22 मई 2018 दिन मंगलवार का राशिफल एवं पंचांग: जानिए आज किस पर कृपा होगी बजरंगबली की

।।आज का पञ्चाङ्ग।।

आप सभी का मंगल हो 22मई दिन मंगलवार

ऋतु-ग्रीष्म
माह-अधिकज्येष्ठ
सूर्य-उत्तरायण
सूर्योदय-05:19
सूर्यास्त-06:41
राहूकाल(अशुभ समय)दोपहर
03:30 से 04:30 बजे तक
तिथि-अष्टमी
पक्ष-शुक्ल
दिशाशूल-उत्तर
शुभदिशा-दक्षिण
अमृतमुहूर्त-दोपहर 12:18 से 02:00 तक

।।आज का राशिफल।।22 मई 2018 दिन मंगलवार का राशिफल एवं पंचांग: जानिए आज किसपर कृपा होगी बजरंगबली की

मेष :-आज आपका व्यापार सामान्य रहेगा। आय से अधिक खर्च को लेकर चिंतित हो सकते है। पुत्र पुत्रादि का लाभ मिलेगा।मांगलिक कार्यों में सहभागिता बढ़ेगी।मित्रों से मन मुटाव हो सकता है।
सुझाव:-आज आप सप्तधान्य का दान करें।
राशिरत्न:-मूँगा

वृषभ:-आज व्यवसाय लाभ से आपका मनोबल बढ़ेगा। व्यक्ति विशेष का सहयोग मिल सकता है । धार्मिक कार्यों में आज आप का मन लगेगा। शैक्षिक क्षेत्र उत्तम रहेगा।यात्रा मध्यम फल दाई रहेगी।
सुझाव:-आज आप हरी सब्जियों का दान किसी जरूरतमंद को करें।
राशिरत्न:-हीरा,ओपल

मिथुन:-आज आप को प्रियजनों से लाभ मिलेगा ।व्यापार भी उत्तम रहेगा , किन्तु विवाद से बचने का प्रयाश करें व केटु वचन के प्रयोग से बचें। पारिवारिक सहयोग मिलेगा यात्रा के सुखद योग बन सकते हैं।
सुझाव:-आज आप ग्रहण के उपरांत पीली हल्दी व गुड़ विप्र को दान दें।
राशिरत्न:-पन्ना

कर्क:-आज आप का व्यापार मन्द रह सकता है।विरोधियों से सवधसन रहें।पारिवारिक उलझने तनाव का कारण बन सकती है।
शैक्षिक कार्यों में अनुकूल सफलता की संभावना बन रहि है।संतान सुख की प्राप्ति संभव है। धैर्य रखें दिन बहुत मंगल आने वाला है।
सुझाव:-आज आप भगवान श्री गणेश जी को पंचामृत से अभिषेक करावें।
राशिरत्न:-मोती

सिंह:-आज आप के व्यापार में धीरे-धीरे प्रगति मिल सकेगी। शत्रुओं से सावधान रहें ,सन्तान पक्ष से शुभ समाचार मिलसकता है।
अतिथियों का आगमन होगा व मांगलिक कार्यों की सुरुवात होगी।
सुझाव:-आज आप केले का वृक्ष लगावें या पूजन करें।
राशिरत्न:-माणिक्य

कन्या:- आज आपका व्यवसाय सामान्य रहेगा। मित्रों के सहयोग से आर्थिक दशा सुधरेगी। पारिवारिक एकता बनी रहेगी। विरोधी परास्त होंगे। परोपकार से आत्मीय लाभ मिलेगा।
सुझाव:-आज आप श्री सूक्त का 11 पाठ करें।
राशिरत्न:-पन्ना

तुला:-आज आपका व्यापार मंदी से प्रभावित रह सकता है। विरोधी सक्रिय रह सकते है। पारिवारिक माहौल उत्तम रहेगा। अवनति की संभावना बन सकती है। यात्रा लाभ प्रद रहेगी। अतिथियों का आगमन होगा।
सुझाव:-आज आप बादाम व मिश्री का मा दुर्गा को भोग लगावें।
राशिरत्न:-हीरा, ओपल

वृश्चिक:-आज आपका व्यापार मध्यम गति से लाभ देगा। अधिक परिश्रम से सामान्य फल मिल सकता है। पारिवारिक सहयोग से रुके कार्यों में प्रगति की संभावना बन रही है। पडिसियों से प्रेम बनाये रखें।
सुझाव:-आज आप मीठा पान व मखाना भगवती पार्वती को अर्पित करें।
राशिरत्न:-मूँगा

