मनोहर लाल ने कहा- आज देश के लिए जीना सीखने का नारा देने की आवश्यकता

- in राज्य, हरियाणा

पंचकूला। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने कहा है कि आजादी के आंदोलन में देश के लिए मरना सीखने का नारा दिया गया था, स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद आज देश के लिए जीना सीखने का नारा देने की आवश्यकता है। विश्व की कुछ ताकतें हमारे देश पर बुरी नजर टिकाए हुए है, परंतु विश्व की कोई भी ताकत हमारा बाल भी बाका नहीं कर सकती क्योंकि देश के युवा ऐसी ताकतों को नाको चने चबाने की हिम्मत रखते हैं।

मनोहर लाल ने कहा- आज देश के लिए जीना सीखने का नारा देने की आवश्यकता मुख्यमंत्री आज 87वें शहीदी दिवस पर पंचकूला सेक्टर-11, 15 के चौक पर शहीद भगत सिंह की प्रतिमा का अनावरण करने के बाद उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आज का दिन गौरवशाली एवं ऐतिहासिक है, क्योंकि आज के दिन ही वर्ष 1931 में भगत सिंह, सुखदेव व राजगरु को फांसी के फंदे पर अंग्रेजी हुकुमत द्वारा लटकाया गया था।

मनोहर लाल ने कहा कि देश की आजादी में कोई भी दल चाहे वह गरम दल हो, क्रांति दल हो या नरम दल हो सभी का मकसद देश को अंग्रेजों की गुलामी से आजाद करवाना था। आज एक भगत सिंह नहीं हजारों भगत सिंह पैदा करने का जज्बा हमारी माताओं में है। भारत माता की जय में भी यह भाव छिपा है। उन्होंने कहा कि भारत हमारी माता है और जैसी माता प्यारी होती है वैसी ही हमारी मातृ भूमि है।

बाद में पत्रकारों से बातचीत करते हुए मनोहर लाल ने कहा कि सामूहिक रूप से बैठक कर चर्चा करना व निर्णय लेना भारतीय जनता पार्टी की संस्कृति व परंपरा रही है और पूरा मंत्रिमंडल एकजुट है और प्रदेश के हित के लिए सामूहिक निर्णय लेता है। इससे पूर्व उन्होंने सेक्टर-5 स्थित मैसर्स ताराचंद लॉज्स्टिक सोलुशन लिमिटिड के राष्ट्रीय स्टॉक एक्सचेंज से ऑन लाईन जुडऩे के कार्यक्रम का शुभारंभ भी किया।

You may also like

उत्तर प्रदेश सरकार चीनी मिलों को दिलवाएगी 4,000 करोड़ रुपये का सस्ता कर्ज

उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य की चीनी मिलों