शहीदी स्मारर्कों पर टायरों से फूल बांध चढ़ाए,हरकत में पुलिस

- in हेल्थ

फिरोजपुर(कुमार) हुसैनीवाला स्थित शहीदी स्मारर्कों पर असामाजिक तत्वों द्वारा टायरों के ऊपर फूल मालाएं बांध कर श्रद्धांजलि देने का मामला सामने आया है। शहीदी स्मारर्कों पर इस तरह की हरकत से विवाद खड़ा हो गया है। मौके पर पहुंचे डीसी रामवीर सिंह ने कहा है कि वीडियो फुटेज की जांच हो रही है जिसके बाद कड़ी कार्रवाई की जाएगी। बता दें कि 23 मार्च को शहीद भगत सिंह राजगुरु तथा सुखदेव का शहीदी दिवस मनाया गया था जिसे लेकर शहीदों को श्रद्धांजलि भेंट की गई जिस दौरान कोई स्मारर्कों पर टायरों पर फूल चढ़ गया जिससे शहर में रोष है।

PunjabKesari

वहीं इस तरह की घटना से पंजाब सरकार और जिला फिरोजपुर प्रशासन के लिए बहुत बड़ी चिंता का विषय बन गया है। अलग-अलग संगठनों ने इस बात को लेकर भारी रोष व्यक्त करते कहा है कि यह घटिया इंतजामों का नतीजा है।  इस तरह की हरकत से  शहीदों के परिवारिक सदस्यों और देश भक्तों ने भी गहरी चिंता प्रकट की है। 

क्या इसलिए शहीद हंसते-हंसते फांसी पर चढ़े थे?
शहीद-ए-आजम स.भगत सिंह के पोत्र और शहीद भगत सिंह ब्रिगेड के राष्ट्रीय प्रदान यादविन्द्र सिंह संधू ने इस घटना पर गहरा दुख व्यक्त करते कहा कि यह शर्मसार घटना है जिस कारण हमारे परिवारों में भारी रोष है।  संधू ने कहा कि शहीद भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव और बी.के दत्त आदि ने क्या इसलिए हसंते-हंसते अपनी शहादतें थी? उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने भी शहीदों के समारकों पर यह फूल लगाकर टायर रखे है। उन्होंने यह बहुत बड़ा पाप और गुनाह किया है । यह समूह समाज के लिए बहुत बड़ी शर्म की बात है। 

अधिकारी भी अपने फर्ज को लेकर लापरवाह 
संधू ने कहा कि शहीदों का शहीदी दिवस तो मनाया जाता है, मगर उसमें शहीदों के प्रति स्नेह कम नजर आता है। उन्होंने कहा कि शहीदों के परिवारों को भी आने पर उतना सम्मान नहीं मिलता, जितना मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि 23 मार्च को शहीदों के शहीदों दिवस पर प्रबंधों की तरफ से शहीदों के परिवारों को श्रद्धा के फूल भेंट करने के लिए यहां सम्म्मान के साथ बुलाया नहीं जाता। उन्होंने आरोप लगाते कहा कि हमारी सरकारें और कुछ अधिकारी भी अपने फर्ज को लेकर लापरवाही करते है। उन्होंने कहा कि इस घटना की पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह को उच्च स्तरीय जांच करवानी चाहिए और प्रबंधकों में से जिसकी भी लापरवाही साबित हो उसके लिए सजा हो। इस घटना को अंजाम देने वाले के लिए सख्त सजा होनी चाहिए जो भविष्य में सभी के लिए सबक साबित हो। 

पहले ऐसा कभी नहीं हुआ: बापू जतिन्द्र मेहरा
खत्री महा सभा के राष्ट्रीय प्रधान बापू जतिन्द्र मेहरा ने इस घटना की सख्त शब्दों में निंदा करते हुए कहा कि इससे पहले ऐसी शर्मनाक घटना कभी नहीं हुई। उन्होंने कहा कि 88वें शहीदी दिवस पर हुई इस शर्मनाक घटना ने पूरे देश को शर्मसार कर दिया है।  मेहरा ने कहा कि स.भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव, शहीद बीके दत्त और शहीद उधम सिंह जैसे शहीद देश भक्तों की कुर्बानियों की बदौलत ही आज हम आजाद है।  मेहरा ने कहा कि शहीदों के समारकों पर टायरों पर चढ़ाकर फूल रखने वालों का पता लगाकर उन्हें सख्त सजा दी जाए और पता लगाया जाए की प्रबंधों में इतनी बड़ी चूक क्यों हुई। उन्होंने कहा कि इस घटना को गंभीरता से लिया जाए और मुख्यमंत्री खुद इस मामलें को देखे और सख्त कार्रवाई करें।

जिला फिरोजपुर प्रशासन की तरफ से जांच की जा रही है:डी.सी
संपर्क करने पर डी.सी रामवीर ने कहा कि जिला फिरोजपुर प्रशासन की तरफ से इस घटना की जांच की जा रही है और सीसीटीवी कैमरों को खंगाला कर पता लगाया जा रहा है कि यह फूल वाले टायर किसने रखे है। उन्होंने कहा कि जिम्मेवार किसी भी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाएगा। 

 

You may also like

प्रेगनेंसी में इन बीमारियों से बचने के लिए अपनाएं ये डाइट प्लान

प्रेगनेंसी के दौरान एक महिला के शरीर में