Home > राजनीति > मनोहर ने कहा- पीएम मोदी के डर से अस्तित्व बचाने को गठबंधन कर रहे विपक्षी दल

मनोहर ने कहा- पीएम मोदी के डर से अस्तित्व बचाने को गठबंधन कर रहे विपक्षी दल

चंडीगढ़। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने इनेलो-बसपा गठबंधन पर सवाल उठाते हुए कांग्रेस व आम आदमी पार्टी के संभावित गठजोड़ पर भी खुला हमला बोला। मुख्यमंत्री ने कहा कि गठबंधन हमने भी किए हैैं, मगर हमने आगे बढऩे को गठबंधन किए, मगर विपक्षी दल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डर से अपना अस्तित्व बचाने को गठबंधन कर रहे हैैं।मनोहर ने कहा- पीएम मोदी के डर से अस्तित्व बचाने को गठबंधन कर रहे विपक्षी दल

 हरियाणा में गठबंधन की राजनीति पर लाल हुए मनोहर

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने प्रदेश के राजनीतिक मुद्दों पर जागरण के साथ खुलकर बातचीत की।  उन्होंने कहा कि विपक्षी दलों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हौव्वा है। गठबंधन के बावजूद यह दल चुनावी समर में पूरी तरह से बिखर जाएंगे। जो राजनीतिक दल कभी सत्ता में नहीं रहे, उनके द्वारा गठबंधन किए जाने की बात तो समझ में आती है, लेकिन जो बरसों तक सत्ता चलाते रहे, अब वही दल अगर गठबंधन करने लगें तो समझ लीजिए कि उनका क्या हश्र होने वाला है।

सीएम बोले, गठबंधन हमने भी किए मगर हमारा उद्देश्य आगे बढऩा रहा

मुख्यमंत्री के अनुसार बाढ़ आने पर जिस तरह से जीव-जंतु अपने अस्तित्व के लिए इकट्ठा हो जाते हैैं, उसी तरह की इन सियासी दलों की स्थिति है। उन्होंने देश और प्रदेश में भाजपा के प्रति माहौल होने का दावा करते हुए कहा कि लोग अब चिकनी-चुपड़ी बातों को नहीं बल्कि काम को महत्व देने लगे हैं।

विधानसभा चुनाव में भाजपा ने 65 से 70 सीटें जीतने का लक्ष्य तय किया, इन सीटों पर हम मजबूत

मनोहरलाल ने बेबाकी के साथ स्वीकार किया कि भाजपा 65 से 70 सीटें जीतने का लक्ष्य हासिल कर आगे बढ़ रही है। उन्होंने दलील दी कि ऐसा नहीं है कि कुछ सीटों पर विपक्ष की जीत नहीं हो सकती, लेकिन हवाई दावों की बजाय यथार्थ में बात करनी चाहिए। उन्होंने दावा किया कि राज्य की सभी 10 लोकसभा सीटों पर भाजपा की जीत होगी।

सीएम ने समझाया एसवाईएल आंदोलन का मतलब

मुख्यमंत्री ने एसïवाईएल पर इनेलो-बसपा गठबंधन द्वारा किए जा रहे जेल भरो आंदोलन पर भी सवाल उठाए हैैं। उन्होंने कहा कि एसवाईएल का मतलब ‘सत्ता यूं लूंगा’ है। विपक्ष के साथी इसी प्रयास में लगे हैैं। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद एसवाईएल के पानी पर हरियाणा का अधिकार स्थापित हो गया है। इस पूरे प्रकरण में केंद्र, पंजाब और हरियाणा सरकारें तीन पक्ष हैैं। नहर निर्माण पर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का इंतजार है।

हरियाणा में बिजली के रेट कम करेगी सरकार

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने राज्य में बिजली के दाम घटाने के संकेत देते हुए कहा कि राज्य के दोनों बिजली निगम अब 20 फीसद लाभ में हैं। इसलिए बिजली के रेट कम किए जा सकते हैं, लेकिन मुख्य अड़चन बिजली उत्पादन में कोयले की कमी से आ रही है। जल्द ही इस समस्या का समाधान कर बिजली के रेट घटाने की दिशा में काम होगा। सरकार नहीं चाहती कि बिजली के रेट घटाने के बाद सप्लाई में किसी तरह का व्यवधान हो। इसलिए पहले अड़चन दूर होगी, फिर रेट कम किए जाएंगे।

Loading...

Check Also

MP: शहडोल में बोले पीएम मोदी, 'कांग्रेस का हाल है मुंह में राम बगल में छुरी'

MP: शहडोल में बोले पीएम मोदी, ‘कांग्रेस का हाल है मुंह में राम बगल में छुरी’

मध्‍य प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनावों में बीजेपी की जीत सुनिश्चित करने और प्रचार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com