महबूबा बोलीं- कश्मीर में शांति के लिए पाकिस्तान से बात करें PM मोदी

पुंछ के बालाकोट में सीजफायर उल्लंघन में पांच लोगों की मौत पर जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने दुख जताते हुए कहा कि इस लड़ाई में राज्य के लोगों का ही नुकसान हो रहा है. महबूबा ने राज्य में शांति बहाली के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बड़े भाई की तरह पाकिस्तान से बात करने की अपील की.

जम्मू-कश्मीर के लोगों की दुर्दशा देखें

मेंढर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए महबूबा मुफ्ती ने कहा कि मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाकिस्तान की अथॉरिटी से कहना चाहूंगी कि वे जम्मू-कश्मीर के लोगों की दुर्दशा देखें. इस लड़ाई में हम लोग पिस रहे हैं. महबूबा मुफ्ती ने सवालिया लहजे में पूछा कि आखिर कब तक खून की होली चलती रहेगी?

दुश्मनी की कीमत राज्य के लोग चुका रहे

महबूबा मुफ्ती ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने कहा था कि हम अपना दोस्त तो बदल सकते हैं, लेकिन पड़ोसी नहीं. इसलिए दोनों मुल्कों के प्रधानमंत्रियों को मिल-बैठकर बातचीत करते हुए इस समस्या का हल निकालना चाहिए. महबूबा ने कहा कि विभाजन के बाद से भारत और पाकिस्तान की इस दुश्मनी की कीमत राज्य के लोग चुका रहे हैं. दोनों ओर हमारे लोग ही मारे जा रहे हैं.

अटल बिहारी वाजपेयी जैसा प्रयास करना होगा

महबूबा मुफ्ती ने 2003 में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के प्रयास का जिक्र करते हुए कहा कि दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों को उन्हीं की तरह प्रयास करने चाहिए, जिससे राज्य में शांति बहाली हो सके. हालांकि पीएम नरेंद्र मोदी इसी दिशा में बढ़ते हुए पाकिस्तान भी गए, लेकिन दुर्भाग्य से उसके बाद पठानकोट हमला हो गया.

सोमवार सुबह पाक ने किया था कायराना हमला

गौरतलब है कि सोमवार सुबह पुंछ स्थित बालाकोट के देवता गांव में मोहम्मद रमजान के घर पर पाकिस्तान से दागा गया एक गोला गिरा. इससे तीन बच्चों समेत घर के पांच लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि दो बेटियां गंभीर रूप से जख्मी हैं. सीजफायर उल्लंघन में मोहम्मद रमजान और मालका बी (38) के अलावा तीन बच्चे फैजान (13) , रिजवान (9) और मेहरीन की मौत हो गई है. जम्मू रेंज के आईजीपी एसडी सिंह जम्वाल ने कहा है कि पाकिस्तान की ओर से गोले दागे गए जो भारतीय क्षेत्र में गिरे. सीजफायर उल्लंघन में पांच लोगों की मौत हो गई है, जबकि दो लोग गंभीर रूप से घायल हैं. 

 

You may also like

पेट्रोलियम कंपनियों ने की 100 रुपये लीटर पेट्रोल बेचने की तैयारी, जाने ऐसा क्यों?

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में उछाल आने