BJP यात्राओं और जातीय सम्मेलनों से काबू में करेगी मिशन 2019

लखनऊ। लोकसभा चुनाव की तैयारी में जुटी भाजपा यात्रा और जातीय सम्मेलनों के जरिये उत्तर प्रदेश में 73 से अधिक सीटें जीतने की योजना तैयार कर रही है। इसकी रूपरेखा लगभग बन गई है लेकिन, 11 और 12 अगस्त को मेरठ में होने वाली प्रदेश कार्यसमिति में अंतिम रूप दिया जाएगा। भाजपा ने 2017 के चुनाव से पहले तबके प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य की अध्यक्षता में झांसी में कार्यसमिति की और परिवर्तन यात्रा निकालने का संकल्प लिया।BJP यात्राओं और जातीय सम्मेलनों से काबू में करेगी मिशन 2019

तब पूरे प्रदेश के चार क्षेत्रों से परिवर्तन यात्रा निकली और इस यात्रा ने सपा सरकार के खिलाफ माहौल बनाने में सबसे अहम भूमिका निभाई। अब भाजपा की प्रदेश और केंद्र दोनों जगह सरकार है। भाजपा इस बार परिवर्तन की जगह अपने विकास कार्यों को लेकर यात्रा निकालने की तैयारी कर रही है। इस बार भी चारों क्षेत्रों से यात्रा निकलनी है और उसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्रनाथ पांडेय हरी झंडी दिखाएंगे।

वैसे भी मोदी और शाह की उप्र में सक्रियता बढ़ गई है। बारिश की वजह से अगस्त में प्रधानमंत्री के कार्यक्रम नहीं होने हैं लेकिन, इसके बाद उप्र में कम से कम हर पखवारे उनकी एक सभा होनी है। अमित शाह को भी लगातार दौरे करने हैं। भाजपा के प्रदेश महामंत्री और पश्चिम के प्रभारी विजय बहादुर पाठक तथा क्षेत्रीय अध्यक्ष अश्विनी त्यागी ने मेरठ की बैठक के लिए युद्ध स्तर पर तैयारी शुरू कर दी है।

विपक्ष के महागठबंधन को देखते हुए भाजपा अपने चुनावी मुहिम में कोई कोताही नहीं करना चाहती है। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह काशी और ब्रज क्षेत्र में प्रदेश भर के रणनीतिकारों के साथ की गई बैठक में अपना एजेंडा स्पष्ट कर चुके हैं। हर बूथ पर 55 फीसद वोट के साथ ही 73 से अधिक लोकसभा सीटें जीतनी हैं। इसके लिए पार्टी को बूथ स्तर तक सक्रिय किया जा रहा है।

विपक्ष का चक्रव्यूह तोडऩे को मंत्र

विधानसभा चुनाव से पहले अमित शाह सभी छह क्षेत्रों में बूथ और जातीय सम्मेलनों में भाग लेकर कार्यकर्ताओं को विपक्ष का चक्रव्यूह तोडऩे का मंत्र दिए थे। इस बार कांग्रेस, सपा, बसपा और रालोद की साझेदारी ने भाजपा को चौकन्ना कर दिया है। अबकी बार बूथ स्तर पर विपक्ष के मजबूत कार्यकर्ता को भाजपा के पक्ष में करने के लिए भी अभियान चलेगा।

शाह खुद दलितों और पिछड़ों की सभी जातियों को साधेंगे। पिछड़ों में यादव, कुर्मी, निषाद, कश्यप, बिंद, मल्लाह, प्रजापति, चौहान, राजभर, नाई, मौर्य, शाक्य, कुशवाहा और सैनी आदि समूहों का अलग-अलग सम्मेलन होगा। इसके अलावा युवा मोर्चा, पिछड़ा मोर्चा, महिला मोर्चा, अल्पसंख्यक मोर्चा के भी प्रदेश और क्षेत्र स्तरीय कार्यक्रम होंगे। बूथ स्तर पर लाभार्थी संपर्क अभियान और संपर्क योजना भी संचालित होगी।

राजनाथ करेंगे उद्घाटन और अमित शाह समापन

भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की बैठक 11 अगस्त को मेरठ के सुभारती विश्वविद्यालय में होगी। दोपहर भोज के बाद गृह मंत्री राजनाथ सिंह उद्घाटन करेंगे जबकि 12 अगस्त को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह समापन करेंगे। समापन के बाद शाह प्रदेश के सभी भाजपा विधायकों और सांसदों के साथ बैठक करेंगे। इस बैठक को भी चुनावी लिहाज से अहम माना जा रहा है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

‘नमोस्तुते माँ गोमती’ के जयघोष से गूंजा मनकामेश्वर उपवन घाट

विश्वकल्याण कामना के साथ की गई आदि माँ