PNB ने दिलाया भरोसा- कामकाज बाधित नहीं होगा, बोला अभी है पूरा पैसा

- in कारोबार

पंजाब नेशनल बैंक में सामने आए 11300 करोड़ रुपये के घोटाले के बाद अपने कामकाज को लेकर बैंक ने स्पष्टीकरण दिया है. बैंक ने कहा है कि इस महाघोटाले से उसके कामकाज पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

 PNB बोला- कामकाज बाधित नहीं होगा, अभी है पूरा पैसा उसने स्टॉक एक्सचेंजों को स्पष्टीकरण जारी करते हुए लिखा है कि बैंक के पास हर तरह की देनदारी देने के लिए नियमानुसार पर्याप्त संपति और पूंजी है.

दरअसल पिछले दिनों घोटाले के केंद्र में बने नीरव मोदी ने पीएनबी को खत लिखकर कहा था कि बैंक ने मामला सार्वजनिक कर वसूली के सारे रास्ते बंद कर दिए हैं. इसको लेकर स्टॉक एक्सचेंजों ने चिंता जताई थी. एक्सचेंजों ने बैंक से पूछा था कि बैंक ने इस मामले की सीबीआई के पास एफआईआर दर्ज करने की जानकारी क्यों नहीं दी.

इस पर बैंक ने जवाब दिया है कि अगर यह खबर पहले ही सार्वजनिक हो जाती, तो इससे फर्जीवाड़ा करने वाले सतर्क हो जाते. इसके चलते उनसे बकाया रकम वसूलना काफी मुश्क‍िल हो जाता.

बैंक ने कहा कि शुरुआती जांच के आधार पर 280.7 करोड़ रुपये के घोटाले की खबर बैंक के बोर्ड, बीएसई और एनएसई को दी गई थी. इसके बाद घोटाले की रकम बढ़ने पर इसकी जानकारी 13 फरवरी 2018 को आरबीआई के पास फ्रॉड मॉनिटरिंग रिटर्न (एफएमआर) में बताई गई.

इसके बाद सीबीआई के पास एफआईआर दर्ज कराई गई. इसी दौरान बीएसई और एनएसई को 14 फरवरी को सुबह करीब 9 बजे इसकी जानकारी दी गई.

PNB में हुआ 11360 करोड़ का घोटाला:

देश के दूसरे सबसे बड़े सरकारी बैंक पंजाब नेशनल बैंक की मुंबई स्थित एक शाखा में 11,360 करोड़ रुपये का फर्जी ट्रांजैक्शन किया गया है. पंजाब नेशनल बैंक ने 5 फरवरी को सीबीआई के सुपुर्द लगभग 280 करोड़ रुपये के फर्जी ट्रांजैक्शन का मामला सुपुर्द किया था.

इस मामले की जांच सीबीआई कर ही रही थी कि बैंक के मुंबई स्थिति महज एक ब्रांच से आई फर्जीवाड़े सूचना ने बैंक को 11,360 करोड़ रुपये के अतिरिक्त नुकसान में ला दिया.

इस मामले में लगातार जांच जारी है और इसमें जांच एजेंसियों ने कई गिरफ्तारियां भी कर ली हैं. धोखाधड़ी के इस मामले के केंद्र में हीरा कारोबारी नीरव मोदी और गीतांजलि ज्वैलर्स से जुड़े मेहुल चौकसी हैं.

You may also like

मारूति की कारों का जलवा बरकरार, ये लो बजट कार रही नंबर वन

भारतीय कार बाजार में मारुति सुजुकी इंडिया (एमएसआई)