जिंदगी में मुश्किल दौर से गुजरने के बाद ही शनिदेव देते हैं ये फल

- in धर्म

टैरो के हिसाब से सैटर्न शानि एक फोर्स है जिसे हम ग्रह से जोड़ते हैं। यह बिल्कुल उसी तरह है जैसे किसी व्यक्ति के जीवन में बुढ़ापा जवानी आती है उसी तरह यह एक आम एक आदमी के जीवन में आती है। इसी को ज्योतिष की भाषा में शनि नाम दिया गया है।जिंदगी में मुश्किल दौर से गुजरने के बाद ही शनिदेव देते हैं ये फल

न्याय के देवता शनि से डरने की नहीं बल्कि समझने की जरूरत है। शनि का कार्य हमारे कर्मों का बोध कराना है। यह मनुष्य के द्वारा किए गये कार्यों का निर्णय पूरी ईमानदारी से करता हुआ उसका परिणाम देता है। फिर चाहे वह अच्छे कर्म हों या फिर बुरे, उसका परिणाम आपको निश्चित ही भोगना होता है। शनि की कोर्ट में दया का स्थान नहीं है लेकिन न्याय निश्चित है।

टैरो विधा में शनि से संबंधित तीन कार्ड हैं – पावर, द स्टार और द वर्ड। ये तीनों कार्ड शनि के तीन पावर फोर्स की तरफ इशारा करते हैं।

शनि की पहली फोर्स पावर हमारी उन इच्छाओं को प्रकट करता है, जो हमें प्रलोभन देने का कार्य करती है। यह कार्ड आपका इम्तिहान लेता है कि आप कठिनाई भरे मार्ग पर चलते हुए सही रास्ता चुनते हैं या फिर उससे बचकर आसान डगर पर निकल जाते हैं। यदि आप आसान रास्ता चुनते हैं तो फिर परिणाम तो भुगतने ही होंगे।

टैरो में शनि के लिए दूसरा कार्ड है स्टार, जो कि हमारे जीवन में ईश्वर या फिर कहें ईश्वरीय ताकत को रिप्रेजेंट करता है। जब हम आसान मार्ग चलने के प्रलोभन से बच जाते हैं तो कठिन परिस्थितियों पर चलते हुए हमें स्टार की पावर मिलती है, जो कि शनि की ही देन है। यह आपके भीतर संतुलन की चेतना को जागृत करता है।

द वर्ड शनि का फल देने वाला तीसरा कार्ड है। जब आप दोनों इम्तिहान में पास हो जाते हैं तो सुख की प्राप्ति होती है। द वर्ड पूर्णता को प्रकट करता है। अर्थात् आपके भीतर जो कुछ भी संतुलन होना चाहिए, वो आपको इसके माध्यम से मिलता है।

Patanjali Advertisement Campaign

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

आज का राशिफल और पंचांग: 19 अगस्त दिन रविवार, इन राशि वालों के साथ होने सकता है ऐसा

।।आज का पञ्चाङ्ग।। आप सभी का मंगल हो