हरियाणा में जाट एक बार फिर आंदोलन करने की तैयारी में, ये है आंदोलन का मुद्दा

- in राज्य, हरियाणा

रोहतक। सीबीआइ द्वारा जाट नेता पवन जसिया की गिरफ्तारी पर अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति भड़क गई है। समिति के सदस्य पवन की गिरफ्तारी से माहौल गरमा गया है। यशपाल मलिक गुट ने एक बार फिर आंदोलन शुरू करन का अल्‍टीमेटम दे दिया है। समिति ने कहा है कि यदि सीबीआइ की यही कार्यशैली रही तो 16 अगस्त से पहले ही एक बार आंदोलन का बिगुल बज सकता है।हरियाणा में जाट एक बार फिर आंदोलन करने की तैयारी में, ये है आंदोलन का मुद्दा

यशपाल मलिक गुट ने जसिया में की बैठक, प्रदेश कार्यकारिणी तय करेगी आंदोलन की रणनीति

समिति की जसिया में हुई बैठक में सीबीआइ की कार्रवाई के मद्देनजर हालत पर चर्चा की गई। बैठक में एक बार फिर आंदोलन छेड़ने की चेतावनी दी गई। जाट नेताओं ने कहा कि 16 अगस्‍त से पहले ही आंदोलन शुरू किया जा सकता है। बैठक के बाद समिति के पदाधिकारी आइजी संदीप खिरवार और एसपी जश्नदीप सिंह रंधावा से मिले। समिति के पदाधिकारियों ने कहा कि जाट समाज के साथ भेदभाव नहीं होने दिया जाएगा। आइजी और एसपी ने समिति के पदाधिकारियों को आश्वासन दिया कि उनकी मांगों को सरकार तक पहुंचा दिया जाएगा।

बता दें कि सीबीआइ ने मंगलवार को समिति के सदस्य पवन जसिया को गिरफ्तार कर लिया था। गिरफ्तारी का पता चलते ही समिति में पदाधिकारियों ने बुधवार को जसिया में आपात बैठक बुलाई। दोपहर 12 बजे जसिया में बैठक शुरू हुई। इसमें रोहतक जिले की कार्यकारिणी ने भाग लिया। करीब तीन घंटे तक चली बैठक में सीबीआइ की कार्यशैली पर विरोध जताया गया।

समिति के पदाधिकारियों ने कहा कि जब-जब पुलिस और सीबीआइ ने जिस व्यक्ति को जांच-पड़ताल के लिए बुलाया है वह गया है। लेकिन, जांच में सहयोग करने के बाद भी पवन जसिया को गिरफ्तार किया गया। सीबीआइ हरियाणा सरकार के इशारे पर काम कर रही है। जाट समाज इसे बर्दाश्त नहीं करेगा।

कार्यकारिणी की बैठक बनेगी आंदोलन की रणनीति

समिति के प्रदेश महासचिव कृष्णलाल हुड्डा ने बताया कि बृहस्पतिवार को प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक बुलाई गई है। इसमें समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष यशपाल मलिक भी भाग लेंगे। इस बैठक में आंदोलन की रणनीति तय की जाएगी। जो भी आंदोलन होगा वह केवल रोहतक में नहीं, बल्कि पूरे प्रदेश में एक साथ होगा। इसकी पूरी तैयारी कर ली गई है।

16 अगस्त से यह होना है आंदोलन

समिति ने पिछले माह घोषणा की थी कि 16 अगस्त से आंदोलन शुरू कर दिया जाएगा। 16 अगस्त के बाद मुख्यमंत्री से लेकर मंत्री और विधायक का कोई भी कार्यक्रम नहीं होने दिया जाएगा। उनके कार्यक्रम का बहिष्कार किया जाएगा। कार्यक्रम में मंच पर जाकर उनसे जवाब मांगा जाएगा। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बहराइच: मंत्री लगा रहीं ठुमके, बुखार से बच्चों की मौत का क्रम जारी

बहराइच तथा पास के जिलों में संक्रामक बुखार