पाक ने की नापाक हरकत, अनुमति के बावजूद भारतीय उच्चायुक्त को गुरुद्वारे जाने से रोका

पाकिस्तान में भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया और महावाणिज्य दूतावास के अधिकारियों को गुरुद्वारा पंजा साहिब में जाने से रोकने के मामले पर भारत ने कड़ा विरोध जताया है। भारतीय उच्चायुक्त के साथ दो महीने में दूसरी बार इस तरह की बदसलूकी की गई है। विदेश मंत्रालय ने बताया कि पाकिस्तान के उप-उच्चायुक्त सैयद हैदर शाह को तलब कर सख्त एतराज जता दिया गया है।पाक ने की नापाक हरकत, अनुमति के बावजूद भारतीय उच्चायुक्त को गुरुद्वारे जाने से रोका

इस्लामाबाद में भी भारतीय उच्चायोग ने बिसारिया के पास पंजा साहिब जाने के लिए पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय की अनुमति होने के बाद भी ऐसे व्यवहार पर सख्त एतराज जताया है। विदेश मंत्रालय के मुताबिक, पाकिस्तान को बता दिया गया है कि भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों को रोकना और अपनी जिम्मेदारियों से भागना राजनयिक संबंधों को लेकर 1961 में हुए विएना समझौते का उल्लंघन है। साथ ही यह धार्मिक स्थलों के दौरे को लेकर 1974 में हुए द्विपक्षीय प्रोटोकॉल की अनदेखी भी है।

शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति (एसजीपीसी) ने बिसारिया को पंजा साहिब जाने से रोकने की निंदा की है। एसजीपीसी ने पाकिस्तान में अपनी समकक्ष समिति से भारतीय उच्चायुक्त और उच्चायोग अधिकारियों से बैठक की व्यवस्था कराने को कहा है।  भारत ने इसपर कड़ा विरोध जताते हुए पाकिस्तान के उप उच्चायुक्त को यहां समन किया है।

पाक में बार-बार हो रहा भारतीय राजनयिकों से दुर्व्यवहार

पाक में भारतीय राजनयिकों के साथ दुर्व्यवहार की घटनाएं बार-बार सामने आ रही हैं। मार्च में एक भारतीय राजनयिक का पीछा किया गया और गाड़ी रोक कर बदसलूकी की गई थी। भारतीय राजनयिकों के परिवारों को भी परेशान किया गया।

मामले के तूल पकड़ने पर पाक ने कहा था कि राजनयिक विवादों को 1992 कोड ऑफ कंडक्ट के तहत सुलझाया जाएगा। बावजूद इसके 10 जून को भारत के एयर एडवाइजर को इस्लामाबाद एयरपोर्ट पर ही रोका गया। भारत ने पाक से कहा है कि वहां भारतीय अधिकारियों से ऐसा व्यवहार नहीं होना चाहिए।

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Copy is not permitted !!

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com