प्रभात झा ने कहा- कांग्रेस के पास CM शिवराज के खिलाफ न कोई चेहरा है और न ही आधार

- in मध्यप्रदेश

नई दिल्लीः भाजपा की मध्यप्रदेश इकाई के पूर्व अध्यक्ष प्रभात झा ने कहा कि कांग्रेस ऐसी पार्टी है जिसके पास न तो कोई चेहरा है, न कोई आधार है, न कोई अर्थ है और न ही इसके पास कोई जन नेता है और आने वाले विधानसभा चुनाव में पार्टी का सफाया हो जाएगा. राज्य सभा सांसद झा भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं. उन्होंने दावा किया कि कोई सत्ता विरोधी लहर नहीं है और पिछले 15 वर्षों से राज्य की सत्ता पर काबिज भगवा दल को जनता का जबर्दस्त समर्थन मिल रहा है. राज्य में अगले कुछ महीनों में चुनाव होने हैं. प्रभात झा ने ‘‘पीटीआई भाषा’’ को दिए साक्षात्कार में कहा, “हम यहां फिर से सरकार बनाएंगे. हम लगातार चौथी बार राज्य में सरकार बनाएंगे और शिवराज सिंह चौहान फिर से मुख्यमंत्री बनेंगे.

कांग्रेस कई धड़ों में बंटा है
उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में 29 लोकसभा सीटों में से 26 सीटें भाजपा के पास हैं और कांग्रेस के पास तीन हैं जिनसे ज्योतिरादित्य सिंधिया, कमल नाथ और कांतिलाल भूरिया सांसद हैं. इससे स्पष्ट है कि कांग्रेस के पास राज्य में कुछ नहीं बचा है. वह पहले ही अनेक धडों में बंटी हुई है. उनके पास कोई चेहरा (मुख्यमंत्री पद के लिए) नहीं है. उनके पास कोई चेहरा नहीं है, अर्थ नहीं हैं और आधार नहीं है. कांग्रेस का सफाया हो जाएगा.”

अबकी बार 200 पार
झा ने कहा कि मुख्यमंत्री के प्रति समर्थन दिखाते हुए भाजपा की जन आशीर्वाद यात्रा के तहत आयोजित एक कार्यक्रम में 25,000 से अधिक लोगों ने भाग लिया, जिससे यह सबित होता है कि जनता हमारे साथ है. मंत्रियों और विधायकों को टिकटों के बंटवारे के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि पार्टी इस पर कोई निर्णय लेगी और यह उम्मीदवार के जीतने की संभावनाओं पर निर्भर करेगा. उन्होंने कहा कि राज्य की 230 विधानसभा सीटों में भाजपा का लक्ष्य 200 सीटों का है और पार्टी का चुनावी नारा “अबकी बार 200 पार” है.

कमलनाथ और सिंधिया जननेता नहीं
2013 के विधानसभा चुनावों में भगवा पार्टी ने 165 सीटें जीती थीं वहीं मुख्य प्रतिद्वंद्वी पार्टी कांग्रेस के हिस्से में 58 सीटें आईं थीं. सिंधिया और नाथ को क्रमश: राज्य की प्रचार समिति का प्रमुख तथा राज्य इकाई का अध्यक्ष बनाए जाने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, “कमलनाथ कॉरपोरेट सेक्टर के व्यक्ति हैं वहीं सिंधिया का ताल्लुक राजवंश से है. ये जननेता नहीं हैं. ये केवल छिंदवाड़ा और गुना सीटों तक ही सीमित हैं.”

मध्यप्रदेश में हार्दिक की कोई छवि नहीं है
अनेक विधानसभा सीटों के लिए हुए उपचुनावों में सत्तारूढ़ दल की हार के बारे में पूछे जाने पर झा ने कहा चारों सीटों पर पहले ही कांग्रेस का कब्जा था वे केवल सीटें बचा पाए हैं और हम उनसे सीटें छीनने में चूक गए.” गुजरात पाटीदार आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल द्वारा राज्य की यात्रा कर मतदाताओं को जागरूक बनने की घोषणा के संबंध में पूछे जाने पर झा ने कहा की मध्यप्रदेश में उनकी कोई छवि नहीं है. पाटीदार मुख्यमंत्री चौहान और भाजपा के साथ हैं.

Patanjali Advertisement Campaign

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

MP सरकार वाजपेयी के नाम पर देगी तीन अवॉर्ड, हबीबगंज स्टेशन का नाम बदलने की मांग

भोपाल : मध्य प्रदेश सरकार ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल