प्रद्युम्न हत्याकांड का हो गया खुलासा, इस तरह से केवल तीन मिनट के अन्दर की गयी थी हत्या

- in अपराध, दिल्ली

नई दिल्ली: आज से लगभग दो महीने पहले हरियाणा के गुरुग्राम स्थित रेयान इंटरनेशनल स्कूल में एक हृदय विरादक घटना घटी थी। आठ साल के मासूम प्रद्युम्न की हत्या किसी ने बेरहमी से गला काटकर की थी। पुलिस से मासूम की हत्या के शक में उस समय स्कूल बस के ड्राईवर को गिरफ्तार किया था। जब इस मामले को पुलिस ना सम्भाल सकी तो इसे सीबीआई के हवाले सौंप दिया गया। हालांकि अब दो मैंने के बाद सीबीआई ने इस हत्याकांड की गुत्थी को सुलझा लिया है।

हत्या करने से पहले सोचा दो-तीन मिनट तक:

इस हत्याकांड का आरोपी 11वीं के छात्र ने जुवेनाइल जस्टिस के सामने अलग से स्वीकार कर लिया है कि उसी ने हत्या को अंजाम दिया था। इस बात का भी खुलासा हुआ है कि हत्या करने से दो-तीन मिनट पहले तक उसने भी सोचा कि यह बच्चा बहुत मासूम है। विचार करते-करते ही अचानक उसने प्रद्युम्न पर वार कर दिया। जाँच के दौरान उसने खुद ही स्वीकार किया था कि उसने ऐसा परीक्षा-पीटीएम रद्द करवाने के लिए किया था। वह परीक्षा के लिए तैयार नहीं था।

अचानक से बाथरूम में आ गया प्रद्युम्न:
इस हत्याकांड में एसआईती के विपरीत सीबीआई ने 11वीं के छात्र को आरोपी बनाया। कई बार पूछताछ के बाद उसे गिरफ्तार किया गयाआरोपी की रिमांड अवधी पूरी होने के बाद जब उसे जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड के सामने पेश किया गया तो बोर्ड के प्रिंसिपल मजिस्ट्रेट के साथ दोनों सदस्यों ने सीबीआई की टीम को बाहर करके अलग से पूछताछ की। आरोपी ने बोर्ड के सामने भी स्वीकार किया कि उसी ने हत्या की है। वह परीक्षा टालना चाहता था, यही सोचकर वह बाथरूम में गया था। अचानक से वह प्रद्युम्न आ गया।

चाकू निकलकर तुरंत कर दिया प्रद्युम्न पर वार:

उसने प्रद्युम्न से पूछा भाई मदद करोगे। इसके जवाब में प्रद्युम्न ने कहा हां भईया। इसके बाद तुरंत आरोपी छात्र अपनी कक्षा में गया और तुरंत वापस भी आ गया। प्रद्युम्न उसका बाथरूम में ही इंतज़ार कर रहा था। आरोपी ने चाकू निकाला और तुरंत ही उसके ऊपर वार कर दिया। उसने स्वीकार किया कि हत्या के बाद खून के निशान ना ही उसके हाथ पर थे और ना ही उसके कपड़े पर थे, जिस वजह से किसी ने उसे नहीं पकड़ा। उसने इसके बाद सभी को इस घटना की सूचना दे दी।

You may also like

देवर को भाभी से संबंध बनाना पड़ा महंगा, भाभी ने काट लिया….अंग

दुनियाभर से ना जाने कितने ही अपराध की