विधायक सिमरनजीत सिंह बोले, ‘मैं आपणा डोप टैस्ट करवा के सोशल मीडिया ते पाऊंगा’

- in पंजाब

लोक इंसाफ पार्टी प्रमुख तथा लुधियाना के विधायक सिमरनजीत सिंह बैंस वीरवार को मंडी गोबिंदगढ़ पहुंचे और सरकार व पुलिस के खिलाफ रोष रैली निकाली। इस दौरान सोशल मीडिया पर पुलिस के अलावा राजनीतिक लोगों का डोप टेस्ट करवाने के सवाल पर विधायक बैंस ने कहा कि मैं पूरा वेजीटेरियन हां, आपणा डोप टैस्ट करवाके सोशल मीडिया ते जरूर पाऊंगा.विधायक सिमरनजीत सिंह बोले, 'मैं आपणा डोप टैस्ट करवा के सोशल मीडिया ते पाऊंगा' 

अपनी मुहिम चिट्टे के खिलाफ काला हफ्ता के लिए पंजाब सरकार और पंजाब पुलिस को आड़े हाथों लेते हुए बैंस ने कहा कि पंजाब में किस तरह का नशा ज्यादा है, इस पर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह, सेहतमंत्री ब्रह्म मोहिंदरा और पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़ मीडिया में अलग-अलग बयान दे रहे हैं। कम से कम झूठ बोलने के लिए तीनों लोग राय तो एक कर लें।

पंजाब सरकार ने नशा तस्कर पर शिकंजा कसने के लिए मौत का प्रावधान रख साजिश रची है जो सरकार के हित में नहीं है। पंजाब की एसेंबली के पास ऐसा प्रस्ताव पास करने का कोई अधिकार ही नहीं है। ये अधिकार केवल केंद्र सरकार या लोकसभा के पास है। सरकार ने ये प्रस्ताव नशे के खिलाफ जागे पंजाबियों के दबाव के कारण पास किया है। 

बैंस ने लोगों से अपील की कि नशों से तड़पते नौजवानों की सही जांच के बाद ही उसका वीडियो सोशल मीडिया पर जागरूकता के लिए वायरल करें। अपनी गली में नशा बेचने वाले के खिलाफ उनके हेल्प लाइन नंबर 93735-93734 पर सूचना दें। वे मंगलवार को एसटीएफ मोहाली दफ्तर गए थे, जहां हेल्पलाइन नंबर पर बाईनेम आई 2000 से अधिक शिकायतें देकर आए हैं। इस बार 3000 शिकायतें और देकर आएंगे। पुरानी शिकायतों पर क्या कार्रवाई हुई उसकी रिपोर्ट जनहित की जाएगी। उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस नशा तस्करों से मिली हुई है। 

जहां कहीं नशा तस्कर पर कोई कार्रवाई होनी है तो पुलिस उसे पहले ही फोन कर देती है।  
बैंस ने कहा कि मैंने चार महीने पहले होम सेक्रेटरी को चिट्ठी लिखी थी कि पुलिस का डोप टेस्ट करवाओ, जो पाजीटिव आए उसे नौकरी से निलंबित कर दो। वहीं एक चिट्ठी इलेक्शन कमीशन को भी लिखी है कि किसी भी चुनाव में नामजदगी पत्र भरने वाले उम्मीदवार का डोप टेस्ट जरूरी कर कॉलम भरवाया जाए। 

सांसद डॉ. धर्मवीर गांधी द्वारा पंजाब में सिंथेटिक नशे से नौजवानों की हो रही मौतों और अफीम, भुक्की से शाही नशे के तौर पर पाबंदी हटाए जाने के सवाल पर बैंस ने कहा कि इस पर पंजाब के माहिरों की एक कमेटी बननी चाहिए। उस कमेटी में सभी की राय लेकर सभी नशों पर रिपोर्ट बने। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

मुख्यमंत्री पंचायती चुनावों के बाद होंगी बोर्डों व कार्पोरेशनों में नियुक्तियां

चंडीगढ़ : पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह द्वारा