शाहजहांपुर: PM मोदी रैली से अन्नदाता को साधेगी BJP

लखनऊ। किसानों की कर्जमाफी के वायदे के साथ उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में प्रचंड बहुमत हासिल करने वाली भारतीय जनता पार्टी आगामी लोकसभा चुनाव के लिए भी इस वर्ग पर अपनी निगाह जमाए है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आजमगढ़ और मीरजापुर की रैली से दलितों, पिछड़ों, किसानों और आधी मुस्लिम आबादी समेत हर वर्ग को प्रभावित किया है। इसके बाद अब 21 जुलाई को शाहजहांपुर में होने वाली रैली के जरिये अन्नदाता को साधने की तैयारी है।शाहजहांपुर: PM मोदी रैली से अन्नदाता को साधेगी BJP

प्रधानमंत्री मोदी की जुलाई की रैलियां मिशन 2019 के चुनावी अभियान की मजबूत बुनियाद बन रही हैं। पहले संतकबीरनगर और फिर नौ जुलाई को नोएडा से शुरुआत कर उन्होंने विकास का मंत्र दिया। हर इलाके में विकास का ही पहिया घूम रहा है लेकिन, इस बहाने वह सामाजिक समीकरण भी मजबूत करने पर जोर दे रहे हैं। इन रैलियों के जरिये मोदी नए सिरे से भावनाओं की भी लहर चला रहे हैं। शनिवार और रविवार को पूर्वी उत्तर प्रदेश के सभी कार्यक्रमों में भोजपुरी में बोलकर उन्होंने वहां के लोगों के दिल में जगह बनाई। अब शाहजहांपुर में 21 जुलाई को किसान महाकुंभ में वह प्रदेश भर के किसानों को उन्नति का मंत्र देंगे।

चुनाव से पहले ही विपक्ष का प्रभाव कम करने की योजना

भाजपा दलितों, पिछड़ों और किसानों को साध कर सपा-बसपा गठबंधन से आगे निकलने का ताना-बाना तैयार कर रही है। शाहजहांपुर में 2014 के मोदी लहर में भाजपा ने भले अपना परचम फहरा दिया लेकिन, यहां भाजपा हमेशा कमजोर रही है। 2014 में कृष्णाराज शाहजहांपुर से चुनाव जीतीं और मोदी ने उन्हें अपने मंत्रिमंडल में जगह देकर दलित नेतृत्व उभार दिया। इसके पहले 1998 में भी एक बार भाजपा यहां से जीती थी। वैसे आजादी के बाद वहां कांग्रेस और समाजवादियों का ही परचम फहराता रहा। विशेष रूप से यह कांग्रेस के कुंवर जितेंद्र प्रसाद और फिर उनके पुत्र कुंवर जितिन प्रसाद का गढ़ रहा लेकिन, सीट आरक्षित होने के बाद समीकरण बदल गए।

भाजपा ने 125 किलोमीटर की परिधि में लगाई ताकत

शाहजहांपुर और आसपास के जिलों में भाजपा ने मोदी की रैली के लिए अपनी ताकत लगाई है। रैली की तैयारी में जुटे भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष जेपीएस राठौर कहते हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रति आम जनता और बच्चा-बच्चा आकर्षित है। इस रैली में पहुंचने के लिए खीरी, सीतापुर, हरदोई, बरेली, बदायूं, फर्रुखाबाद आदि जिलों में अभी से लोग उत्साहित हैं। शाहजहांपुर से 125 किलोमीटर की परिधि में आने वाले क्षेत्रों से लोग उमड़ेंगे। इसका संदेश पूरे प्रदेश में जाएगा।

किसानों के लिए मॉडल है शाहजहांपुर

कृषि के क्षेत्र में शाहजहांपुर की अलग पहचान है। यहां का पुवायां इलाका गेहूं उत्पादन में उत्तर प्रदेश में नंबर एक माना जाता है जबकि शाहजहांपुर, पीलीभीत और बरेली तक धान की भी अच्छी फसल होती है। सुगंधित बासमती की खूब पैदावार है। शाहजहांपुर गन्ना की खेती के लिए भी मशहूर है और इस जिले में सात चीनी मिलें और गन्ना शोध संस्थान है। दलहन, तिलहन और आलू उत्पादन में भी यह पीछे नहीं है। ऐसे इलाके में किसानों को कोई बड़ी सौगात देकर मोदी प्रदेश भर के किसानों को प्रेरित करेंगे।

आजादी के शहीदों को भी मोदी करेंगे नमन

आजादी की लड़ाई में प्राणों की आहुति देने वाले पंडित राम प्रसाद बिस्मिल, अशफाक उल्ला खान और ठाकुर रोशन सिंह शाहजहांपुर के ही थे। मोदी इन शहीदों को को भी नमन कर भावनाओं की डोर मजबूत करेंगे। भाजपा सरकार इन शहीदों के स्मरण में भी बड़ी योजना लाने की तैयारी कर रही है। इन तीनों शहीदों का गृह क्षेत्र शाहजहांपुर होने के बावजूद उनकी स्मृतियों को सहेजने के लिए कोई खास कोशिश नहीं हुई है। पर्यटन विकास में जुटी सरकार इस दिशा में भी कार्य करेगी।

मोदी की रैलियों में दिख रहा सरकार और संगठन का समन्वय

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली को लेकर सरकार और संगठन के बीच जबर्दस्त तालमेल दिख रहा है। आजमगढ़ और मीरजापुर की रैलियों के बाद अब शाहजहांपुर में भी भाजपा रिकार्ड बनाने की तैयारी कर रही है। 21 जुलाई को शाहजहांपुर की रैली के लिए सरकार और संगठन ने तैयारी तेज कर दी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय का मंगलवार को शाहजहांपुर में रैली की तैयारियों की समीक्षा का कार्यक्रम प्रस्तावित है।

आजमगढ़ में मोदी की रैली में उमड़ी भीड़ ने भाजपा को उत्साहित किया है। मीरजापुर में भी मोदी सुनने वालों की लंबी कतार थी। आजमगढ़ सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव का संसदीय क्षेत्र है लेकिन, जिस तरह आसपास और आजमगढ़ से निकलकर शहर से 12 किलोमीटर दूर लोग मोदी को सुनने निकले उससे विपक्षी खेमों में खलबली मच गई है।

इस रैली के लिए सरकार और संगठन ने खूब मेहनत की। संगठन की ओर से भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय, संगठन महामंत्री सुनील बंसल और क्षेत्रीय इकाई ने खूब सक्रियता दिखाई तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, वन मंत्री दारा सिंह चौहान और राज्यमंत्री उपेंद्र तिवारी भी पूरी ताकत से जुटे। योगी, महेंद्र नाथ पांडेय और सुनील बंसल ने रैली से पहले आजमगढ़, बनारस और मीरजापुर का भी दौरा कर तैयारियों की बारीकी से समीक्षा की थी। 

Loading...

Check Also

डॉक्टर की खराब हैंड राइटिंग पर कोर्ट ने ठोका पांच हजार का जुर्माना

डॉक्टर की खराब हैंड राइटिंग पर कोर्ट ने ठोका पांच हजार का जुर्माना

डॉक्टरों की खराब लिखावट से परेशान इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने बहराइच के एक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com