नीतीश ने तेजस्वी से कहा-सुनो बाबू, मेरा राजनीति में लंबा कैरियर है

भागलपुर हिंसा मामले के आरोपी केन्द्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे के बेटे अरिजीत शाश्वत की गिरफ्तारी को लेकर पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव लगातार नीतीश सरकार पर दबाव बना रहे हैं। शाश्वत के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी हुआ है लेकिन अभी तक गिफ्तारी नहीं हुई है।

नीतीश ने तेजस्वी से कहा-सुनो बाबू, मेरा राजनीति में लंबा कैरियर हैतेजस्वी ने ट्वीट कर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से अनुमति मांगी है। उन्होंने कहा है कि वह चार सिपाहियों के साथ केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के दंगा आरोपित फरार बेटे को पकड़ने के लिए प्रशासनिक अनुमति चाहते हैं। उन्होंने कहा कि यह उनका दावा है कि वह अरिजीत को एक घंटे में घसीटकर नीतीश कुमार के नकारा प्रशासन को सौंप देंगे। उन्होंने आगे कहा कि लटर-पटर से शासन नहीं चलता है और दंगा रोकने के लिए कलेजा होना चाहिए।  

वहीं एक दूसरे ट्वीट में तेजस्वी ने नीतीश कुमार के उस सवाल का जवाब दिया है जिसमें सीएम ने सोमवार को विधानसभा में तेजस्वी को नसीहत देते हुए कहा था कि बाबू, अभी आपका राजनीतिक करियर लंबा है। आप थोड़ा संभल कर बोलें। तेजस्वी ने कहा कि नीतीश कुमार जी मुझ से सलाह दे रहे हैं,  लेकिन मेरा जवाब ये है कि सुनो चाचा, अगर मुझे दंगा फैलाना होता तो मैं इन भाजपाई दंगाईयों के सहयोग से आज मुख्यमंत्री होता।इससे पहले केंद्रीय मंत्री अश्निवी चौबे ने कहा था कि जब मेरे बेटे ने कुछ गलत नहीं किया तो वह सरेंडर क्यों करे। मंत्री ने एफआईआर को कागज का टुकड़ा बताते हुए कहा कि यह कुछ भ्रष्ट अफसरों द्वारा दर्ज कराई गई है। भारत माता की जय कहना, वंदे मातरम कहना अगर देश के अंदर अपराध है तो हां वह अपराधी हो सकता है।

 

वहीं आरोपी अरिजीत का कहना है कि मैं न्यायालय की शरण में हूं। भागते वो हैं, खोजना उनको पड़ता है जो कहीं गायब हो गए हों, मैं समाज के बीच में हूं। साथ ही उन्होंने कहा कि मैं सरेंडर क्यों करूं? कोर्ट वारंट जारी करता है पर कोर्ट शरण भी देता है। अगर आप एक बार कोर्ट पहुंच जाएं तो आपको वही करना पड़ता है जो कोर्ट तय करता है। 

You may also like

मायाराज में हुए स्मारक घोटाले पर अखिलेश सरकार ने साधी चुप्पी

मायाराज में नोएडा व राजधानी लखनऊ में अंबेडकर