कोई नहीं जनता होगा कॉन्डोम का 7000 साल पुराना इतिहास

कॉन्डोम को  सुरक्षित सेक्स के लिए जरूरी माना जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि आज से करीब 7000 साल पहले भी लोग कॉन्डोम का इस्तेमाल करते थे, हालांकि इनको बनाने का तरीका आज से काफी जुदा था। हाल ही में हुई एक रिसर्च से पता चला है कि प्राचीन समय में भी लोग कॉन्डोम का इस्तेमाल करते थे। इस रिसर्च के दौरान शोधकर्ताओं ने कई गुफाओं में बनी पेंटिंग्स का अध्ययन किया।कोई नहीं जनता होगा कॉन्डोम का 7000 साल पुराना इतिहास

इन गुफाओं में बनी सेक्स पेंटिंग्स में सेक्स  के दौरान लिंग को कवर करने के प्रमाण मिले हैं। रिसर्च के अनुसार, पहले लिनिन के टुकड़ों को जोड़कर कॉन्डोम बनाए जाते थे। रिसर्च के अनुसार 1400 ईस्वी से पहले ग्लैंस कॉन्डोम्स इस्तेमाल किए जाते थें। इन्हें जानवरों के सींग या कछुए की खाल से बनाया जाता था, जिनसे लिंग का केवल ऊपरी हिस्सा की कवर हो पाता था।

शोधकर्ताओं का कहना है कि 1700 ईस्वी तक इसी तरह के कॉन्डोम्स का इस्तेमाल किया जाता था। इसके बाद लिनिन या बकरी की आंत से कॉन्डोम बनाए जाने लगे। खबरों के अनुसार कॉन्डोम्स में कई बदलाव हुए और रबड़ से बने पहले कॉन्डोम की मोटाई साइकिल के अंदरूनी ट्यूब जितनी थी। कई बार कॉन्डोम्स की बनावट को लेकर विवाद भी हुए। 

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

जादू की झप्पी : जीवन में कर सकती है ये बड़े जादू

दुनियां में अगर सबसे अच्छा जादू है जादू