दो दिवसीय कर्नाटक दौरे पर निकले राहुल, कई सार्वजनिक सभाओं को करेंगे संबोधित

- in Mainslide, राष्ट्रीय

 इस साल होने वाले कर्नाटक विधानसभा चुनाव को जीतने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जी तोड़ मेहनत करते दिख रहे हैं। मंगलवार से राहुल गांधी का दो दिवसीय कर्नाटक दौरा शुरू हो रहा है। कांग्रेस नेता एम. रामचंद्रप्पा ने बताया कि पार्टी अध्यक्ष बनने के बाद कर्नाटक के अपने तीसरे दौरे के दौरान राहुल गांधी उडिपी, दक्षिण कन्नड़, चिकमंगलूर और हासन जिलों का दौरा करेंगे और कई सार्वजनिक सभाओं को संबोधित करेंगे।

उन्होंने कहा कि राहुल इस दौरे के दौरान पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं से मुलाकात करेंगे। वह उडिपी में राजीव गांधी राजनीतिक संस्थान का उद्घाटन भी करेंगे, जिसकी स्थापना उनके पिता और पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के नाम पर की गई है।

राहुल इन चार जिलों में मंदिरों, दरगाहों और चर्चो में भी जाएंगे। राहुल गांधी भूतपूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा का घर माने जाने वाले हासन में भी एक जनसभा को संबोधित करेंगे। इस दौरान वे आज मंगलौर में एक जनसभा को संबोधित करेंगे। इसके बाद वह आज कर्नाटक के तटीय इलाकों व ‘कॉफी का कटोरा’ कहे जाने वाले जिलों चिकमंगलूर व हासन का भी दौरा करेंगे।

आज पेश हो सकता है मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव

इस क्षेत्र को भाजपा का मजबूत गढ़ माना जाता है। सांप्रदायिक तौर पर भी यह क्षेत्र काफी संवेदनशील समझा जाता है। इससे पहले आंध्र प्रदेश से सटे कर्नाटक और महाराष्ट्र-कर्नाटक के सीमावर्ती इलाकों में राहुल का दौरा काफी प्रभावी रहा है। इसलिए इस दौरे से भी पार्टी में एक नई आस जगी है।

अपने यात्रा के दौरान राहुल गांधी चिकमंगलूर स्थित श्रृंगेरी मठ जाएंगे और शृंगेरी पीठ के प्रमुख से भी मुलाकात करेंगे। बता दें कि इंदिरा गांधी 1977 में इमरजेंसी के बाद 1978 के लोकसभा चुनाव में चिकमंगलूर से ही चुनकर लोकसभा पहुंची थीं।

गौरतलब है कि इस साल होने वाले कर्नाटक विधानसभा चुनाव को लेकर भाजपा और कांग्रेस दोनों ने अभी से कमर कस ली है। कांग्रेस अपना रण बचाने की जद्दोजहद में लगी है, तो वहीं भाजपा एक और राज्य में कमल खिलाने की कोशिशों में जुटी है। बीते दिनों भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने भी कर्नाटक का दौरा किया और जमकर कांग्रेस व राहुल गांधी को निशाने पर लिया। वहीं राहुल ने भी कोई मौका नहीं छोड़ा।

You may also like

अपने जीन्स में मौजूद कैंसर के खतरे से अनजान हैं 80 फीसदी लोग

दुनिया भर में कैंसर के मामलों में तेजी