धनु :- आज आपकी सकारात्मक सोच आपको मनचाहा फल देगी। आर्थिक लाभ मिलेगा व्यक्तिविशेष से सम्मान मिलेगा। गृहोपयोगी वस्तुओं की खरीदारी हो सकती है। नौकरी में राहत मिलेगी।कृषिकार्यों से आर्थिक लाभ भी मिलेगा।
सुझाव:- आज आप कच्चे नारियल का दान किसी देवी मंदिर में करें।
राशिरत्न:-पुखराज

मकर:-आज आप का मन स्थिर रहेगा ,जिससे व्यवसायिक सावधानियों के चलते आर्थिक लाभ मिलेगा।
पारिवारिक माहौल उत्तम रहेगा। सुदूर यात्रा के योग बन सकते है। यात्रा आर्थिक लाभ देगी। समय रहते ही सचेतता से अप्रिय घटना नही होगी।
सुझाव:-आज आप गेहूं व गुड़ का दान किसी जरूरत मन्द को करें।
राशिरत्न:-नीलम

कुंभ:-आज आपका व्यापर व नौकरी दोनों उत्तम आर्थिक लाभ प्रदान कर सकते हैं। पारिवारिक असहयोग के बावजूद भी आपकी प्रतिष्ठा बरकरार रहेगी। धार्मिक कार्यों अनुष्ठानों में मन निरत रह सकता है।यात्रा के सुखद योग बन रहें हैं।
सुझाव:-आज आप श्री सीताराम जी को पीली मिठाई का भोग लगावें।
राशिरत्न:-नीलम

मीन:-आज आपका दिन भाग दौड़ भरा रहेगा। परिश्रम के अनुकूल लाभ मिलेगा। बहस बाजी से दूर रहें । नौकरी में स्थानांतरण की संभावना बन रही है। कृषिकार्यों में लाभ मिलेगा।
परिवार में मांगलिक कार्यों की संभावना बन सकती है।
सुझाव:-आज आप पीला चावल व रुमाल का दान करें।
राशिरत्न:-पुखराज

।।आज के दिन का विशेष महत्व।।
1 आज ग्रीष्मऋतु अधिकज्येष्ठ माह शुकलपक्ष अष्टमीतिथि दिन मंगलवार है।
2 आज अधिक ज्येष्ठमाह का मंगल है। आज भौमजय सिद्द्योग है।

।।प्रेरणादाई चौपाई।।
जासु नाम सुमिरत एक बारा।
उतरहिं नर भवसिंधु अपारा।।

अर्थ:-गोस्वामी तुलसीदास जी केवट प्रसंग का वर्णन करते हुवे कहते हैं कि जिसके एक बार नाम का स्मरण करने मात्र से जीव इस अपार भव सागर से सहज ही पर हो जाता है , उन्ही अकारण करुणा कर प्रभू श्री सीताराम जी के युगल चरणकमलों को केवट आज अपने हाथों से धो रहा है । जिन प्रभू ने वामन रूप धारण कर मात्र दो पग में संपूर्ण त्रिलोकी को नाप लिया ,गंगा जी जिनके नखचंद्रिका
के अग्र भाग से निकली हों उन परात्पर प्रभू के चरणों को केवट सहज प्रेम से प्रच्छालित कर रहा है।
‘अस्तु परमात्मा को भेदबुद्धि से नहीं अपितु सहजप्रेम से पाया जा सकता है।”

।।वास्तु टिप विशेष।।
घर के बड़े बुजुर्गों अथवा गृहस्वामी का शयन कक्ष नैऋत्य कोण में रखना चाहिए क्यों कि नैऋत्य को दसों दिशाओं में करुणामयी दिशा कहा जाता है अतः यह दिशा हर प्रकार से गृह स्वमी व बुजुर्गों के लिए लाभकारी है।

।।इति शुभम्।।
।।आचार्य स्वामी विवेकानन्द।।
।।ज्योतिर्विद, वास्तुविद व रसर कथा व्यास।।
।।श्री अयोध्या धाम।।
संपर्कसूत्र:-9044741252

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

इमरान खान का मोदी सरकार पर साधा निशाना, कहा- ‘भारत के अहंकारी और नकारात्‍मक जवाब से निराश हूं’

पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने शनिवार को नरेंद्र