FB का नया फीचर फेस रिकॉग्निशन नहीं है सटीक, लोगों को हो सकती है परेशानी

- in गैजेट

फेसबुक इन दिनों डेटा ब्रीच को लेकर सुर्खियों में बना हुआ है. हाल ही में फेसबुक ने फेशियल रिकॉग्निशन फीचर की शुरुआत की है. फेसबुक पहले भी फेस रिकॉग्निशन फीचर यूज करता है, लेकिन इस बार इसे दूसरी तरह से यूज करने का प्लान है.

FB का नया फीचर फेस रिकॉग्निशन नहीं है सटीक, लोगों को हो सकती है परेशानीफेसबुक का यह नया फीचर इसलिए लाया गया है ताकि लोगों को पहचान की समस्या न हो. इसका दूसरा मकसद किसी यूजर की फोटो का गलत इस्तेमाल न हो उसे सुनिश्चित करना है. इसके लिए फेसबुक फेस रिकॉग्निशन का सहारा ले रहा है. फेसबुक के मुताबिक इस फीचर के तहत फेसबुक पर अगर कोई यूजर आपकी फोटो अपलोड करता है तो फेस रिकॉग्निशन फीचर के जरिए आपको एक नोटिफिकेशन मिलेगा. इस नोटिफिकेशन में बताया जाएगा कि फेसबुक यूजर ने एक फोटो अपलोड की है जिसमें आप हो सकते हैं.

हाल ही में मैंने इस फीचर को अपने फेसबुक पर ऑन किया था, काफी दिनों तक कोई नोटिफिकेशन नहीं मिला. अचानक 26 मार्च को कुछ लोगों ने सलमान की आने वाली फिल्म Race 3 का पोस्टर अपलोड किया और मुझे नोटिफिकेशन मिलना शुरू हुआ. चूंकि इनमें से किसी ने मुझे उन पोस्टर में टैग नहीं किया था और नोटिफिकेशन मुझे मिला तो ये हैरान करने वाला था. क्योंकि एक यूजर ऐसा था जो मेरी फ्रेंड लिस्ट में भी नहीं है.

इस पोस्टर में सलमान खान और अनिल कपूर सहित कुछ और स्टार हैं. लेकिन फेसबुक ने सलमान खान की फोटो के पास स्क्वॉयर बना कर मुझे ये बताना चाहा कि इस फोटो में आप हो सकते हैं. इसमें फेसबुक ने तीन ऑप्शन दिए – Not Me, Ignore और Tag yourself.  मैंने पहला ऑप्शन चुना. कुछ देर में नोटिफिकेशन आने बंद हो गए.

इससे दो सवाल उठते हैं – पहला ये कि फेसबुक फेस रिकॉग्निशन काम कैसे करता है और दूसरा ये कि किस आधार पर फेसबुक टैग करता है. चूंकि फेसबुक ने इस फीचर के साथ ऐपल के फेस आईडी की तरह ये दावा नहीं किया है कि फेस रिकॉग्निशन 99.9 फीसदी सही होगा. ऐपल और इसकी टेक्नॉलॉजी काफी अलग है. एक तरफ ऐपल आपके चेहरे को स्कैन करके फेस रिकॉग्निश यूज करता है और इसके लिए कंपनी ने कई डेडिकेटेड सेंसर्स दिए हैं तो दूसरी तरफ फेसबुक आपकी तस्वीरों को स्कैन और ऐनालाइज करके मशीन लर्निंग के जरिए यह पता लगाता है कि आप कौन हैं. इसमें चूक होना बड़ी बात नहीं है. लेकिन इससे फेसबुक पर सवाल उठने लाजमी हैं.

You may also like

अब NAMO एप से खरीद सकेंगे टी-शर्ट, नोटबुक, टोपी और मग जैसी चीजें…

2019 का चुनाव सिर पर है और इससे