बोर्ड एग्जाम में सिर्फ एक नंबर पाने के लिए इस लड़की ने हिला दी सरकार की नींव, जाने आखिर ऐसा क्या किया

- in ज़रा-हटके

एक स्टूडेंट जब अपनी पूरी मेहनत और लगन से पढ़ायी करता है तो उसे इस बात की भी उम्मीद होती है की उसने जिस चीज के लिए इतनी मेहनत की है उसका उसे फल भी मिलेगा. निराशा तब हाथ लगती है जब पुरजोर पहनत करने के बाद भी बहुत से लोग इस अपनी मेहनत का फल मिलने से वंचित रह जाते हैं. आज हम आपको 12 वीं की परीक्षा में पास करने वाली एक ऐसी स्टूडेंट की कहानी बताने जा रहे हैं जिसने महज एक नंबर के लिए पूरी सरकार को हिला कर रख दिया. वैसे आम तौर पर देखा जाये तो ज्यादातर लोग एक नंबर कम आने या फिर ज्यादा आने को इतना महत्व नहीं देते हैं लेकिन बात अगर हमारे देश की शिक्षा व्यवस्था की करें तो यहाँ एक एक नंबर का ख़ासा महत्व है इसी वजह से इस लड़की ने सबको हिला कर रख दिया. आईये जानते हैं की आखिर क्या है ये पूरा मामला!

आपको बता दें की ये मामला असल में मध्य प्रदेश के उज्जैन जिले का है, यहाँ की रहने वाली एक 12 वीं की स्टूडेंट ने पूरे जिले सहित राज्य की कानून व्यवस्था की नींद उस वक़्त उड़ा दी जब उसे बोर्ड एग्जाम में सिर्फ एक नंबर कम मिले. बता दें की जब पूरे मामले की जांच की गयी तो पाया गया की असल में 12 वीं की इस स्टूडेंट को बोर्ड एग्जाम में 500 में से केवल 424 अंक मिले हैं. जिले के प्रियदर्शिनी इंदिरा गाँधी हायर सेकेंडरी स्कूल की इस स्टूडेंट ने असल में एग्जाम के बाद मिलने वाले लैपटॉप के लिए भी काफी मेहनत की थी लेकिन सिर्फ एक नंबर से वो पीछे रह गयी. आपको बता दें की असल में मध्य प्रदेश सरकार ने ये स्कीम निकाली थी की बारहवीं की परीक्षा पास करने वाले उन सभी स्टूडेंट्स को इनाम के रूप में एक लैपटॉप दिया जाएगा जिन्हें कम से कम 85 प्रतिशत मार्क्स आयेंगे.

सच में इस शख्स के पास रात को नागिन बनकर ये काम करती है पूर्वजन्म की पत्नी, हैरान कर देगी सच्चाई

 

बता दें की इस सोफिया गौरी खान नाम की इस लड़की को एग्जाम में मार्क्स तो अच्छे आये हैं लेकिन वो सिर्फ एक अंक से लैपटॉप लेने वालों स्टूडेंट्स की लिस्ट से हट गयी. इसके बाद सोफिया ने तय किया की वो अपने कॉपी की पुनः जांच के लिए अप्लाई करेगी लेकिन जब जिला स्तर पर उसने अपन कॉलेज के शिक्षकों और अधिकारीयों को इस बारे बताया तो उन्होनें कॉपी की दोबारा जांच से इनकार कर दिया. बता दें की इसके बाद सोफिया ने अपना हक़ पाने के लिए हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया और कोर्ट ने फैला सोफिया के पक्ष में सुनाते हुए ये आदेश दिया की उसकी कॉपी की फिर से जांच की जाए. बता दें की सोफिया को इस बात की पूरी उम्मीद थी की कॉपी दोबारा जांच होने पर वो कम से कम पांच नंबर ज्यादा तो जरूर प्राप्त कर पाएगी. आपको बता दें की जब कोर्ट के आदेश पर सोफिया की कॉपी फिर से जांच की गयी तो उसे इकोनॉमिक्स में एक नंबर ज्यादा मिला और इसके साथ ही वो पूरे 425 अंक पाने के बाद लैपटॉप पाने की भी हकदार बन गयी. बता दें की कोर्ट ने सोफिया को 25 हजार की रकम लैपटॉप के लिए दिए जाने का आदेश दिया लकिन सोफिया और उसके परिवार वालों का कहना है की लैपटॉप खरीदने के लिए जितनी राशि मिली है उसका आधा तो उन्हें कोर्ट केस लड़ने में ही चुकाना पड़ा लेकिन संतोष इस बात का है की उनकी जीत हुई और सोफिया का नाम एक अच्छे स्टूडेंट के रूप में लिया जाएगा.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बच्चे को खाने में दिया सलाद तो बुला ली पुलिस, उसके बाद…

अक्सर ऐसा होता है कि बच्चों को खाने