RCA: क्रिकेट संघ के लिए घमासान, रुचिर मोदी और सीपी जोशी में सीधा मुकाबला

- in राजस्थान, राज्य
जयपुर। राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन के चुनाव के लिए वोटिंग पूरी हो गई है। 33 में से 33 वोट डाले जा चुके हैं। चुनाव परिणाम कोर्ट के आदेश के कारण अभी घोषित नहीं किया जाएगा। आरसीए में सीधा मुकाबला अब आईपीएल के पूर्व कमिश्नर ललित मोदी के बेटे रुचिर मोदी व कांग्रेस नेता सीपी जोशी के बीच होगा।
RCA: क्रिकेट संघ के लिए घमासान, रुचिर मोदी और सीपी जोशी में सीधा मुकाबला
यूं चल रहा है घमासान…
– भाजपा ने सांसद हर्षवर्धन सिंह को मैदान में उतारा था, लेकिन बदले गणित के बाद उन्होंने अंतिम समय में नाम वापस ले लिया।

ये भी पढ़े: प्लास्टिक की दुकान में भीषण आग लगने से आस-पास की दुकानों में फैली, ढाई घंटे तक चला आग का तांडव

– हाईकोर्ट की ओर से जब तक ऑर्डर नहीं होते तब तक रिजल्ट घोषित नहीं किया जाएगा। इसी शर्त पर हाईकोर्ट ने चुनाव प्रक्रिया जारी रखने की सिफारिश की थी।
– सभी 33 जिला संघों के एक-एक वोट हैं। दावे दोनों गुटों की ओर से 21-21 वोटों का किया जा रहा है।
– खास बात यह है कि जो दो प्रत्याशी अध्यक्ष पद के लिए चुनाव मैदान में हैं, उनमें से एक भी वोटर नहीं है। यानी न तो रुचिर मोदी वोटर हैं और न ही सीपी जोशी।
– असल में सीपी जोशी राजसमंद क्रिकेट संघ के अध्यक्ष हैं, लेकिन वोटिंग राइट संघ के सचिव गिरिराज सनाढ्य को है। इसी तरह रुचिर मोदी अलवर क्रिकेट संघ के अध्यक्ष हैं, लेकिन यहां के सचिव पवन गोयल वोट करेंगे।

वादे जो दोनों गुटों ने किए
जोशी खेमे का वादा
1. अंतरराष्ट्रीयस्तर का स्टेडियम
2.संभाग स्तर पर स्टेडियम बनाने का वादा
3.कुछ साल पहले टीम दो बार रणजी चैंपियन बनी। फिर से राजस्थान की क्रिकेट को उस स्तर पर ले जाने का वादा
4.रणजी टीम के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर का कोच नियुक्त किया जाएगा
5.सबसे पहला काम बीसीसीआई से सस्पेंशन हटवाने का ही करेंगे।
 
रुचिर का विजन
1. अंतरराष्ट्रीयस्तर का स्टेडियम
2.गांवों से प्रतिभा तलाशने के लिए टैलेंट हंट वैन
3.हर जिला क्रिकेट संघ को इंडिपेंडेंट बनाना, उसके पास अपना स्टेडियम होगा
4.राजस्थान के क्रिकेटरों के लिए ज्यादा से ज्यादा एक्सपोजर दिलाएंगे
5.बीसीसीआई से सस्पेंशन हटाने, अंतरराष्ट्रीय मैच-आईपीएल वापस लाना

You may also like

हरियाणा रोडवेज के कर्मचारी 5 सितंबर को करेंगे बसों का चक्का जाम

चंडीगढ़। हरियाणा सरकार से हुए समझौते लागू नहीं