करीब चार हजार करोड़ रुपये ) खरीदने के लिए दो निवेशकों ने मिलकर एक सौदा किया है. इस होटल में सुब्रत रॉय की 70 प्रतिशत हिस्सेदारी है. एक मीडिया रिपोर्ट में यह बात कही गयी है. अमेरिकी अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स के अनुसार , दुबई स्थित व्हाइट सिटी वेंचर्स के संस्थापक शहल खान और हकीम ऑर्गेनाइजेशन के कामरान हकीम ने प्लाजा होटल की बहुलांश हिस्सेदारी 60 करोड़ डॉलर में खरीदने का सौदा किया है. इस सौदे के 25 जून को पूरा होने का अनुमान है. रिपोर्ट में कहा गया है कि सहारा समूह के कॉरपोरेट वित्त प्रमुख संदीप वाधवा और होटल में पांच प्रतिशत हिस्सेदारी रखने वाले संत सिंह चटवाल ने सौदे की पुष्टि की है. हालांकि दोनों ने सौदे की गोपनीयता का हवाला देकर और जानकारी देने से इनकार किया है. उल्लेखनीय है कि 1907 में बने इस ऐतिहासिक होटल का स्वामित्व कभी अमेरिका के मौजूदा राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की कंपनी के पास था.

अमेरिका में स्थित सहारा समूह होटल 4 हजार करोड़ रुपये में बिकेगा

सुप्रीम कोर्ट का पत्रकार उपेन्द्र राय की गिरफ्तारी के मामले में दखल से इंकार

उच्चतम न्यायालय ने संदिग्ध वित्तीय लेन देन में कथित संलिप्तता के संबंध में पत्रकार उपेन्द्र राय की गिरफ्तारी के मामले में हस्तक्षेप करने से आज इंकार कर दिया. उपेन्द्र राय को केन्द्रीय जांच ब्यूरो ने कल गिरफ्तार किया था. न्यायमूर्ति ए के सिकरी और न्यायमूर्ति अरूण भूषण की पीठ ने कहा कि वह राय की गिरफ्तारी के मामले में हस्तक्षेप नहीं करेगी क्योंकि उसने संरक्षण के लिये दायर उनकी अर्जी अभी देखी नहीं है. जांच ब्यूरो ने दिल्ली स्थित पत्रकार उपेन्द्र राय को संदिग्ध वित्तीय लेन देन में कथित संलिप्तता और हवाई अड्डे में प्रवेश के लिये गलत जानकारी देकर नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो का पास हासिल करने के मामले में कल गिरफ्तार किया था. राय का दावा है कि इस मामले में उन्हें फंसाया गया है क्योंकि वह प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारी राजेश्वर सिंह के बारे में लिखते रहे हैं. राजेश्वर सिंह बहुचर्चित टू जी स्पेक्ट्रम आबंटन मामले की जांच करने वाले दल के सदस्य थे. 

किम से पहले 22 मई को दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति की मेजबानी करेंगे डोनाल्ड ट्रंप

राय की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता मीनाक्षी अरोड़ा ने कहा कि पत्रकार के रूप में जब भी उन्होंने प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारी के बारे में लिखा तो उन्हें झूठा फंसाया गया. अरोड़ा ने कहा , ‘‘ इस बार मुझे कल गिरफ्तार किया गया है और आरोप लगाया गया है कि मैंने छल से हवाई अड्डे का पास हासिल किया है. ’’ सिंह की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी ने कहा कि इस अधिकारी की छवि खराब करने के लिये झूठे आरोप लगाये गये और उन पर दबाव डालने के प्रयास किये गये. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

अब US के स्कूलों में पढ़ाया जाएगा भारत की गदर पार्टी का आंदोलन

भारत के स्वतंत्रता संग्राम में योगदान देने वाली