पाकिस्तान की करेंसी में आई भारी गिरावट, तुर्की भी हुआ ‘तबाह’

इस साल अमरीकी मुद्रा डॉलर की तुलना में लिरा में 20 फ़ीसदी की गिरावट आई है. बुधवार को एक डॉलर की तुलना में लीरा की क़ीमत 4.93 पर चली गई थी. इससे पहले शनिवार को तुर्की के केंद्रीय बैंक ने लीरा की लुढ़कती क़ीमत को थामने के लिए ब्याज़ दरों में तीन फ़ीसदी की बढ़ोतरी कर दी थी.पाकिस्तान की करेंसी में आई भारी गिरावट, तुर्की भी हुआ 'तबाह'

तुर्की के केंद्रीय बैंक के इस क़दम को आपातकालीन बढ़ोतरी कहा गया है. पूर्वी शहर एर्ज़ुरम में अपने समर्थकों से अर्दोवान ने कहा, “मेरे जिन भाइयों के पास डॉलर या यूरो हैं वो उन्हें अपनी मुद्रा लीरा में बदलें. हम साथ मिलकर इस इस संकट को हरा देंगे.”

तुर्की का कहना है कि लीरा को साज़िश के तहत कमज़ोर किया जा रहा है. तुर्की का तर्क है कि ऐसा अज्ञात विदेशी ताक़तें तुर्की को कमज़ोर करने के लिए कर रही हैं.

ट्रंप-किम मुलाकात की संभावना

व्हाइट हाउस ने कहा है कि अगले महीने उत्तर कोरिया से संभावित शिखर सम्मेलन की तैयारी को लेकर वो सिंगापुर एक टीम भेज रहा है.

इससे पहले राष्ट्रपति ट्रंप ने उत्तर कोरिया से इस प्रस्तावित बातचीत को रद्द करने की घोषणा कर दी थी. शनिवार को अचानक उत्तर और दक्षिण कोरियाई नेताओं की मुलाक़ात के बाद किम जोंग-उन और राष्ट्रपति ट्रंप की मुलाक़ात की संभावना फिर से बढ़ गई है.

पाकिस्तानी रुपये की गिरती क़ीमत

अमरीकी मुद्रा डॉलर की तुलना में पाकिस्तानी मुद्रा रुपया की क़ीमत में गिरावट थम नहीं रही है. शुक्रवार को एक डॉलर की तुलना में पाकिस्तानी रुपये की क़ीमत 119.05 तक पहुंच गई. पाकिस्तान रुपये में जारी गिरावट को रोकने के लिए कई क़दम उठा रहा है.

अख़बार से एक्सचेंज कंपनीज असोसिएशन ऑफ पाकिस्तान के महासचिव ज़फ़र पराचा ने कहा कि डॉलर की आपूर्ति में कमी के कारण रुपये की क़ीमत में गिरावट दर्ज की जा रही है.

उन्होंने कहा कि मार्केट में डॉलर की आपूर्ति आधी हो गई है. उन्होंने कहा कि सरकार को नियम बनाने की ज़रूरत है कि अगर कोई भी व्यक्ति 500 डॉलर से ज़्यादा विदेशी मुद्रा ख़रीदे या बेचे तो अपना पहचान पत्र दिखाए.

काज़ी नज़रुल इस्लाम की राह पर चलेगा बांग्लादेश

भारत के दौरे पर आईं बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने कहा है कि वो बांग्लादेश को कवि काज़ी नज़रुल इस्लाम की धर्मनिरपेक्षता की विचारधारा की तर्ज़ पर आगे बढ़ाएंगी.

आसनसोल में काज़ी नज़रुल इस्लाम यूनिवर्सिटी में डॉक्टर ऑफ लिटरेचर की डिग्री लेते वक़्त शेख हसीना ने यह बात कही है. शेख हसीना ने कहा कि नज़रुल के स्वभाव में धर्मनिरपेक्षता थी और बांग्लादेश का निर्माण भी उसी तर्ज पर होगा.

अमरीका को ईरान की चेतावनी

ईरान के रक्षा मंत्री आमीर हातमी ने कहा है कि ईरान की आज की तारीख़ में जो सैन्य क्षमता है वो 1988 में होती तो अमरीकी युद्धपोत यूएसएस वनसेन को फ़ारस की खाड़ी में नष्ट कर देता.

हातमी ने कहा, “उस वक़्त हमारी सैन्य क्षमता आज की तरह होती तो अमरीका ईरानी पैसेंजर जहाज पर हमला नहीं कर पाता. हम अपने युद्धपोत को भेज अमरीका को रोक देते.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

पाक ने की वर्ल्ड बैंक से शिकायत, कहा सिंधु जल संधि का उल्लंघन कर रहा भारत

पाकिस्तान के संयुक्त राष्ट्र मिशन के एक बयान