कुट्टू का आटा खाने से बेहोश होने लगे लोग, 800 से ज्यादा लोग हुए अस्पताल में भर्ती

देश की राजधानी दिल्ली से हैरान करने वाली खबर सामने आई है। मंगलवार की देर रात कुट्टू के आटे की रोटी खाने के बाद करीब 800 से एक हजार लोगों की तबीयत बिगड़ गई, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उनका इलाज चल रहा है। 

जानकारी के अनुसार, दिल्ली के लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल में मंगलवार देर रात पेट दर्द, उल्टी चक्कर और कपकपी से परेशान लोग पहुंचे। सबसे ज्यादा मरीज पूर्वी दिल्ली के कल्याणपुरी, खिचड़ीपुर ओर त्रिलोकपुरी इलाके के हैं। इलाके में हड़कप मचा हुआ हुआ है। 

बता दें कि लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल में कुट्टू के आटे से बनी रोटी खाने के बाद करीब 800 से एक हजार मरीज पहुंचे हैं। हालांकि मेडिकल सुपरिटेंडेंट का कहना है कि 400 से 500 लोग आए हैं। किसी की हालत गंभीर नहीं है।

दरअसल रात तकरीबन 11:00 बजे के आसपास दिल्ली के कल्याणपुरी और त्रिलोकपुरी में रहने वाले लोगों की अचानक से तबीयत बिगड़ने लगी. लोगों को घबराहट होने लगी और उल्टी आने लगी और वो बेहोश होने लगे. आनन-फानन में परिवार और आसपास के लोग इन लोगों को लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल लेकर गए. जहां पर इनका इलाज किया गया. जब डॉक्टर ने इन लोगों से पूछा कि खाने में क्या खाया था तो पता चला कि कुट्टू का आटा खाया था. जिसके बाद से ही उनकी तबीयत अचानक से बिगड़ने लगी घबराहट होने लगी. डॉक्‍टरों ने इसे फूड प्‍वाइजनिंग का केस बताया. 

डॉक्टरों की मानें मिलावटी आटा खाने के बाद ज्‍यादातर लोगों को उल्‍टी, दस्‍त शुरू हो गए और पेट में भयंकर दर्द उठा. जिसके बाद सभी को अस्‍पताल ले जाया गया. बीमार हुए लोगों में से किसी की भी हालत ज्यादा गंभीर नहीं है.  

हालांकि इस मामले में दिल्ली पुलिस को अभी तक कोई शिकायत नहीं मिली है,  पुलिस का कहना है कि मामला सामने आने के बाद यह जांच की जाएगी. आखिरकार इन लोगों ने कूटू का आटा किस मिल से लिया है और उसका मालिक कौन है. फिलहाल सभी मरीज खतरे से बाहर बताए जा रहे हैं. 

बता दें,  कि ऐसा पहली बार नहीं है कि कुट्टू का आटा खाने से लोगों की तबीयत खराब हो गई है. इससे पहले  साल 2011 में दिल्ली में कुट्टू का आटा खाने से तकरीबन 200 लोग बीमार हो गए थे.  

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button